Cover
ब्रेकिंग
किसानों के समर्थन में अन्ना हजारे, बोले- अन्नदाता की बात सुने सरकार...वो पाकिस्तानी नहीं जेसी बैंक चुनाव: रिकाउंटिंग में भी मजदूर संघ का कब्जा, वाजिद खान और नीलम, कौन बने डायरेक्टर? CA फाइनल ईयर की छात्रा का पेपर अच्छा नहीं हुआ तो लगाया फंदा, सुसाइड नोट में मांगी पेरेंट्स से माफी सिंधिया का जलवा बरकरार, हार के बाद भी मंत्री बनेगी इमरती एक और लव जिहाद: पति उर्दु अरबी पढ़ने का बनाता था दबाव, तरह तरह के पहनाता था ताबीज वीडी शर्मा जल्द करेंगे कार्यसमिति का गठन, 3-4 सिंधिया समर्थकों को मिलेगी जगह शिव ’राज’ में महापाप, पिता-चाचा समेत मासूम के साथ बर्बरता, फिर ट्रैक्टर से रौंदकर हत्या लिफ्ट में फंसे 5 साल के बच्चे की दर्दनाक मौत, CCTV में कैद हुई घटना ओवैसी के गढ़ में गरजे अमित शाह, बाेले- हैदराबाद का अगला मेयर बीजेपी का होगा मुंबईः उर्मिला मातोंडकर की राजनीति में फिर से एंट्री, कल शिवसेना में होंगी शामिल

हां… मैं भूखे-नंगे परिवार से हूं, इसलिए समझता हूं उनका दुख-दर्द : शिवराज सिंह चौहान

भोपाल। मध्य प्रदेश में उप चुनाव से पहले कांग्रेस और भाजपा में जुबानी जंग शुरू हो गई है। इस बीच कांग्रेस नेता दिनेश गुर्जर ने सीएम शिवराज सिंह चौहान को लेकर विवादित बयान दिया। कांग्रेस नेता द्वारा अपने उपर की गई टिप्पणी पर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने जवाब दिया है। शिवराज सिंह ने कहा है कि हां मैं भूखे नंगे परिवार से हूं, इसी लिए उनका दुःख-दर्द समझता हूं।

शिवराज सिंह ने ट्वीट कर कहा, ‘हां… मैं ‘नंगे-भूखे’ परिवार से हूं, इसी लिए उनका दुःख-दर्द समझता हूं। हां…मैं गरीब हूं इसी लिए गरीब बेटे-बेटियों को मामा बन पढ़ाता हूं। गरीब हूं इसी लिए गरीब मां-बाप की बेटियों का कन्यादान करता हूं। गरीब हूं, इसी लिए हर गरीब का दर्द समझता हूं… प्रदेश को समझता हूं।

कांग्रेस नेता दिनेश गुर्जर ने एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए सीएम शिवराज सिंह को लेकर विवादित बयान दिया था। उन्होनें कहा कि पूर्व सीएम कमलनाथ देश के दूसरे नंबर के उद्योगपति हैं, शिवराज की तरह नंगे-भूखे परिवार के नहीं हैं। शिवराज के पास बमुश्किल 5 एकड़ जमीन हुआ करती थी, लेकिन आज वे हजारों एकड़ जमीन के मालिक हैं जो उन्होंने किसानों का खून पीकर जमा किया है।

दिनेश गुर्जर के बनाय पर प्रदेश भाजपा ने कांग्रेस को आड़े हाथों लिया। मध्य प्रेदश भाजपा के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से कहा गया, ‘यही कांग्रेस की मानसिकता है, यही इनकी पीड़ा और यही इनकी सोच है। एक किसान पुत्र कैसे किसी नामी उद्योगपति के सामने खड़ा हो सकता है? वो किसान पुत्र जो सिर्फ जनता के आगे झुकता हो, जिसका जीवन ही जनसेवा को समर्पित हो। ग़ुलाम मानसिकता के कांग्रेसियों का असली चेहरा सामने आ गया है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News