Cover
ब्रेकिंग
दिल्ली सीमा पर डटे किसानों को हटाने पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, CJI बोले- बात करके पूरा हो सकता है मकसद UP के अगले विधानसभा चुनाव में ओवैसी-केजरीवाल बिगाड़ सकते हैं विपक्ष का गणित सावधान! CM योगी का बदला मिजाज, अब कार से करेंगे किसी भी जिले का औचक निरीक्षण संसद का शीतकालीन सत्र नहीं चलाने पर भड़की प्रियंका गांधी पाक सेना ने राजौरी मे अग्रिम चौकियों पर गोलीबारी की संत बाबा राम सिंह की मौत पर कमलनाथ बोले- पता नहीं मोदी सरकार नींद से कब जागेगी गृह मंत्री के विरोध में उतरे पूर्व सांसद कंकर मुंजारे गिरफ्तार, फर्जी नक्सली मुठभेड़ को लेकर तनाव मोबाइल लूटने आए बदमाश को मेडिकल की छात्रा ने बड़ी बहादुरी से पकड़ा कांग्रेस बोलीं- जुबान पर आ ही गया सच, कमलनाथ सरकार गिराने में देश के PM का ही हाथ EC का कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश, चुनाव में पैसे के गलत इस्तेमाल का आरोप

असम में बंद होंगे सरकारी मदरसे, शिक्षा मंत्री बोले-सरकार के पैसों से सिर्फ कुरान नहीं पढ़ाई जा सकती

असम की भाजपा सरकार ने मदरसों को लेकर बड़ा फैसला लिया है। असम के विधायक और राज्य के शिक्षा मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ऐलान करते हुए कहा कि नवंबर में सभी राज्य संचालित मदरसों को बंद करने के बारे में एक अधिसूचना जारी की जाएगी। उन्होंने कहा कि राज्य में लगभग 100 संस्कृत स्कूल भी बंद हो जाएंगे। हेमंता बिस्वा ने कहा कि सभी राज्य सरकार द्वारा संचालित मदरसों को स्कूल में बदल दिया जाएगा और कुछ मामलों में टीचर्स को सरकारी स्कूल में शिफ्ट करके मदरसा बंद किया जाएगा, इसके लिए नवंबर में नोटिफिकेशन निकाल दिया जाएगा

शिक्षा मंत्री ने कहा कि सरकारी पैसों पर सिर्फ कुरान को नहीं पढ़ाया जा सकता, अगर ऐसा होता है तो बाइबिल और गीता को भी पढ़ाना चाहिए, ऐसे में सरकार ने इस प्रक्रिया को बंद करने का फैसला किया है। राज्य मदरसा शिक्षा बोर्ड (SMEB) के अनुसार राज्य में 600 से ज्यादा ऐसे मदरसे हैं जो पूरी तरह से सरकार द्वारा ही चलाए जाते हैं। SMEB की वेबसाइट के मुताबिक इनमें से 400 उच्च मदरसे हैं, 112 जूनियर उच्च मदरसे हैं और शेष 102 वरिष्ठ मदरसे हैं। कुल मान्यता प्राप्त मदरसों में से 57 लड़कियों के लिए हैं, 3 लड़कों के लिए हैं और 554 सह-शैक्षिक हैं। 17 मदरसे उर्दू माध्यम से चल रहे हैं।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News