Cover
ब्रेकिंग
शादी के बाद एक्स ब्वॉयफ्रेंड कुशाल टंडन से टकराईं गौहर ख़ान, दिया ये रिएक्शन राहुल के इटली ट्रिप पर भाजपा का निशाना, शिवराज बोले- स्‍थापना दिवस पर ‘9 2 11’ हो गए, कांग्रेस ने दी सफाई पीएम मोदी, भाजपा के अन्य शीर्ष नेताओं ने दी श्रद्धांजलि दर्ज हुए 20 हजार से अधिक संक्रमण के नए मामले, 279 मौत; जानें अब तक का पूरा आंकड़ा उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र रावत Delhi AIIMS में कराएंगे उपचार, कोरोना से हैं संक्रमित देश की पहली ड्राइवरलेस मेट्रो को पीएम ने दिखाई हरी झंडी, दिल्ली में रफ्तार भरने लगी ट्रेन किसान नेता राकेश टिकैत को फोन पर मिली जान से मारने की धमकी, जांच में जुटी पुलिस Year 2021- नया साल लेकर आ रहा ग्रहण के चार गजब नजारे, पूर्ण चंद्रग्रहण से होगी शुरुआत शीतकालीन सत्र पर बोले नरोत्तम, सरकार की कोशिश कि इसे न टाला जाए, कांग्रेस पर भी साधा निशाना MP के इस गांव में न सड़क है न कोई सुविधा, खाट पर रखकर ग्रामीण 3 KM ले गए शव

शिवराज के मंत्री तुसली सिलावट ने दिया इस्तीफा, बोले- बिना मंत्रीपद के करुंगा जनता की सेवा

इंदौर: विधानसभा उपचुनाव से पहले शिवराज सरकार के जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट ने मंत्रीपद से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने 6 महीने का कार्यकाल पूरा होने पर पद से इस्तीफा दे दिया है। सिलावट ने अपना इस्तीफा सीएम शिवराज सिंह चौहान को भेज दिया है। नियमों के अनुसार, उनका 6 महीने का कार्यकाल मंगलवार को ही पूरा हो गया था।तुलसी सिलावट सांवेर विधानसभा में भाजपा प्रत्याशी के तौर पर उपचुनाव लड़ रहे हैं। मंगलवार शाम अपना इस्तीफा देने के बाद मीडिया से चर्चा दौरान उन्होंने कहा कि मेरे लिए पद महत्वपूर्ण नहीं है मेरे लिए मध्यप्रदेश की प्रगति सेवा महत्वपूर्ण है। मैं बिना मंत्रीपद के भी समाज की सेवा कर सकता हूं।

PunjabKesari

बता दें कि तुलसी सिलावट ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ दल बदलने वाले विधायक/मंत्रियों में से एक रहे हैं। सिलावट ने कांग्रेस विधायकी से इस्तीफा देकर बीजेपी ज्वाइन की थी और शिवराज मंत्रिमंडल में पहले पांच मंत्रियों में बतौर जल संसाधन मंत्रीपद संभाला था। लेकिन उनका कार्यकाल मंगलवार को खत्म हो गया था क्योंकि संवैधानिक नियमों  के मुताबिक अगर कोई व्यक्ति जो किसी भी सदन का सदस्य नहीं है और मंत्री पद की शपथ लेता है तो उसको शपथ लेने के छह महीने के अंदर सदन का सदस्य बनना जरूरी होता है। लेकिन तुलसी सिलावट अभी तक सदन के सदस्य नहीं बन पाए हैं।

वहीं कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने बीते दिनों राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से सिलावट और गोविंद सिंह राजपूत के पद को खत्म करने की मांग की थी। उन्होंने कहा कि बिना विधायकी के इन्हें मंत्री बनाया जो नियमों के मुताबिक गलत है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News