Cover
ब्रेकिंग
शादी के बाद एक्स ब्वॉयफ्रेंड कुशाल टंडन से टकराईं गौहर ख़ान, दिया ये रिएक्शन राहुल के इटली ट्रिप पर भाजपा का निशाना, शिवराज बोले- स्‍थापना दिवस पर ‘9 2 11’ हो गए, कांग्रेस ने दी सफाई पीएम मोदी, भाजपा के अन्य शीर्ष नेताओं ने दी श्रद्धांजलि दर्ज हुए 20 हजार से अधिक संक्रमण के नए मामले, 279 मौत; जानें अब तक का पूरा आंकड़ा उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र रावत Delhi AIIMS में कराएंगे उपचार, कोरोना से हैं संक्रमित देश की पहली ड्राइवरलेस मेट्रो को पीएम ने दिखाई हरी झंडी, दिल्ली में रफ्तार भरने लगी ट्रेन किसान नेता राकेश टिकैत को फोन पर मिली जान से मारने की धमकी, जांच में जुटी पुलिस Year 2021- नया साल लेकर आ रहा ग्रहण के चार गजब नजारे, पूर्ण चंद्रग्रहण से होगी शुरुआत शीतकालीन सत्र पर बोले नरोत्तम, सरकार की कोशिश कि इसे न टाला जाए, कांग्रेस पर भी साधा निशाना MP के इस गांव में न सड़क है न कोई सुविधा, खाट पर रखकर ग्रामीण 3 KM ले गए शव

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी आज करेंगे जोजिला सुरंग के निर्माण की शुरुआत

श्रीनगर। बहुप्रतिक्षित जोजिला सुरंग का निर्माण कार्य अंतत: वीरवार से शुरू हो रहा है। केंद्रीय सड़क परिवहन, राजमार्ग और सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्री नितिन गडकरी जोजिला सुरंग के निर्माण की औपचारिक शुरुआत करेंगे। जोजिला सुरंग के निर्माण से लद्दाख का देश के विभिन्न हिस्सों के साथ सारा साल सड़क संपर्क बहाल रहेगा।

सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण मानी जा रही यह सुरंग लद्दाख के सामाजिक-आíथक जीवन में भी बेहतरी लाने का रास्ता तैयार करेगी। श्रीनगर-लेह राष्ट्रीय राजमार्ग पर सोनमर्ग के आगे स्थित जोजिला दर्रे एक तरह से कश्मीर प्रांत और लद्दाख को एक-दूसरे से अलग करने वाली प्राकृतिक विभाजन रेखा का काम भी करता है। प्रस्तावित जोजिला सुरंग जोजिला दर्रे से करीब 300 मीटर नीचे बनेगी। इसकी लंबाई 14.15 किलोमीटर होगी।

जोजिला सुरंग की परियोजना की परिकल्पना 2005 में की गई थी और सीमा सड़क संगठन ने इसकी डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) 2013 में तैयार की थी। इस परियोजना के लिए ठेका आबंटन की प्रक्रिया चार बार विफल रही और उसके बाद इसे ईपीसी मोड पर तैयार करने का जिम्मा जुलाई 2016 में राष्ट्रीय राजमार्ग और अवसंरचना विकास निगम लिमिटेड (एनएचआईडीसीएल) को सौंपा। इसके बाद यह काम मैसर्स आइटीएनएल को सौंपा गया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसका लेह में इसका नींव पत्थर रखा

आइटीएनएल ने जुलाई 2019 तक काम किया, लेकिन बाद में उसने काम छोड़ दिया। इसी साल फरवरी में गडकरी ने पूरी परियोजना की समीक्षा की। परियोजना की लागत राशि घटाने और इसे प्राथमिकता के आधार पर पूरा करने के लिए उन्होंने विशेषज्ञ समिति को निर्माण से जड़े विभिन्न मुद्दों के आकलन कर पूरी योजना तैयार करने का जिम्मा सौंपा। विशेषज्ञ समिति ने 17 मई का रिपोर्ट सौंपी और 23 मई को सड़क परिवहन मंत्रालय ने परियोजना को मंजूरी प्रदान कर दी। संशोधित कार्ययोजना के तहत जोजिला सुरंग परियाजना की अनुमानित लागत 4429.83 करोड़ रुपये आंकी गई गई।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News