Cover
ब्रेकिंग
नरोत्तम बोले- लव जिहाद कानून पर अपनी स्थिति स्पष्ट करे कांग्रेस, किसान आंदोलन पर भी साधा निशाना नेता प्रतिपक्ष को लेकर कमलनाथ वर्सेस दिग्विजय ! खुलकर सामने आई तकरार…पूरा विश्लेषण लालू यादव की जमानत पर सुनवाई टली, कस्टडी को सत्यापित करने के लिए मांगा समय अर्नब को अंतरिम बेल देने के कारणों को SC ने किया स्पष्ट, कहा- पुलिस FIR में लगाए गए आरोप नहीं हुए साबित आईआईटी और एनआईटी मातृभाषा में इंजीनियरिंग पाठ्यक्रम चलाएंगे, IIT-BHU में हिंदी से होगी शुरुआत गुजरात: राजकोट के कोरोना अस्पताल में लगी भीषण आग, 5 मरीजों की मौत मुख्यमंत्री ने सिद्धू के साथ कयासबाजियों को किया खारिज, हरीश रावत के प्रयास से मिटी दूरियां डोनाल्ड ट्रंप ने मान ली अपनी हार, बोले- छोड़ दूंगा व्हाइट हाउस मतदाताओं से संपर्क स्थापित करें कार्यकर्ता: स्वतंत्र देव पाकिस्तान ने ठंडे बस्ते में डाले भारत के डोजियर, तमाम सुबूतों के बावजूद साजिशकर्ताओं पर नहीं कसा शिकंजा

गुलमर्ग के जुड़वा भाइयों ने NEET क्वालीफाई कर पिता का सपना किया पूरा, अब एक साथ बनेंगे डॉक्टर

मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट में इस वर्ष सबसे अधिक उत्तीण होने वाले विद्यार्थी उत्तरप्रदेश से हैं, जबकि दूसरे नंबर पर महाराष्ट्र के छात्र हैं।  हालांकि इस बार कश्मीर के छात्रों ने भी राज्य का नाम रोशन किया है। जम्मू-कश्मीर के गुलमर्ग के रहने वाले जुड़वा भाईयों ने भी नीट में कामयाबी हासिल कर वहां के युवाओं के लिए नई मिसाल पेश की है।

नीट क्वॉलिफाई करने वाले भाईयों का नाम है शाकिर और गोहर। उन्होंने कुल 720 अंकों में से क्रमश: 651 और 657 अंक हासिल किए हैं। दोनों की कामयाबी से परिवार में खुशी का माहौल है। जुड़वां बेटों के पिता बशीर अहमद भट उचित मूल्य की दुकान पर सुरक्षा गार्ड के रूप में काम करते हैं। बेटों की सफलता पर उन्होंने कहा कि अब मेरा सपना पूरा हो गया।

अहमद भट ने बताया कि दोनों बेटों ने काफी मेहनत की है। आर्थिक तंगी होने के बावजूद भी मैंने बच्चों की पढ़ाई से जुड़ी हर ज़रूरत पूरी की। उन्होंने कहा कि जो बच्चे ड्रग्स की तरफ जा रहे हैं उनको अपना भविष्य खराब नहीं करना चाहिए, क्योंकि मां-बाप के अपने बच्चों से काफी अरमान होते हैं। बता दें कि वर्ष 2019 में दोनों भाइयों ने जेईई मेंस की परीक्षा में सफलता हासिल की थी और एनआईटी श्रीनगर में दाखिला लिया था। इस वर्ष नीट के लिए उनका यह दूसरा प्रयास था। शाकिर ने गताया कि हमने कोविड-19 के कारण मिले मौके को पढ़ाई के लिए समर्पित कर दिया, नतीजा सामने है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News