Cover
ब्रेकिंग
शादी के बाद एक्स ब्वॉयफ्रेंड कुशाल टंडन से टकराईं गौहर ख़ान, दिया ये रिएक्शन राहुल के इटली ट्रिप पर भाजपा का निशाना, शिवराज बोले- स्‍थापना दिवस पर ‘9 2 11’ हो गए, कांग्रेस ने दी सफाई पीएम मोदी, भाजपा के अन्य शीर्ष नेताओं ने दी श्रद्धांजलि दर्ज हुए 20 हजार से अधिक संक्रमण के नए मामले, 279 मौत; जानें अब तक का पूरा आंकड़ा उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र रावत Delhi AIIMS में कराएंगे उपचार, कोरोना से हैं संक्रमित देश की पहली ड्राइवरलेस मेट्रो को पीएम ने दिखाई हरी झंडी, दिल्ली में रफ्तार भरने लगी ट्रेन किसान नेता राकेश टिकैत को फोन पर मिली जान से मारने की धमकी, जांच में जुटी पुलिस Year 2021- नया साल लेकर आ रहा ग्रहण के चार गजब नजारे, पूर्ण चंद्रग्रहण से होगी शुरुआत शीतकालीन सत्र पर बोले नरोत्तम, सरकार की कोशिश कि इसे न टाला जाए, कांग्रेस पर भी साधा निशाना MP के इस गांव में न सड़क है न कोई सुविधा, खाट पर रखकर ग्रामीण 3 KM ले गए शव

सैनिकों के बीच पहुंचकर चीनी राष्‍ट्रपति चिनफिंग ने उगला जहर, कहा- युद्ध को दिमाग में रख तैयार रहे सेना

बीजिंग। भारत के साथ सीमा पर चल रहे तनाव के बीच चीन में राष्ट्रपति शी चिनफिंग मंगलवार को सैनिकों के बीच पहुंचे। वहां उन्होंने सैनिकों से युद्ध की बात दिमाग में रखकर खुद को तैयार रखने के लिए कहा। यही नहीं चीनी राष्ट्रपति ने मरीन कॉ‌र्प्स मुख्यालय में सैनिकों से खुद को इलीट फोर्स के रूप में विकसित करने के लिए कहा। इलीट फोर्स वह सुरक्षा बल होता है जो हर स्थिति में त्वरित जवाबी कार्रवाई करने में सक्षम होता है।

चीन में सेना ने मरीन कॉ‌र्प्स को नौसेना को सहयोग देने के लिए तैयार किया है। इनकी तैनाती चीन के विदेशी सैन्य ठिकानों पर की जाएगी। चीन में चिनफिंग राष्ट्रपति और सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव होने के साथ ही सेंट्रल मिलिट्री कमीशन के चेयरमैन भी हैं, जो सैन्य बलों का सुप्रीम कमांडर होता है। मंगलवार को उन्होंने पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) की नेवी मरीन कॉ‌र्प्स के चाओझोऊ स्थित मुख्यालय का दौरा किया। मरीन कॉ‌र्प्स के 2017 में गठन के बाद यह पहला मौका था जब चिनफिंग उसके मुख्यालय गए हैं

2015 में सेना के पुनर्गठन की चिनफिंग की घोषणा के बाद करीब तीन लाख सैनिक थलसेना से कम किए गए जबकि नौसेना और वायुसेना का विस्तार किया गया। चीन ने ऐसा अपने वैश्विक प्रभाव में बढ़ोतरी करने की नीयत से किया। मरीन कॉ‌र्प्स में सैनिकों की संख्या जल्द ही एक लाख करने की योजना है। इन जवानों को रणनीतिक महत्व वाले पाकिस्तान के ग्वादर बंदरगाह और ¨हद महासागर के जिबूती स्थित चीन के सैन्य ठिकाने पर तैनात किया जाएगा।

मरीन कॉ‌र्प्स के कमांडरों के साथ बातचीत में चिनफिंग ने जवानों को कार्रवाई के लिए हमेशा तैयार रहने की स्थितियों में रखने को कहा। इसके लिए खास प्रशिक्षण, लक्ष्य निर्धारित करने और लड़ाई के खास तरीके विकसित करने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि मरीन कॉ‌र्प्स को इस तरह से तैयार किया जाए कि वह चीन की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा के लिए सबसे अहम जिम्मेदारी संभालने के साथ ही समुद्री अधिकारों की रक्षा कर सके और वैश्विक जिम्मेदारियां संभाल सके।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News