Cover
ब्रेकिंग
दिल्ली सीमा पर डटे किसानों को हटाने पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, CJI बोले- बात करके पूरा हो सकता है मकसद UP के अगले विधानसभा चुनाव में ओवैसी-केजरीवाल बिगाड़ सकते हैं विपक्ष का गणित सावधान! CM योगी का बदला मिजाज, अब कार से करेंगे किसी भी जिले का औचक निरीक्षण संसद का शीतकालीन सत्र नहीं चलाने पर भड़की प्रियंका गांधी पाक सेना ने राजौरी मे अग्रिम चौकियों पर गोलीबारी की संत बाबा राम सिंह की मौत पर कमलनाथ बोले- पता नहीं मोदी सरकार नींद से कब जागेगी गृह मंत्री के विरोध में उतरे पूर्व सांसद कंकर मुंजारे गिरफ्तार, फर्जी नक्सली मुठभेड़ को लेकर तनाव मोबाइल लूटने आए बदमाश को मेडिकल की छात्रा ने बड़ी बहादुरी से पकड़ा कांग्रेस बोलीं- जुबान पर आ ही गया सच, कमलनाथ सरकार गिराने में देश के PM का ही हाथ EC का कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश, चुनाव में पैसे के गलत इस्तेमाल का आरोप

निशंक ने छात्रों को दी बड़ी राहत, अब अगले साल से चार बार होगी जेईई मेन, 5 दिन में घोषित होंगे नतीजे

नई दिल्ली। कोरोना संकटकाल में घरों में रहकर पढ़ाई करने वाले छात्रों को सरकार ने बड़ी राहत दी है। इंजीनियरिंग कॉलेजों में दाखिले के लिए अब संयुक्त प्रवेश परीक्षा-मुख्य यानी जेईई-मेन का आयोजन साल में साल बार किया जाएगा। इससे छात्रों को अपना स्कोर सुधारने का मौका मिलेगा, क्योंकि जिस परीक्षा में ज्यादा अंक होंगे, उसे ही माना जाएगा। इसकी शुरुआत अगले साल से यानी वर्ष 2021 से हो रही है।

23-26 फरवरी के बीच होगी पहली संयुक्त प्रवेश परीक्षा

पहली परीक्षा 23 से 26 फरवरी के बीच होगी, जबकि अगली परीक्षाएं मार्च, अप्रैल और मई महीने में कराई जाएंगी। अभी तक साल में दो बार जेईई मेन का आयोजन होता था।

आखिरी परीक्षा के बाद पांच दिन के भीतर घोषित कर दिए जाएंगे नतीजे

प्रत्येक परीक्षा की अवधि के खत्म होने के पांच दिन के भीतर परिणाम भी घोषित कर दिए जाएंगे। केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने बुधवार को इसकी घोषणा की।

निशंक ने कहा- जेईई-मेन की परीक्षा फरवरी, मार्च, अप्रैल और मई में होगी

निशंक ने बताया कि छात्रों के साथ ही विभिन्न संबंधित पक्षों से तमाम सुझाव मिले थे, जिस पर गौर करने के बाद यह तय किया गया है कि जेईई-मेन का आयोजन चार सत्रों-फरवरी, मार्च, अप्रैल और मई में किया जाएगा। इस परीक्षा के आधार पर ही अभ्यर्थियों का चयन जेईई एडवांस के लिए होता है। इसके आधार पर आइआइटी में प्रवेश दिया जाता है।

उत्तर प्रदेश के इंजीनियरिंग कालेजों में भी अब जेईई मेन से दाखिला

उत्तर प्रदेश ने भी जेईई मेन के आधार पर अपने इंजीनियरिंग कालेजों में दाखिला देने की सहमति दे दी है। अभी तक वह अपने इंजीनियरिंग कालेजों में प्रवेश के लिए राज्य स्तरीय प्रवेश परीक्षा आयोजित कराता था।

90 में से 75 सवालों के जवाब देने का विकल्प 

केंद्रीय मंत्री निशंक ने बताया कि अभ्यर्थियों को एक और बड़ी राहत दी गई है। परीक्षार्थियों के सामने 90 में से 75 सवालों (भौतिकी, रसायन और गणित में 25-25 सवाल) के जवाब देने का विकल्प होगा। 15 अतिरिक्त प्रश्न होंगे, उनमें माइनस मार्किंग भी नहीं होगी। यानी इन 15 प्रश्नों के गलत होने पर भी नंबर नहीं कटेंगे।

पहली बार 13 भाषाओं में होगी मुख्य परीक्षा

कोरोना संकट के बीच नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) ने अभ्यर्थियों को राहत देते हुए जेईई मेन अंग्रेजी सहित 13 भाषाओं में कराने की भी अनुमति दी है। इनमें अंग्रेजी के अलावा हिंदी, गुजराती, असमी, उर्दू, बंगाली, कन्नड़, मराठी, मलयालम, उडि़या, पंजाबी, तमिल और तेलगू शामिल है। अभी तक यह अंग्रेजी, हिंदी और गुजराती में होती थी।

16 जनवरी तक कर सकेंगे आवेदन 

अगले साल फरवरी में आयोजित होने वाले जेईई मेन के पहले सत्र के लिए ऑनलाइन आवेदन करने करने का काम शुरू हो गया है। 16 जनवरी तक इसके लिए आवेदन कर सकेंगे। फरवरी के दूसरे हफ्ते में प्रवेश पत्र डाउनलोड किए जा सकेंगे। वहीं परीक्षा 23 से 26 फरवरी के बीच होगी। जबकि मार्च में यह परीक्षा 15 से 18, अप्रैल में यह परीक्षा 27 से 30 और मई में यह 24 से 28 तारीख के बीच होगी।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News