Cover
ब्रेकिंग
ईदगाह हिल्स बनेगी गुरुनानक टेकरी !, बीजेपी नेता बोले- हजारों सिखों ने राम मंदिर के लिए किया संघर्ष केंद्र के साथ किसान नेताओं की पांचवें दौर की वार्ता जारी, सरकार के प्रस्‍तावों पर हो रही चर्चा चोरी के आरोप में मजदूर की बर्बरता से पिटाई, जानवरों से भी बदतर बर्ताव ब्रेक फेल होने पर हुआ दर्दनाक हादसा, ट्रकों में आग लगने से जिंदा जले ड्राइवर MP में इस साल नहीं खुलेंगे 1-8वीं तक के स्कूल, 10वीं-12वीं के छात्रों के लिए नई गाइडलाइन जारी कर्नाटक: सरकार के विरोध में उतरे कन्‍नड़ समर्थक, आज बंद का आह्वान BJP National President JP Nadda का दून दौरा, लेंगे कार्यकर्ताओं के मन की थाह और प्रबुद्धजनों से फीडबैक IIT 2020 Global Summit : पीएम मोदी बोले- रिफॉर्म, परफॉर्म और ट्रांसफॉर्म के सिद्धांत के लिए प्रतिबद्ध है सरकार ब्राजील में पुल से नीचे गिरी बस, कम से कम 10 लोगों की मौत जमीनी विवाद मे सगे भतीजे ने घायल चाची पर चढ़ाई स्कॉर्पियो, मौत

इस बार बिना पटाखों के होगी काली पूजा, सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हमारे लिए जीवन बचाना ज्यादा जरूरी

उच्चतम न्यायालय ने वायु प्रदूषण पर अंकुश लगाने के इरादे से काली पूजा के अवसर पर पश्चिम बंगाल में पटाखों की बिक्री और इनके इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगाने के कलकत्ता उच्च न्यायालय के आदेश में हस्तक्षेप करने से बुधवार को इंकार कर दिया।न्यायालय ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी के दौरान जीवन बचाना अधिक महत्वपूर्ण है।

महामारी के दौर में जीवन खतरे में: सुप्रीम कोर्ट
न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति इन्दिरा बनर्जी की अवकाशकालीन पीठ ने कहा कि यद्यपि पर्व महत्वपूर्ण हैं लेकिन इस समय महामारी के दौर में ‘जीवन ही खतरे में है। शीर्ष अदालत वायु प्रदूषण की वजह से काली पूजा और छठ पूजा सहित आगामी त्योहारों के अवसर पर पटाखों के इस्तेमाल और उनकी बिक्री पर प्रतिबंध लगाने के कलकत्ता उच्च न्यायालय के पांच नवंबर के आदेश के खिलाफ गौतम रॉय और बड़ाबाजार फायरवर्क्स डीलर्स एसोसिएशन की अपील पर सुनवाई कर रही थी। काली पूजा का पर्व शनिवार को मनाया जायेगा।

हाईकोर्ट के आदेश में हस्तक्षेप करने से एससी का इंकार
पीठ ने कहा कि हम सभी इस स्थिति में जिंदगी के लिये संघर्ष कर रहे हैं और हम सभी के घरों में वृद्धजन हैं। इस समय हम ऐसी स्थिति में हैं जहां जिंदगी बचाना अधिक महत्वपूर्ण है और उच्च न्यायालय जानता है कि वहां पर किस चीज की जरूरत है। पीठ ने कहा कि उच्च न्यायालय ने नागरिकों, विशेषकर वरिष्ठ नागरिकों के हितों का ध्यान रखा है जो शायद बीमार हों।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News