Cover
ब्रेकिंग
सर्द हवाओं से लौटी ठंड, तीन दिन बाद बढ़ेगा रात का तापमान, जानिए और क्या कहता है मौसम विभाग यूपी के प्राइवेट अस्पतालों तथा लैब में अब बेहद सस्‍ते में होगा Covid 19 Test, तीन गुना दाम घटाए कोविड-19 पर चर्चा के लिए चार दिसंबर को सर्वदलीय बैठक, तृणमूल कांग्रेस भी होगी शामिल किसान आंदोलन: कनाडा के PM ट्रूडो को भारत का जवाब- हमारे मामलों में दखल देने की ना करो कोशिश किसान आंदोलन में शामिल होने सिंघु बॉर्डर पहुंची शाहीन बाग की दादी बिल्किस बानो गिरफ्तार जम्मू-कश्मीरः डीडीसी चुनाव के दूसरे चरण में हुआ 48 फीसदी से अधिक मतदान गुजरातः भाजपा राज्यसभा सांसद अभय भारद्वाज का निधन, पीएम मोदी ने जताया दुख NRI को बड़ा तोहफा देने की तैयारी में मोदी सरकार, चुनाव में सीधे कर सकेंगे वोट बिजुरी नगरपालिका को मिला नया उपाध्यक्ष, 10 वोट हासिल कर सतीश शर्मा विजयी आईजी की क्लास, अधिकारियों व कर्मचारियों को जमकर लगाई फटकार

चीनी कोरोना वैक्सीन एकदम सुरक्षित, एंटीबॉडी बनाने में सक्षम; लैंसेट की रिपोर्ट का दावा

बीजिंग। कोरोना वायरस से निपटने के लिए चीन की कोरोना वैक्सीन को एक अध्ययन में सुरक्षित पाया है। 18 से 80 साल के लोगों पर टेस्ट की गई चीनी वैक्सीन के परिणाम अच्छे आए हैं। इन लोगों पर किए गए परीक्षण में वैक्सीन सुरक्षित पाई गई है और इससे किसी तरह का कोई नुकसान नहीं हुआ है बल्कि इससे एंटीबॉडी बनने में मदद मिली है।

चिकित्सा क्षेत्र से जुड़ी खबरें और शोध प्रकाशित करने वाली लैंसेट जर्नल में प्रकाशित एक रिपोर्ट में इस बात का दावा किया गया है। लैंसेट जर्नल की रिपोर्ट के मुताबिक, चीनी कोरोना वैक्सीन BBIBP-CorV जिसके कोरोना वायरस को पूरी तरह से निष्क्रिय करने की उम्मीद है, वह एकदम सुरक्षित है और यह एंटीबॉडी बनाने में सक्षम है।लैंसेट ने इससे पहले भी एक और वैक्सीन को लेकर भी यही बात कही थी जो कोरोना के लिए जिम्मेदार SARS-CoV-2 Virus को निष्क्रिय करता है लेकिन उस अध्ययन नें वैक्सीन का परीक्षण केवल 60 वर्ष से कम आयु के लोगों पर किया गया था।

द लैंसेट इन्फेक्शियस डिजीज जर्नल में प्रकाशित इस नवीनतम अध्ययन में बताया गया है कि इस वैक्सीन के ट्रायल में 18 से 80 वर्ष की आयु के प्रतिभागी शामिल थे और पाया गया कि सभी में एंटीबॉडी बनी हैं। अध्ययन के अनुसार, इस वैक्सीन के खिलाफ एंटीबॉडी बनाने की रफ्तार 18 से 59 साल के लोगों में 60 से अधिक उम्र वाले लोगों के मुकाबले अधिक रही। 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों में एंटीबॉडी बनने में 42 दिन लगे जबकि 18 से 59 साल के प्रतिभागियों में 28 दिनों में एंटीबॉडी विकसित हो गई।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News