Cover
ब्रेकिंग
दिल्ली सीमा पर डटे किसानों को हटाने पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, CJI बोले- बात करके पूरा हो सकता है मकसद UP के अगले विधानसभा चुनाव में ओवैसी-केजरीवाल बिगाड़ सकते हैं विपक्ष का गणित सावधान! CM योगी का बदला मिजाज, अब कार से करेंगे किसी भी जिले का औचक निरीक्षण संसद का शीतकालीन सत्र नहीं चलाने पर भड़की प्रियंका गांधी पाक सेना ने राजौरी मे अग्रिम चौकियों पर गोलीबारी की संत बाबा राम सिंह की मौत पर कमलनाथ बोले- पता नहीं मोदी सरकार नींद से कब जागेगी गृह मंत्री के विरोध में उतरे पूर्व सांसद कंकर मुंजारे गिरफ्तार, फर्जी नक्सली मुठभेड़ को लेकर तनाव मोबाइल लूटने आए बदमाश को मेडिकल की छात्रा ने बड़ी बहादुरी से पकड़ा कांग्रेस बोलीं- जुबान पर आ ही गया सच, कमलनाथ सरकार गिराने में देश के PM का ही हाथ EC का कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश, चुनाव में पैसे के गलत इस्तेमाल का आरोप

कार्टूनिस्ट रचिता तनेजा के खिलाफ अवमानना की कार्यवाही शुरू करने की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका

नई दिल्‍ली। अटॉर्नी जनरल (Attorney General) केके वेणुगोपाल (KK Venugopal) की ओर से कार्टूनिस्ट रचिता तनेजा (Rachita Taneja) के खिलाफ आपराधिक अवमानना की कार्यवाही शुरू करने की मंजूरी दिए जाने के बाद कानून के एक छात्र ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है। यचिका में कार्टूनिस्ट रचिता तनेजा (Rachita Taneja) के खिलाफ आपराधिक अवमानना की कार्यवाही शुरू की मांग की गई है।

समाचार एजेंसी पीटीआइ की रिपोर्ट के मुताबिक, रचिता तनेजा के खिलाफ यह याचिका उच्चतम न्यायालय के खिलाफ उनके कथित आपत्तिजनक ट्वीट को लेकर दायर की गई है। अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने इसी हफ्ते तनेजा के खिलाफ अवमानना की कार्यवाही शुरू करने को मंजूरी दी थी। कानून के छात्र आदित्य कश्यप की ओर से शनिवार को यह अवमानना याचिका दायर की गई।

अधिवक्ता नमित सक्सेना ने इस याचिका में दावा किया है कि तनेजा की पोस्ट वायरल हो गई। इस पोस्‍ट को न्यायपालिका पर हमला बोलने वालों की ओर से जमकर साझा किया गया। अधिवक्‍ता ने कहा है कि आपराधिक अवमानना कार्यवाही शुरू करने के लिए अटॉर्नी जनरल ने अपनी लिखित सहमति में स्‍पष्‍ट रूप से कहा है कि इन पोस्ट का मकसद न्‍यायपालिका की छवि चोट पहुंचाना है।

मालूम हो कि किसी के खिलाफ अवमानना कार्यवाही शुरू करने के लिए अटॉर्नी जनरल या सॉलिसीटर जनरल की मंजूरी या सहमति जरूरी होती है। सर्वोच्‍च न्‍यायालय की आपराधिक अवमानना पर दो हजार रुपये का जुर्माना और छह महीने तक की कैद की सजा तक का प्रावधान है। हाल ही में शीर्ष अदालत की ओर से चर्चित अधिवक्‍ता प्रशांत भूषण को उनके दो ट्वीट को लेकर अदालत की अवमानना का दोषी ठहराया था।

सुप्रीम कोर्ट ने 31 अगस्त को प्रशांत भूषण पर एक रुपये का सांकेतिक जुर्माना भी लगाया था। इसके बाद भूषण ने कहा था कि सर्वोच्‍च अदालन की ओर से लगाए गए एक रुपये के सांकेतिक जुर्माने को अदा करने का मतलब यह नहीं है कि उन्होंने शीर्ष अदालत का फैसला स्वीकार कर लिया है। हालांकि भूषण जुर्माने का एक रुपया 14 सितंबर को शीर्ष अदालत की रजिस्ट्री में जमा करा दिया था।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News