Cover
ब्रेकिंग
दिल्ली सीमा पर डटे किसानों को हटाने पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, CJI बोले- बात करके पूरा हो सकता है मकसद UP के अगले विधानसभा चुनाव में ओवैसी-केजरीवाल बिगाड़ सकते हैं विपक्ष का गणित सावधान! CM योगी का बदला मिजाज, अब कार से करेंगे किसी भी जिले का औचक निरीक्षण संसद का शीतकालीन सत्र नहीं चलाने पर भड़की प्रियंका गांधी पाक सेना ने राजौरी मे अग्रिम चौकियों पर गोलीबारी की संत बाबा राम सिंह की मौत पर कमलनाथ बोले- पता नहीं मोदी सरकार नींद से कब जागेगी गृह मंत्री के विरोध में उतरे पूर्व सांसद कंकर मुंजारे गिरफ्तार, फर्जी नक्सली मुठभेड़ को लेकर तनाव मोबाइल लूटने आए बदमाश को मेडिकल की छात्रा ने बड़ी बहादुरी से पकड़ा कांग्रेस बोलीं- जुबान पर आ ही गया सच, कमलनाथ सरकार गिराने में देश के PM का ही हाथ EC का कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश, चुनाव में पैसे के गलत इस्तेमाल का आरोप

अमेरिका: जो बाइडन की कैंपेनिंग में जानें किस भारतीय अमेरिकी युवक ने निभाई अहम भूमिका

वाशिंगटन। अमेरिका में राष्‍ट्रपति चुनाव की रेस में जीत हासिल करने वाले डेमोक्रेटिक उम्‍मीदवार जो बाइडन के लिए कैंपेनिंग में न्‍यूजर्सी (New Jersey) में रहने वाले 30 वर्षीय भारतीय अमेरिकी युवक ने अहम भूमिका निभाई है। दरअसल, बाइडन के चुनावी कैंपेन के लिए नेशनल एशियन अमेरिकन एंड पैसिफिक आइलैंडर (AAPI) के निदेशक अमित जानी (Amit Jani) हैं। राष्‍ट्रपति चुनाव की रेस में जब दर्जनों प्रतियोगी लाइन में थे उस वक्‍त यानि प्राइमरी सीजन में ही अमित जानी बाइडेन के कैंपेन में शामिल हुए थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भी समर्थक हैं अमित जानी 

3 नवंबर को होने वाले अमेरिकी राष्‍ट्रपति चुनाव के लिए इस युवक की बदौलत बाइडन की कैंपेन के लिए भारतीय अमेरिकी और विभिन्‍न एशियाई अमेरिकी समुदाय एक हुए। बाइडन की टीम में अमित जानी राजनीति प्रचारक हैं। अमित की प्रतिभा दक्षिण एशिया समुदाय के लोगों को अपने पक्ष में करने में के लिए जानी जाती है। ध्‍यान देने वाली बात यह है कि अमित जानी भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भी समर्थक हैं।

गुजरात के राजकोट में हुआ था जन्‍म

गुजरात के राजकोट में जन्‍मे अमित जानी एक वर्ष की उम्र में ही मां दीप्‍ति जानी (Deepti Jani) के साथ अमेरिका आ गए थे। अमित की मां न्‍यूजर्सी और न्‍यूयार्क में बिजनेस करती हैं। यहां उनके अनेकों स्‍टोर (convenience stores) हैं। अमित की अब तक की जिंदगी न्‍यूजर्सी में ही बीती है जहां भारतीय अमेरिकियों की बड़ी जनसंख्‍या रहती है। उनके दिवंगत पिता सुरेश जानी न्‍यूजर्सी में कम्‍युनिटी आर्गेनाइजर थे।

बाइडन के समर्थन में दक्षिण एशियाई समुदाय को एकत्रित

अमित जानी ने AAPI और भारतीय अमेरिकी समुदाय दोनों के लिए नीतिगत प्लेटफार्मों को तैयार करने में मदद की, सैकड़ों इवेंट्स आयोजित किए कैंपेनिंग के लिए अनुवाद कर सामग्री उपलब्‍ध कराया। साथ ही दक्षिण एशियाई समुदाय को बाइडन के समर्थन में एकत्रित किया। उदाहरण के लिए इंडियन अमेरिकन फॉर बाइडन, हिंदू अमेरिकन फॉर बाइडन, सिख अमेरिकन फॉर बाइडन, जैन अमेरिकन फॉर बाइडन के अलावा कई अन्‍य समूहों का निर्माण किया।

भारत के स्‍वतंत्रता दिवस (Indian Independence Day) के मौके पर 15 अगस्‍त को उन्‍होंने एक वर्चुअल प्रोग्राम का आयोजन किया और एक समारोह आयोजित किया जिसमें देश में मौजूद प्रमुख भारतीय अमेरिकी हस्‍तियों और शीर्ष कैंपेन स्‍टाफ ने समुदाय को संबोधित किया। इसके अलावा इस समारोह को जो बाइडन व कमला हैरिस ने भी संबोधित किया था।

30 वर्षीय अमित जानी एक दशक से अधिक समय से सरकार और डेमोक्रेटिक पॉलिटिक्‍स में काम कर रहे हैं। बाइडन के कैंपेन में आने से पहले वे न्‍यूजर्सी गवर्नर फिल मर्फी के लिए काम किया जहां वे राज्‍य के लिए ट्रांसपोर्ट से जुड़े मुद्देां को देखते थे। अमित को जानने वाले लोगों का कहना है कि वे बिना थके कठिन परिश्रम करने वाले शख्‍स हैं और वे AAPI व दक्षिण एशियाई समुदाय के कट्टर समर्थक हैं।

मेहनती हैं अमित जानी

राष्‍ट्रपति बराक ओबामा के पूर्व व्‍हाइट हाउस कैबिनेट सेक्रेटरी क्रिस लु ने बताया, ‘अमित ने  AAPI समुदाय के लिए बिना थके कठिन परिश्रम किया है और वे उप राष्‍ट्रपति बाइडन और सीनेटर कमला हैरिस के लिए बेहतरीन प्रतिनिधि ( representative) रहे। बता दें कि अमित जानी मीडिया में आने से बचते हैं। 2015 में अमित जानी ने दक्षिण एशियाई हाइ स्‍कूल और कॉलेज के छात्र-छात्राओं की मदद के लिए न्‍यूजर्सी लीडरशिप प्रोग्राम (NJLP) नामक नॉन प्रॉफिट आर्गेनाइजे शन की स्‍थापना की थी और इसके जरिए उन्‍हें स्‍थानीय लोगों के अलावा फेडरल गर्वंमेंट के साथ भी काम करने का भी अनुभव मिला। NJLP की वेबसाइट के अनुसार, अमित जानी ने इस आर्गेनाइजेशन की स्‍थापना दक्षिण एशियाई अमेरिकी समुदाय को आवाज देने के लिए किया था।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News