Cover
ब्रेकिंग
दिल्ली सीमा पर डटे किसानों को हटाने पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, CJI बोले- बात करके पूरा हो सकता है मकसद UP के अगले विधानसभा चुनाव में ओवैसी-केजरीवाल बिगाड़ सकते हैं विपक्ष का गणित सावधान! CM योगी का बदला मिजाज, अब कार से करेंगे किसी भी जिले का औचक निरीक्षण संसद का शीतकालीन सत्र नहीं चलाने पर भड़की प्रियंका गांधी पाक सेना ने राजौरी मे अग्रिम चौकियों पर गोलीबारी की संत बाबा राम सिंह की मौत पर कमलनाथ बोले- पता नहीं मोदी सरकार नींद से कब जागेगी गृह मंत्री के विरोध में उतरे पूर्व सांसद कंकर मुंजारे गिरफ्तार, फर्जी नक्सली मुठभेड़ को लेकर तनाव मोबाइल लूटने आए बदमाश को मेडिकल की छात्रा ने बड़ी बहादुरी से पकड़ा कांग्रेस बोलीं- जुबान पर आ ही गया सच, कमलनाथ सरकार गिराने में देश के PM का ही हाथ EC का कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश, चुनाव में पैसे के गलत इस्तेमाल का आरोप

फडणवीस की पत्नी का उद्धव पर निशाना, कहा- शराब की दुकानों को खोलने की छूट है, लेकिन मंदिर खतरनाक जोन में!

मुंबई: महाराष्ट्र में मंदिर खोलने को लेकर सियासत तेज हो गई है। इसी बीच अब पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता ने सीएम उद्धव ठाकरे पर ट्वीट के जरिए हमला किया है। अमृता ने बुधवार को ट्वीट किया कि महाराष्ट्र में बार और शराब की दुकानों को खोलने की छूट है, लेकिन मंदिर खतरनाक जोन में हैं। भरोसा न कर पाने वाले लोगों को सर्टिफिकेट देकर खुद को साबित करना होता है, ऐसे लोग स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर (एसओपी) को लागू करवाने में नाकाम रहते हैं।

राज्यपाल ने लिखी उद्धव ठाकरे को चिट्टी
इससे पहले भाजपा कार्यकत्र्ताओं के सिद्धिविनायक मंदिर के सामने प्रदर्शन के बाद राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने भी बंद पड़े धर्मस्थलों को खुलवाने को लेकर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को चिट्टी लिखी है। कोश्यारी ने बंद पड़े धर्मस्थलों को खुलवाने पर विचार करने को कहा। साथ ही उन्होंने तंज कसते हुए पूछा है कि क्या उद्धव को ईश्वर की ओर से कोई चेतावनी मिली है कि धर्मस्थलों को दोबारा खोले जाने को टालते रहा जाए या फिर वह सैक्युलर हो गए हैं। राज्यपाल कोश्यारी ने पत्र में आगे लिखा है कि दुर्भाग्य है कि आपने एक बार फिर पूजा स्थलों को खोलने पर लगा प्रतिबंध बढ़ा दिया है। यह विडंबना है कि एक तरफ सरकार ने बार, रैस्टोरेंट्स और समुद्री बीच खोल दिए हैं, वहीं दूसरी तरफ देवी-देवता लॉकडाऊन में रहने को अभिशप्त हैं।वहीं मंगलवार को सैंकड़ों भाजपा कार्यकत्र्ता सिद्धिविनायक मंदिर के बाहर पहुंचे और मंदिर खुलवाने के लिए सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। कार्यकत्र्ताओं का कहना था कि महाराष्ट्र सरकार श्रद्धालुओं के लिए मंदिर नहीं खोल रही है जबकि अन्य सारी सेवाएं और प्रतिष्ठान सभी खोल दिए गए हैं।

विवाद में शरद और राउत भी कूदे  
राकांपा के प्रमुख शरद पवार भी मंदिर को लेकर जारी विवाद में कू द पड़े। उन्होंने इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्टी लिखी है। शरद ने कहा कि  प्रदेश में कई धार्मिक स्थल हैं, जहां बड़ी संख्या में भीड़ एकत्रित होती है, ऐसे में वहां दो गज की दूरी का पालन कराना असंभव होगा। उधर शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि राज्यपाल का पत्र साबित करता है कि वह भारत के संविधान का पालन करने के लिए तैयार नहीं हैं।

गुंडों ने बार-रैस्टोरैंट्स खोले हुए हैं पर मंदिर नहीं: कंगना
मुंबई में ग्रिड फेल होने के बाद भी कंगना ने सत्ता में मौजूद शिवसेना पर तंज कसा था और अब महाराष्ट्र के गवर्नर द्वारा महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की आलोचना के बाद कंगना ने भी उद्धवपर निशाना साधा है। कंगना ने कहा- यह जानकर अच्छा लगा कि गुंडा सरकार से माननीय गवर्नर साहब सवाल पूछ रहे हैं। गुंडों ने बार और रैस्टोरैंट्स को तो खोल रखा है लेकिन रणनीति के हिसाब से मंदिरों को बंद कर रखा है।

सीएम बोले-आपसे नहीं चाहिए हिंदुत्व का सर्टिफिकेट
महाराष्ट्र के सी.एम. उद्धव ने राज्यपाल कोश्यारी के आरोपों पर जवाब देते कहा है कि जिस तरह से एकदम से लॉकडाऊन लगाना उचित नहीं था, उसी तरह से उसे पूरी तरह से समाप्त करना भी ठीक नहीं है। एक बार में इसे पूरी तरह से रद्द करना भी अच्छी बात नहीं होगी। उद्धव ने खुद को सैक्युलर कहे जाने पर राज्यपाल पर पलटवार करते हुए कहा कि हां, मैं हिंदुत्व का अनुसरण करता हूं, मुझे आपसे हिंदुत्व का सर्टिफिकेटनहीं चाहिए।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News