Cover
ब्रेकिंग
दिल्ली सीमा पर डटे किसानों को हटाने पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, CJI बोले- बात करके पूरा हो सकता है मकसद UP के अगले विधानसभा चुनाव में ओवैसी-केजरीवाल बिगाड़ सकते हैं विपक्ष का गणित सावधान! CM योगी का बदला मिजाज, अब कार से करेंगे किसी भी जिले का औचक निरीक्षण संसद का शीतकालीन सत्र नहीं चलाने पर भड़की प्रियंका गांधी पाक सेना ने राजौरी मे अग्रिम चौकियों पर गोलीबारी की संत बाबा राम सिंह की मौत पर कमलनाथ बोले- पता नहीं मोदी सरकार नींद से कब जागेगी गृह मंत्री के विरोध में उतरे पूर्व सांसद कंकर मुंजारे गिरफ्तार, फर्जी नक्सली मुठभेड़ को लेकर तनाव मोबाइल लूटने आए बदमाश को मेडिकल की छात्रा ने बड़ी बहादुरी से पकड़ा कांग्रेस बोलीं- जुबान पर आ ही गया सच, कमलनाथ सरकार गिराने में देश के PM का ही हाथ EC का कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश, चुनाव में पैसे के गलत इस्तेमाल का आरोप

आरएसएस ने शाखा एप को किया अपडेट, सरसंघचालकों और आंबेडकर के विचारों को किया समाहित

बिलासपुर। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने शाखा एप को अपडेट कर दिया है। एप में संघ के सभी सरसंघचालकों और संविधान निर्माता डा. भीमराव आंबेडकर के विचारों को समाहित किया गया है। इसके अलावा संघ से संबंधित जानकारी भी विस्तार से दी गई है।

संघ की विचारधारा को जानने के लिए ‘शाखा’ एप डाउनलोड कर सकते हैं

संघ की विचारधारा को जानना है तो अब आप सीधे ‘शाखा’ एप डाउनलोड कर सकते हैं। इसके जरिये संघ से जुड़ी तमाम गतिविधियों का अध्ययन किया जा सकता है। एप में युवाओं को संघ से जोड़ने की जानकारी भी दी गई है। इसके अलावा गीत, सुभाषित, अमृत वचन का संग्रह, प्रार्थना, खेल, बड़ी कहानी व बोधकथा और समाचार समीक्षा आदि के फीचर इसमें हैं।

शाखा एप में यह विषय भी शामिल किए गए

एप तकनीकी रूप से पहले के मुकाबले तेजी से काम कर रहा है। बौद्धिक में रक्षाबंधन उत्सव, हिंदू साम्राज्य दिवस, सरसंघचालक का उद्बोधन, बौद्धिक बिंदु, राष्ट्रवादी पुरुष डा. भीमराव आंबेडकर, सर्वव्यापी व सर्वस्पर्शी कार्य, जाति द्वेषी को संघ में प्रवेश नहीं, देश विभाजन के समय स्वयंसेवकों की भूमिका, ज्योतिबा फुले का स्वाभिमान, आधुनिकीकरण का अर्थ पश्चिमीकरण नहीं है, जैसे विषयों को शामिल किया गया है।

समसामयिक विषयों पर महीने में एक बार हो चर्चा

एप में स्पष्ट रूप से लिखा गया है कि महीने में एक बार अनिवार्य रूप से चर्चा की जाए। इसमें समसामयिक विषयों को शामिल करने पर जोर दिया गया है। विषय स्थानीय से लेकर प्रादेशिक, राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय भी हो सकता है। विषय चयन की स्वतंत्रता स्थानीय पदाधिकारियों को दी गई है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News