Cover
ब्रेकिंग
दिल्ली सीमा पर डटे किसानों को हटाने पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, CJI बोले- बात करके पूरा हो सकता है मकसद UP के अगले विधानसभा चुनाव में ओवैसी-केजरीवाल बिगाड़ सकते हैं विपक्ष का गणित सावधान! CM योगी का बदला मिजाज, अब कार से करेंगे किसी भी जिले का औचक निरीक्षण संसद का शीतकालीन सत्र नहीं चलाने पर भड़की प्रियंका गांधी पाक सेना ने राजौरी मे अग्रिम चौकियों पर गोलीबारी की संत बाबा राम सिंह की मौत पर कमलनाथ बोले- पता नहीं मोदी सरकार नींद से कब जागेगी गृह मंत्री के विरोध में उतरे पूर्व सांसद कंकर मुंजारे गिरफ्तार, फर्जी नक्सली मुठभेड़ को लेकर तनाव मोबाइल लूटने आए बदमाश को मेडिकल की छात्रा ने बड़ी बहादुरी से पकड़ा कांग्रेस बोलीं- जुबान पर आ ही गया सच, कमलनाथ सरकार गिराने में देश के PM का ही हाथ EC का कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश, चुनाव में पैसे के गलत इस्तेमाल का आरोप

किसानों के साथ रेसलर खली, सोशल मीडिया के जरिए लोगों से की मदद की अपील

नई दिल्‍ली। कृषि कानूनों के विरोध में किसानों के आंदोलन का गुरुवार को आठवां दिन है। इन किसानों के समर्थन में पंजाबी गायकों व अभिनेताओं के बाद आज मशहूर रेसलर ‘द ग्रेट खली’ सामने आए हैं। उन्‍होंने सोशल मीडिया के जरिए पिछले सात दिनों से आंदोलन कर रहे किसानों के प्रति अपना समर्थन जताया है। सिद्धू मूसूवाला और बबलू मान समेत कई पंजाबी गायकों और अभिनेताओं ने किसानों के विरोध का समर्थन किया है। गायक कंवर ग्रेवाल और हार्फ चीमा दिल्ली की सीमा पर विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए हैं। उत्‍तर भारत के लोकप्रिय गायक जसबीर जस्सी ने भी किसानों के इस आंदोलन के प्रति समर्थन जताया है।

इंस्‍टाग्राम पर खली की अपील- 

 पेशेवर रेसलर दलीप सिंह राना उर्फ द ग्रेट खली (wrestler Dalip Singh Rana/The Great Khali)  ने इंस्‍टाग्राम पर एक वीडियो में  देश की जनता से किसानों के लिए समर्थन की अपील की है। मानसून सत्र में पारित किए गए तीन कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलन के लिए पंजाब और हरियाणा से हजारों किसान दिल्‍ली आए हैं और यह यहां कैंप लगा सरकार से इसकी वापसी की मांग कर रहे हैं। खली ने वीडियो के जरिए कहा, ‘ये लोग किसानों से 2 रुपये प्रति किलो की दर से  अनाज खरीदेंगे और 200 रुपये प्रति किलो की दर से बेचेंगे। इस कानून से दैनिक मजदूरी श्रमिकों, रेहड़ी विक्रेताओं को भी नुकसान होगा। आम आदमी को नुकसान होगा। मैं सभी से किसानों का समर्थन करने की अपील करूंगा ताकि केंद्र सरकार इस कानून को वापस ले। सरकार इनकी मांगों को स्वीकार करने के लिए मजबूर हो।’ उन्‍होंने आगे कहा, ‘केंद्र के लिए हरियाणा और पंजाब के किसानों से निपटना कठिन होगा। ये किसान अपने साथ 6 महीने का राशन लेकर आए हैं और जब तक सरकार इनकी मांग को मंजूरी नहीं देती है यह आंदोलन नहीं रुकेगा।’

पिछले सप्‍ताह अपनी मांग को लेकर पंजाब और हरियाणा के हजारों किसानों ने ‘दिल्‍ली चलो’ रैली निकाली। रैली को काबू करने के लिए तैनात जवानों से इनकी झड़प भी हुई। केंद्र सरकार की ओर से किसानों को दिल्ली के बुराड़ी  जाने का प्रस्‍ताव दिया गया लेकिन किसानों ने इनकार कर दिया। उल्‍लेखनीय है कि आंदोलनकारी किसानों के प्रतिनिधियों ने मंगलवार को केंद्रीय मंत्रियों नरेंद्र तोमर और पीयूष गोयल से मुलाकात की, लेकिन गतिरोध को हल नहीं किया जा सका।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News