Cover
ब्रेकिंग
Rhea Chakraborty के भाई शौविक चक्रवर्ती को लगभग 3 महीने बाद मिली ज़मानत, ड्रग्स केस में हुई थी गिरफ़्तारी कांग्रेस का आरोप, केंद्र सरकार ने बैठक कर किसानों की आंखों में झोंकी धूल मुंबई: यूपी फिल्म सिटी निर्माण पर बोले सीएम योगी आदित्यनाथ- हम यहां कुछ लेने नहीं, नया बनाने आए कर्नाटक में जनवरी-फरवरी में कोविड-19 की दूसरी लहर की आशंका, लोगों में डर का माहौल दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण पर सख्त NGT, क्रिसमस-नए साल पर पटाखे नहीं चला पाएंगे लोग जाधव के लिए वकील नियुक्ति मामले पर विस्तार से चर्चा की सलाह, अहलूवालिया रखेंगे भारत का पक्ष पीड़िता बोली- ससुर करता था अश्लील हरकतें, 2 महीने की बच्ची पर भी तरस नहीं किया, दे दिया तीन तलाक भगवान को ठंड से बचाने के लिए भक्तों ने ओढ़ाए गर्म वस्त्र भूमाफिया बब्बू और छब्बू पर चला प्रशासन का डंडा, अवैध निर्माण जमींदोज दर्दनाक हादसे का सुखद अंत: 3 लोगों समेत अनियंत्रित बोलेरो गहरी नदी में समाई

हाई कोर्ट की लखनऊ खंडपीठ में सुनवाई कल, कड़ी सुरक्षा में सुबह ही हाथरस से आएगा परिवार

लखनऊ। हाथरस के बूलगढ़ी गांव में 14 सितंबर को कथित दुष्कर्म तथा पिटाई के बाद दलित युवती की मौत के मामले की जांच सीबीआइ ने शुरु कर दी है। इसी मामले में सोमवार को इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच में पीड़ित परिवार के साथ ही हाथरस के डीएम, निलंबित एसपी व सीओ के साथ अन्य अधिकारियों की पेशी होगी। हाथरस जिला प्रशासन कड़ी सुरक्षा में पीड़ित परिवार को ला रहा है। पहले तो इनको रात में ही चलना था, लेकिन परिवार के रात में चलने से इनकार करने के बाद यह लोग सोमवार को सुबह चलकर दिन में लखनऊ पहुंचेंगे।

हाथरस के इस चर्चित प्रकरण का हाईकोर्ट ने एक अक्टूबर को खुद नोटिस लिया था। इस प्रकरण में हाथरस के साथ ही उत्तर प्रदेश के शीर्ष अफसरों को तलब किया गया है। कोर्ट ने पीड़ित परिवार को भी बुलाया गया है। पीड़ित परिवार के पांच सदस्यों को लखनऊ आना है। रविवार दोपहर तक उन्हें कोई सूचना नहीं दी गई। ऐसे में परिवार ने रात में लखनऊ जाने से इनकार कर दिया। इनकी सुरक्षा में जाने वाले सभी सिपाहियों की आज कोरोना जांच भी हुई है।

पीड़ित के भाई ने कहा कि रात में हमारे साथ कुछ भी हो सकता है। हमें प्रशासन पर भरोसा नहीं है। अब परिवार कल सुबह लखनऊ रवाना होगा। हाईकोर्ट में सरकार की तरफ से विनोद शाही पैरवी करेंगे। परिवार के हर सदस्य और गवाहों की सुरक्षा के लिए दो-दो सुरक्षाकर्मी तैनात हैं। परिवार की महिला सदस्यों के लिए दो-दो महिला सुरक्षाकर्मी की तैनाती की गई है। माना जा रहा है कि लखनऊ में आने पर इस परिवार की मुलाकात भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी कराई जा सकती है।

हाथरस में 14 सितंबर को चार लोगों ने 19 वर्ष की युवती के साथ कथित रूप से सामूहिक दुष्कर्म किया था। इसके बाद आरोपियों ने मारपीट में इस युवती की रीढ़ की हड्डी तोड़ दी और गला दबाकर हत्या का प्रयास भी किया। हाथरस के बाद युवती को इलाज के लिए अलीगढ़ के मेडिकल कालेज में भर्ती कराया गया। जहां से 28 सितंबर को सफदरजंग अस्पताल, दिल्ली शिफ्ट किया गया। वहां इलाज के दौरान 29 सितंबर को पीड़िता की मौत हो गई। पुलिस ने चारों आरोपितों को गिरफतार कर लिया। उत्तर प्रदेश सरकार एसआइटी जांच करा रही है। इसी बीच सीबीआइ जांच भी शुरू हो गई है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News