Cover
ब्रेकिंग
शादी के बाद एक्स ब्वॉयफ्रेंड कुशाल टंडन से टकराईं गौहर ख़ान, दिया ये रिएक्शन राहुल के इटली ट्रिप पर भाजपा का निशाना, शिवराज बोले- स्‍थापना दिवस पर ‘9 2 11’ हो गए, कांग्रेस ने दी सफाई पीएम मोदी, भाजपा के अन्य शीर्ष नेताओं ने दी श्रद्धांजलि दर्ज हुए 20 हजार से अधिक संक्रमण के नए मामले, 279 मौत; जानें अब तक का पूरा आंकड़ा उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र रावत Delhi AIIMS में कराएंगे उपचार, कोरोना से हैं संक्रमित देश की पहली ड्राइवरलेस मेट्रो को पीएम ने दिखाई हरी झंडी, दिल्ली में रफ्तार भरने लगी ट्रेन किसान नेता राकेश टिकैत को फोन पर मिली जान से मारने की धमकी, जांच में जुटी पुलिस Year 2021- नया साल लेकर आ रहा ग्रहण के चार गजब नजारे, पूर्ण चंद्रग्रहण से होगी शुरुआत शीतकालीन सत्र पर बोले नरोत्तम, सरकार की कोशिश कि इसे न टाला जाए, कांग्रेस पर भी साधा निशाना MP के इस गांव में न सड़क है न कोई सुविधा, खाट पर रखकर ग्रामीण 3 KM ले गए शव

एक RTI कार्यकर्ता ने याचिका दायर कर सुप्रीम कोर्ट से मांगा लंबित जमानत याचिकाओं का विवरण

नई दिल्ली। आरटीआइ कार्यकर्ता साकेत गोखले ने गुरुवार को उच्चतम न्यायालय में एक आवेदन देकर रजिस्ट्री के सामने लंबित अंतरिम जमानत याचिकाओं का विवरण देने का अनुरोध किया है। यह आरटीआइ आवेदन ऐसे वक्त दाखिल किया गया है, जब बांबे हाई कोर्ट द्वारा रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी की याचिका खारिज किए जाने के दो दिन के भीतर ही उच्चतम न्यायालय ने उन्हें जमानत दे दी।

साकेत गोखले ने उच्चतम न्यायालय के समक्ष लंबित जमानत याचिकाओं और रजिस्ट्री में अंतरिम जमानत याचिका दायर करने तथा उपयुक्त पीठ के सामने सूचीबद्ध होने के बीच लगने वाले औसत समय की जानकारी भी मांगी है। उन्होंने आरोप लगाया कि भीमा कोरेगांव या दिल्ली दंगा मामले में गिरफ्तारी, राजनीतिक बंदियों के मामले या कश्मीर के बंदी प्रत्यक्षीकरण के ढेर सारे मामले हैं, जहां निजी स्वतंत्रता को कुचला गया।

उन्होंने दावा किया कि उच्चतम न्यायालय के समक्ष जब इन मामलों का उल्लेख किया गया, तो याचिकाकर्ताओं को पहले उच्च न्यायालय जाने को कहा गया था। गोखले ने कहा, इन चीजों के बीच आरटीआइ आवेदन दाखिल करने का कारण यह जानना है कि उच्चतम न्यायालय की रजिस्ट्री के सामने इस तरह की कितनी अंतरिम जमानत याचिकाएं लंबित हैं?

हम देख रहे हैं कि कुछ मामलों में त्वरित सुनवाई होती है, वहीं कुछ मामले लंबे समय तक लंबित रहते हैं, लेकिन सूचीबद्ध नहीं हो पाते। यह ज्ञात तथ्य है कि न्यायिक प्रक्रिया धीमी है और ढेर सारे मामलों का पहले से बोझ है। लेकिन, कुछ लोग कतार को लांघ रहे हैं और उनके मामलों में त्वरित सुनवाई होती है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News