Cover
ब्रेकिंग
दिल्ली सीमा पर डटे किसानों को हटाने पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, CJI बोले- बात करके पूरा हो सकता है मकसद UP के अगले विधानसभा चुनाव में ओवैसी-केजरीवाल बिगाड़ सकते हैं विपक्ष का गणित सावधान! CM योगी का बदला मिजाज, अब कार से करेंगे किसी भी जिले का औचक निरीक्षण संसद का शीतकालीन सत्र नहीं चलाने पर भड़की प्रियंका गांधी पाक सेना ने राजौरी मे अग्रिम चौकियों पर गोलीबारी की संत बाबा राम सिंह की मौत पर कमलनाथ बोले- पता नहीं मोदी सरकार नींद से कब जागेगी गृह मंत्री के विरोध में उतरे पूर्व सांसद कंकर मुंजारे गिरफ्तार, फर्जी नक्सली मुठभेड़ को लेकर तनाव मोबाइल लूटने आए बदमाश को मेडिकल की छात्रा ने बड़ी बहादुरी से पकड़ा कांग्रेस बोलीं- जुबान पर आ ही गया सच, कमलनाथ सरकार गिराने में देश के PM का ही हाथ EC का कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश, चुनाव में पैसे के गलत इस्तेमाल का आरोप

RICS सम्मलेन आज- जानिए कौन-से देश हैं शामिल और क्या है उद्देश्य

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को 12वें ब्रिक्स (BRICS) शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे। ब्रिक्स सम्मेलन का आयोजन वर्चुअल के जरिए होगा। इससे पहले साल 2019 में 11वें ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए पीएम ब्राजील गए थे। इस बार कोरोना महामारी के लिए यह सम्मेलन वर्चुअली हो रहा है। इस बार ब्रिक्स सम्‍मेलन में आतंकवाद, व्यापार, स्वास्थ्य, ऊर्जा के साथ ही कोरोना के कारण हुए नुकसान की भरपाई के उपायों जैसे मुद्दों पर चर्चा होगी।

क्या है BRICS
ब्रिक्स पांच देशों का एक समूह है और इसका गठन साल 2009 में किया गया था। इस समूह में ( ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका) देश शामिल हैं। इस समूह पर सबसे पहले चर्चा 2001 में गोल्डमैन सैश के अर्थशास्त्री जिम ओ नील द्वारा ब्राजील, रूस, भारत और चीन की
अर्थव्यवस्थाओं के लिए विकास की संभावनाओं पर एक रिपोर्ट में की गई थी। लेकिन पहला ब्रिक  (BRIC) सम्मेलन 2009 में रूस के येकतेरिनबर्ग में हुआ था। इस समूह को ब्राजील, रूस, भारत और चीन देशों द्वारा मिलकर बनाया था। इसके बाद दिसंबर 2010 में दक्षिण अफ्रीका को ब्रिक में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया। जिसके बाद इस समूह का नाम ब्रिक से ब्रिक्स (BRICS) हुआ।

ब्रिक्स का उद्देश्य

  • ब्रिक्स सबसे बड़ा मकसद है, विकासशील देशों के लिए एक विशेष व्यापार ब्लॉक
  • बनाना है क्योंकि व्यापार के क्षेत्र में विकासशील देशों पर विकसित देश का
  • काफी दबदबा है और इसी दबदबे को खत्म करने के लिए ब्रिक्स देशों द्वारा
  • व्यापार ब्लॉक बनाने का लक्ष्य बनाया गया है।
  • ब्रिक्स समूह विकसित और विकासशील देशों के बीच एक पुल के रूप में भी कार्य
  •  करता है और साथ में ही विकासशील देशों को विकसित करने में उनकी मदद भी कर रहा है।
  • ब्रिक्स विभिन्न वित्तीय उद्देश्यों के साथ एक नए और आशाजनक राजनीतिक-राजनयिक इकाई के रूप में उभरे।

BRICS से जुड़ी खास बातें

  • साल 2014 में ब्रिक्स ने  दो वित्तीय बैंक बनाए गए थे और इनके नाम न्यू डेवलपमेंट बैंक या नव विकास बैंक और आकस्मिक रिजर्व व्यवस्था रखा गया है।
  • ब्रिक्स के अंदर शामिल सभी पांच देश चार महाद्वीपों से आते हैं, जिनमें से भारत और चीन एशिया महाद्वीपों के देश हैं, ब्राजील अमेरिका महाद्वीपों से आता है, रूस यूरोप महादूवीप का देश है और दक्षिण अफ्रीका अफ्रीका महाद्वीप का देश है.
  • इस समूह में शामिल देश दुनिया की भूमि की सतह का लगभग 27% क्षेत्र घेरते हैं और इन चारों देशों की औसत जनसंख्या 627,060,914 है।
  • इस समूह के सभी देशों की दुनिया के सकल घरेलू उत्पाद में 30 प्रतिश्त हिस्सेदारी है। वहीं विश्व व्यापार में इन देशों की 17 प्रतिशत हिस्सेदारी है।

भारत ने की मेजबानी
भारत साल 2012 और साल 2016 में दो बार इस समिट की मेजबानी कर चुका है। वहीं साल 2021 में भी भारत इसकी मेजबानी करने वाला है। बता दें कि भविष्य में अफगानिस्तान, सूडान, सीरिया, बांग्लादेश, ग्रीस, ईरान और नाइजीरिया समेत 13 देश इसमें शामिल हो सकते हैं।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News