Cover
ब्रेकिंग
Rhea Chakraborty के भाई शौविक चक्रवर्ती को लगभग 3 महीने बाद मिली ज़मानत, ड्रग्स केस में हुई थी गिरफ़्तारी कांग्रेस का आरोप, केंद्र सरकार ने बैठक कर किसानों की आंखों में झोंकी धूल मुंबई: यूपी फिल्म सिटी निर्माण पर बोले सीएम योगी आदित्यनाथ- हम यहां कुछ लेने नहीं, नया बनाने आए कर्नाटक में जनवरी-फरवरी में कोविड-19 की दूसरी लहर की आशंका, लोगों में डर का माहौल दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण पर सख्त NGT, क्रिसमस-नए साल पर पटाखे नहीं चला पाएंगे लोग जाधव के लिए वकील नियुक्ति मामले पर विस्तार से चर्चा की सलाह, अहलूवालिया रखेंगे भारत का पक्ष पीड़िता बोली- ससुर करता था अश्लील हरकतें, 2 महीने की बच्ची पर भी तरस नहीं किया, दे दिया तीन तलाक भगवान को ठंड से बचाने के लिए भक्तों ने ओढ़ाए गर्म वस्त्र भूमाफिया बब्बू और छब्बू पर चला प्रशासन का डंडा, अवैध निर्माण जमींदोज दर्दनाक हादसे का सुखद अंत: 3 लोगों समेत अनियंत्रित बोलेरो गहरी नदी में समाई

भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप के बाद भी नहीं हुई तहसीलदार पर FIR, EOW की शिकायत भी गैरअसरदार

जबलपुर: सरकारी फाइलों में बड़ी हेरा फेरी का आरोप लगने और ईओडब्ल्यू में बार बार शिकायत दर्ज होने के बावजूद भी तहसीलदार जैसे बड़े अफसर पर सरकार किस कदर मेहरबान है उसकी बानगी जबलपुर में देखने को मिल रही है। जहां भ्रष्टाचार जैसे बड़े आरोप लगने के बावजूद भी तहसीलदार मुनव्वर खान पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही। बताया जा रहा है कि भोपाल मुख्यालय में अभियोजन चलाने के लिए अनुमति मांगी गई लेकिन अनुमति नहीं मिली। आपको बता दें मुन्नवर खान की शिकायत 4 बार ईओडब्ल्यू जबलपुर में की जा चुकी है लेकिन उनपर कोई कार्रवाई नहीं हो पाई है।

रिश्वतखोरी और सुर्खियों में रहे मुन्नवर खान
फोन पर रिश्वत मांगने के आरोप में जबलपुर में कलेक्टर के रूप पदस्थ रही तेज तर्रार आईएएस ऑफिसर छवि भारद्वाज से सजा पाने वाले तहसीलदार मुनव्वर खान को जमीनी हेरफेर करके मुनाफा कमाने के आरोप भी है। बताया जाता है कि जब भी कभी जमीनी हेरफेर की बात हो तो सभी मुनव्वर खान से ही संपर्क करते हैं। जबलपुर की तत्कालीन कलेक्टर छवि भारद्वाज ने अपने सख्त तेवर दिखाते हुए रिश्वत मांगते हुए एक ऑडियो वायरल होने के बाद मुनव्वर खान को ऑफिस में अटैच कर दिया था लेकिन उसके बाद  एक बड़ा मामला निकल कर सामने आया जिसमें मुनव्वर खान ने जमीनी नक्शे पर ही हेरफेर कर बिल्डर को लाभ पहुंचाने का काम किया है। लक्ष्मीपुर की जमीन पर शैलेश जॉर्ज ने हेरफेर करने के आरोप तत्कालीन तहसीलदार अधारताल पर लगाए हैं कि उन्होंने उसकी जमीन के नक्शे पर ही सड़क निकलवा दी। इस बाबत एसडीएम आधारताल में केस भी चल रहा है। शैलेश जार्ज ने बताया कि उसने लक्ष्मीपुर की जमीन में 18000 स्क्वायर फिट का एक प्लॉट खरीदा है जिसका खसरा क्रमांक 56 / 6 है 2012 में यही खसरा क्रमांक में अंकित है लेकिन 2017 में मैप में बदलाव करते हुए तहसीलदार मुनव्वर खान ने इस ज़मीन को खसरे से अलग करते हुए पीछे दर्शा दिया जिससे कि लक्ष्मीपुर से होकर जाने वाली कॉलोनी के लिए सड़क बिल्डर बना सकें।

2012 का मेप  2017 में बदल दिया
लक्ष्मीपुर की जमीन पर  शैलेश जार्ज को एसडीएम कार्यालय ने स्थगन आदेश दिया है। इस तबादले कि वजह भी हेराफेरी बताए जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि उन्होंने  2012 में जो 56 /6 खसरा की जमीन है उसको  2017 में  बदलते हुए कॉलोनी की सड़क के लिए जमीन दे दी। इस तरह से उसने  खेल करके बिल्डर को लाभ पहुंचाया और अब शैलेश जार्ज को लगातार धमकी भी दी जा रही है कि वे चुप होकर बैठ जाए और व्यवधान उत्पन्न ना करें। हालांकि लड़ाई पूरी तरह से चल रही है और विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है लेकिन चौंकाने वाली बात यह है कि तहसीलदार मुनव्वर खान पर अभी तक कोई भी एक्शन नहीं हुआ है।

ईओडब्ल्यू में मुनव्वर खान की शिकायत एफ आई आर दर्ज करने का नहीं मिला आदेश
मुनव्वर खान ने गंभीर आरोप लगने के बाद लेकर ईओडब्ल्यू में शिकायत भी की गई शिकायत के तथ्यों पर जांच होने के उपरांत सूत्र बताते हैं कि मुनव्वर खान पर आरोप सिद्ध होने जा रहा है लेकिन एफ आई आर दर्ज करने के लिए एसपी ईओडब्ल्यू ने जो पत्र मध्य प्रदेश शासन को भेजा है। वहां से अभी तक सहमति नहीं बनी है लिहाजा मुनव्वर खान पर अभी एफ आई आर दर्ज नहीं हो सकी है लेकिन यह तय है कि जिस तरह से लगातार उनके खिलाफ शिकायत आ रही है अब जल्द मामला दर्ज होगा।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News