Cover
ब्रेकिंग
शादी के बाद एक्स ब्वॉयफ्रेंड कुशाल टंडन से टकराईं गौहर ख़ान, दिया ये रिएक्शन राहुल के इटली ट्रिप पर भाजपा का निशाना, शिवराज बोले- स्‍थापना दिवस पर ‘9 2 11’ हो गए, कांग्रेस ने दी सफाई पीएम मोदी, भाजपा के अन्य शीर्ष नेताओं ने दी श्रद्धांजलि दर्ज हुए 20 हजार से अधिक संक्रमण के नए मामले, 279 मौत; जानें अब तक का पूरा आंकड़ा उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र रावत Delhi AIIMS में कराएंगे उपचार, कोरोना से हैं संक्रमित देश की पहली ड्राइवरलेस मेट्रो को पीएम ने दिखाई हरी झंडी, दिल्ली में रफ्तार भरने लगी ट्रेन किसान नेता राकेश टिकैत को फोन पर मिली जान से मारने की धमकी, जांच में जुटी पुलिस Year 2021- नया साल लेकर आ रहा ग्रहण के चार गजब नजारे, पूर्ण चंद्रग्रहण से होगी शुरुआत शीतकालीन सत्र पर बोले नरोत्तम, सरकार की कोशिश कि इसे न टाला जाए, कांग्रेस पर भी साधा निशाना MP के इस गांव में न सड़क है न कोई सुविधा, खाट पर रखकर ग्रामीण 3 KM ले गए शव

शिया समुदाय पर बढ़ रहे अत्याचार को लेकर भारतीय थिंक टैंक ने पाक के खिलाफ दायर की याचिका

भारतीय थिंक-टैंक ने संयुक्त राष्ट्र के महासचिव और संयुक्त राष्ट्र के शीर्ष अधिकारियों को पाकिस्तान के खिलाफ  याचिकाएं भेजी हैं। आरोप है कि पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों पर अत्याचार किया जाता है और जम्मू-कश्मीर में पाक समर्थित आतंकवादी समूहों द्वारा निर्दोष नागरिकों और राजनीतिक कार्यकर्ताओं की हत्या की जाती हैै।

उदयपुर स्थित थिंक टैंक उस्ना फाउंडेशन ने 22 सितंबर को संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गटरेस को पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की बिगड़ती स्थिति और अपने अधिकारों के उल्लंघन पर एक याचिका भेजी। पत्र की एक प्रति मानवाधिकार के लिए संयुक्त राष्ट्र के मिशेल बेचेलेट को भी भेजी गई थी।

इस पत्र में पाकिस्तान में शिया समुदाय के अत्याचारों पर ध्यान केंद्रित किया गया, हाल ही में सुन्नी चरमपंथी विरोध मार्च के एक विशेष संदर्भ में ईशनिंदा के लिए शियाओं को मारने की मांग की। 12 सितंबर की याचिका में उल्लेख किया गया था, सुन्नी चरमपंथ से जुड़े प्रदर्शनों सहित हजारों शिया विरोधी प्रदर्शनकारियों ने पाकिस्तान के कराची में रैली की। प्रदर्शनकारियों ने सुन्नी के झंडे लहराए और सुन्नी-शक्ति के नारे लगाए।

एक रिपोर्ट्स के मुताबिक, पाकिस्तान में पिछले पांच सालों में शिया मुसलमानों के खिलाफ हिंसा काफी बढ़ गई है। इस दौरान सैकड़ों की संख्या में शिया मुसलमानों की हत्या कर दी गई। हत्या करने के बाद हत्यारे खून से ही शियाओं के घर के बाहर शिया काफिर हैं’ भी लिखते हैं। इसके अलावा कई शिया समुदाय के युवा, महिलाएं अभी लापता हैं।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News