Cover
ब्रेकिंग
याेगी सरकार ने लव जिहाद कानून काे दी मंजूरी, साधू संतों ने फैसले का किया स्वागत अहमद पटेल के निधन पर बोले दिग्विजय- वे सभी कांग्रेसियों के लिए हर राजनैतिक मर्ज़ की दवा थे विजय सिन्‍हा चुने गए स्‍पीकर ,पक्ष में पड़े 126 वोट, विपक्ष में 114 नगरोटा साजिश के पीछे था पाक का हाथ! आतंकियों के पास से मिले डिवाइस ने खोले कई राज राहुल गांधी ने किए तरुण गोगोई के अंतिम दर्शन, बोले- मैंने अपने गुरु को खो दिया चौहान, कमलनाथ, दिग्विजय, सिंधिया ने पटेल के निधन पर शोक व्यक्त किया अहमद पटेल के निधन पर बोले दिग्विजय- वे सभी कांग्रेसियों के लिए हर राजनैतिक मर्ज़ की दवा थे आज तमिलनाडु के तटों से टकराएगा 'निवार', MP में दिखेगा असर, बदलेंगे मौसम के मिजाज UP के बाद मध्य प्रदेश में जल्द बनेगा लव जेहाद के खिलाफ कानून, गृहमंत्री ने बुलाई अहम बैठक पश्चिम रेलवे की पहली किसान रेल सेवा शुरु, सांसद शंकर लालवानी ने दिखाई हरी झंडी

महाराष्ट्र में खुले सभी धार्मिक स्थलों के द्वार, सुबह ही मंदिरों में दर्शन करने पहुंचे श्रद्धालु

महाराष्ट्र में कोरोना महामारी के कारण बंद सभी धार्मिक स्थल आज से यानि कि 16 नवंबर से खुलने जा रहे हैं। महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे सरकार ने मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारे, दरगाह सबको खोलने की इजाजत दे दी है श्रद्धालुओं को कोविड नियमों का पालन करना होगा। धार्मिक स्थलों में मास्क पहनना जरूरी होगा और साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का भी ध्यान रखना होगा। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शनिवार दिवाली वाले दिन घोषणा करते हुए कहा था कि कोरोना वायरस के कारण मार्च से बंद सभी पूजा स्थलों को सोमवार से खोला जाएगा।

ठाकरे ने दीपावली के शुभ अवसर लोगों को बधाई देते हुए कहा कि हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि महामारी कोरोना वायरस अभी हमारे बीच से गई नहीं है, इसलिए लोगों को पूजा स्थलों पर कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर जारी किए गए दिशा-निर्देशों का अनुशासन का पालन करना चाहिए। उन्होंने कहा कि जैसे होली, गणेश चतुर्थी, नवरात्र और पंढरपुर वारि (वार्षिक तीर्थयात्रा) मनाते समय लोगों ने अनुशासन और संयम का लोगों ने पालन किया तथा अन्य धर्मों के अनुयायियों ने भी कोरोना सुरक्षा प्रोटोकॉल को ध्यान में रखते हुए ईद, माउंट मेरी त्योहार जैसे त्योहार मनाए, अभी लोगों को अनुशासन का पालन करना होगा।

ठाकरे ने कहा कि कोरोना वायरस के कारण पूजा स्थल और प्रार्थना स्थल बंद जरूर हुए थे लेकिन ईश्वर डॉक्टर, नर्स और अन्य स्वास्थ्य से जुड़े कर्मचारियों के रूप में लोगों का ध्यान रख रहे थे। उन्होंने कहा कि लोगों को भीड़ नहीं करना है और सामाजिक दूरी के साथ-साथ मास्क लगाना जरूरी है। यदि हम अनुशासन का पालन करेंगे तभी ईश्वर का आशीर्वाद भी मिलेगा।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News