Cover
ब्रेकिंग
शादी के बाद एक्स ब्वॉयफ्रेंड कुशाल टंडन से टकराईं गौहर ख़ान, दिया ये रिएक्शन राहुल के इटली ट्रिप पर भाजपा का निशाना, शिवराज बोले- स्‍थापना दिवस पर ‘9 2 11’ हो गए, कांग्रेस ने दी सफाई पीएम मोदी, भाजपा के अन्य शीर्ष नेताओं ने दी श्रद्धांजलि दर्ज हुए 20 हजार से अधिक संक्रमण के नए मामले, 279 मौत; जानें अब तक का पूरा आंकड़ा उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र रावत Delhi AIIMS में कराएंगे उपचार, कोरोना से हैं संक्रमित देश की पहली ड्राइवरलेस मेट्रो को पीएम ने दिखाई हरी झंडी, दिल्ली में रफ्तार भरने लगी ट्रेन किसान नेता राकेश टिकैत को फोन पर मिली जान से मारने की धमकी, जांच में जुटी पुलिस Year 2021- नया साल लेकर आ रहा ग्रहण के चार गजब नजारे, पूर्ण चंद्रग्रहण से होगी शुरुआत शीतकालीन सत्र पर बोले नरोत्तम, सरकार की कोशिश कि इसे न टाला जाए, कांग्रेस पर भी साधा निशाना MP के इस गांव में न सड़क है न कोई सुविधा, खाट पर रखकर ग्रामीण 3 KM ले गए शव

नक्सलियों के गढ़ में भी रही लोकतंत्र की जय-जय

मोतिहारी । कोरोना व नक्सल गतिविधियों के डर के बावजूद भी मधुबन विधानसभा के मतदाताओं ने जिस उत्साह का प्रदर्शन किया, उसकी कल्पना भी नहीं की गई थी। नक्सल प्रभावित इलाकों में बेशक सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध थे। यहां के तमाम मतदान केंद्रों पर पर्याप्त संख्या में सुरक्षा बलों की तैनाती की गई थी। शाम के 5 बजे तक यहां कुल 61 फीसद मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग कर लिया था। यहां बता दें कि मधुबन कभी नक्सलियों का गढ़ हुआ करता था। वर्ष 2005 में यह क्षेत्र तब चर्चा में आया था जब एक साथ 300 से ज्यादा नक्सलियों ने धावा बोल दिया था। स्थानीय पंकज कुमार बताते हैं कि यह सुखद है कि लोग बिना किसी भय के वोट के लिए अपने घरों से बाहर निकल रहे हैं। पकड़ीदयाल, फेनहारा, शेखपुरवा सहित तमाम जगहों पर वोट देने के लिए मतदाताओं की लंबी कतार लगी रही। आधी आबादी ने भी भारी तादाद में मतदान प्रक्रिया में अपनी सहभागिता निभाई। बूथ संख्या 190 पर मतदान के लिए पहुंची अनिता देवी की माने तो मधुबन अब बदल चुका है। अब डरने जैसी कोई बात नहीं है। फेनहारा रुपौलिया के संतोष पाण्डेय ने कहा कि देखिए, अब यहां नक्सली हवा है। लोकतंत्र की जय-जयकार है। लोग स्वेच्छापूर्वक बिना भय के घरों से निकलकर वोट देने आ रहे हैं। बता दे कि मधुबन विधानसभा सीट से राज्य सरकार में सहकारिता मंत्री और बीजेपी नेता राणा रणधीर चुनावी मैदान में हैं। उनके सामने महागठबंधन की ओर से आरजेडी के टिकट पर मदन साह पहली बार चुनावी ताल ठोक रहे हैं। वहीं, यहां के पूर्व विधायक शिवजी राय भी इस बार जाप के टिकट पर मैदान में उतर आए हैं। 2015 के चुनाव में जब बीजेपी और जेडीयू ने अलग-अलग चुनाव लड़ा तब भी इस सीट पर बीजेपी ने अपना कब्जा जमाया था।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News