चीन के साथ जारी संघर्ष और तनाव के बीच ऐसे करीब आ रहे हैं भारत और ताइवान, रिपोर्ट में बड़ा दावा

वाशिंगटन। चीन और ताइवान के बीच फिलहाल तनाव जारी है। चीन ने दक्षिण-पूर्वी तट में पीपुल्स लिबरेशन आर्मी की तैनाती को बढ़ा दिया है। चीन ने कहा है कि ताइवान के संभावित सैन्य आक्रमण के लिए वह पूरी तरह से तैयार है। एक तरफ जहां चीन और ताइवान के बीच संघर्ष और तनाव जारी है तो दूसरी ओर भारत और ताइवान एक दूसरे के करीब आ रहे हैं। एक रिपोर्ट में इस बात का दावा किया है। द डिप्लोमैट की रिपोर्ट के अनुसार, ताइवान और भारत के बीच कोई औपचारिक राजनयिक संबंध नहीं हैं लेकिन दोनों देशों के लोगों ने चीनी आक्रामकता को झेला है।

जैसा कि हम सब जानते है कि भारत और चीन के बीच फिलहाल सीमा विवाद चल रहा है। इस बीच भारत के लोग ताइवान और हांगकांग में रह रहे लोगों का समर्थन कर रहे हैं। वह मसाला चाय के साथ-साथ ऑनलाइन समर्थक लोकतंत्र “मिल्क टी एलायंस” का एक आसन्न सदस्य बनने के लिए ला रहे हैं। ताइवान के राष्ट्रीय दिवस से पहले भारत में चीनी दूतावास ने भारतीय मीडिया को दिशा-निर्देश भेजे कि ताइवान को कैसे संदर्भित किया जाए। इस कदम से भारत और ताइवान दोनों देश नाराज हो गए।

हाल के वर्षों में चीन ने भी ताइवान के आसपास सैन्य अभ्यास में वृद्धि की है, लगभग 40 चीनी युद्धक विमानों ने 18-19 सितंबर को मुख्य भूमि और ताइवान के बीच की मध्य रेखा को पार किया है। कई में से एक द्वीप के राष्ट्रपति त्साई इंग-वेन को बल का खतरा कहा जाता है।

ताइवान के विदेश मंत्री जोसेफ वू ने 7 अक्टूबर को ट्वीट किया कि ऐसा लग रहा है कि कम्युनिस्ट चीन सेंसरशिप लगाकर उपमहाद्वीप में मार्च करने की उम्मीद कर रहा है। चीनी मांग नवास्तव में, दोनों देशों में ताइवान के राष्ट्रीय दिवस और ताइवान-भारत संबंधों के राज्य के ऑप-एड और समाचार कवरेज की हड़बड़ी पैदा कर दी। भारत में, #TaiwanNationalDay 10 अक्टूबर को पूरे दिन ट्विटर पर ट्रेंड करता रहा। इंटरनेट यूजर्स ने पत्रकारों और राजनेताओं के साथ मिलकर ताइवान को शुभकामनाएं दीं।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News