Cover
ब्रेकिंग
जम्मू-कश्मीर में नए भूमि कानून के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंचे सीपीआइ नेता तारीगामी लखनऊ का म्युनिसिपल बॉण्ड BSE में सूचीबद्ध, मुंबई में सीएम योगी आदित्यनाथ ने किया लॉन्च नवंबर में 1.05 लाख करोड़ रुपये का जीएसटी संग्रह, वित्त मंत्रालय ने दी जानकारी अमेरिका के इस सीरियल किलर की कहानी पढ़कर दंग रह जाएंगे आप, FBI के भी हाथ छोटे पड़े 24 घंटे में कोरोना के 36,604 नए मामले, अब तक 88 लाख लोग हुए ठीक किसान आंदोलन के कारण कौन-कौन सी ट्रेन कैंसिल हुई है, जानें उसकी पूरी लिस्ट 4 दिसंबर को दक्षिण तमिलनाडु से टकराएगा चक्रवात बुरेवी, IMD ने जारी किया भारी बारिश का अलर्ट सिंघु बॉर्डर पर किसानों ने लगाए टेंट, बैरिकेड के पास शुरू किया खाना बनाना; दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर भी प्रदर्शन शुरू सर्द हवाओं से लौटी ठंड, तीन दिन बाद बढ़ेगा रात का तापमान, जानिए और क्या कहता है मौसम विभाग यूपी के प्राइवेट अस्पतालों तथा लैब में अब बेहद सस्‍ते में होगा Covid 19 Test, तीन गुना दाम घटाए

बिहार चुनाव में सेशेल्स के राष्ट्रपति की हुई एंट्री, रामकलावन का नाम लेकर मोदी ने खुद को भोजपुरी माटी से जोड़ा

गोपालगंज। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को छपरा में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए सेशेल्स के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति वैवेल रामकलावन को बधाई दी। मोदी ने कहा कि बिहार की प्रतिभाओं ने देश-विदेश हर जगह परचम लहराया है। रामकलावन भी इसी बिहार के हैं। रामकलावन के पूर्वज बिहार के गोपालगंज जिले के थे। करीब 135 साल पहले उनके परदादा मॉरीशस चले गए थे। फिर वहां से सेशेल्स।

दो साल पहले गोपालगंज पहुंचे थे रामकलावन

रामकलवान दो साल पहले 2018 में अपने पूर्वजों के गांव ढूंढते हुए बिहार आए थे। वे गोपालगंज जिले के बरौली प्रखंड के परसौनी गांव पहुंचे। यही उनके पूर्वजों का गांव है। उनके परिवार के 82 वर्षीय रघुनाथ महतो की आंखों में खुशी छलक रही है। वे बताते हैं कि उनके पूर्वज तब नमक का कारोबार करने के लिए घर से कोलकाता गए थे। रामकलावन के पूर्वज वहां से मॉरीशस चले गए। यह 135 साल पहले की बात होगी। यादों में अपने पिता से सुने किस्से हैं, थोड़ी बहुत धुंधली स्मृतियां हैं। आज इस गांव का बेटा सेशेल्स का राष्ट्रपति बना है तो बहुत अच्छा लग रहा है। गंडक नदी के तटबंध पर बसे परसौनी गांव के नोनिया टोली में खुशी छलक रही है

तब थे नेता प्रतिपक्ष, अब राष्ट्राध्यक्ष 

परसाैनी गांव में रघुनाथ महतो के घर परिवार के लोग मेहनत मजदूरी कर आजीविका चलाते हैं। गांव में ही छोटी सी दुकान है। परिवार अब बड़ा हो चुका है, वे लोग अभी भी करकट के झोपड़ीनुमा घर में ही रहते हैं। इसी परिवार के सदस्य त्रिलोकी महतो हैं। वे शिक्षक हैं। वे बताते हैं कि रामकलावन जब दो साल पहले आए थे तो सेशेल्स की नेशनल असेंबली में नेता प्रतिपक्ष थे। उन्होंने कहा था कि अगली बार राष्ट्राध्यक्ष बनकर आएंगे। साथ ही अपने तीन बेटों को लेकर भी आएंगे, ताकि वे अपने पूर्वजों के गांव को देख सकें। लोग अब उनके आने का इंतजार कर रहे हैं।

परसाैनी गांव बम-बम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने छपरा की रैली में सेशेल्स के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति वैवेल रामकलावन और उनके पूर्वजों का जिक्र किया तो इसका सीधा असर गोपालगंज जिले के बराैली प्रखंड के परसौनी गांव में दिखा। रामकेलावन का नाम सुन गांव के लोगों के चेहरे पर मुस्कान बिखर गया। प्रधानमंत्री ने रामकेलावन के माध्यम से गोपालगंज के मतदाताओं से खुद को सीधा कनेक्ट किया।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News