Cover
ब्रेकिंग
कर्नाटक: सरकार के विरोध में उतरे कन्‍नड़ समर्थक, आज बंद का आह्वान BJP National President JP Nadda का दून दौरा, लेंगे कार्यकर्ताओं के मन की थाह और प्रबुद्धजनों से फीडबैक IIT 2020 Global Summit : पीएम मोदी बोले- रिफॉर्म, परफॉर्म और ट्रांसफॉर्म के सिद्धांत के लिए प्रतिबद्ध है सरकार ब्राजील में पुल से नीचे गिरी बस, कम से कम 10 लोगों की मौत जमीनी विवाद मे सगे भतीजे ने घायल चाची पर चढ़ाई स्कॉर्पियो, मौत रेत खनन पर गुंडा टैक्स वसूली मामले में हाईकोर्ट सख्त, सरकार से मांगी प्रोग्रैस रिपोर्ट ‘संसद का विशेष सत्र बुला कर मिनटों में हल हो सकता है किसानों का मसला: भगवंत मान’ किसानों के साथ बातचीत से पहले बोले कृषि मंत्री- आंदोलन का रास्ता छोड़ बातचीत से निकालें समाधान किसान-सरकार के बीच वार्ता और संसद के घेराव की चेतावनी, आज इन बड़ी खबरों पर रहेगी देश की नजर किसान आंदोलन पर कनाडा ने फिर तोड़ी अंतर्राष्ट्रीय मर्यादा, ट्रूडो ने दोबारा दिया बड़ा बयान

रूस के विपक्षी नेता नवलनी बोले, मुझे जहर देने के पीछे राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन का करा-धरा

बर्लिन। रूस के विपक्षी नेता और राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के मुखर आलोचक एलेक्सी नवलनी को जहर किसने दिया था? जर्मनी में स्वास्थ्य लाभ ले रहे नवलनी ने कहा-यह पुतिन का करा-धरा था।

अस्पताल से छुट्टी मिलने के दिन से ही नवलनी सोशल मीडिया पर सक्रिय हैं। जानलेवा हमले के बाद एक जर्मन पत्रिका को दिए अपने पहले साक्षात्कार में नवलनी ने कहा, ‘मुझे लगता है कि हमले में पुतिन का हाथ था। मैं नहीं जानता कि यह कैसे कराया गया।’

नवलनी के समर्थक शुरू से कह रहे थे कि ‘ऊपरी आदेश’ के बिना इस तरह का हमला हो ही नहीं सकता। हालांकि, क्रेमलिन ने इसमें अपना हाथ होने से इन्कार करने में कोई देरी नहीं की।

रूस में 20 अगस्त को एक घरेलू उड़ान के दौरान बीमार पड़ने पर दो दिन बाद इलाज के लिए नवलनी को जर्मनी लाया गया था। वह बर्लिन के चैरिटी हॉस्पिटल में 32 दिन भर्ती रहे। जर्मनी की लैब में परीक्षण के बाद पता चला कि नवलनी पर नर्व एजेंट नोविचोक नामक जहर से हमला किया गया था। बाद में फ्रांस और स्वीडन की लैब ने भी इसकी पुष्टि की थी।

नवलनी पर तीखे जहर नोविचोक नर्व एजेंट का हुआ था इस्तेमाल

पिछले महीने साइबेरिया से मॉस्को आते समय विमान में नवलनी अचानक बेहोश हो गए थे। दो दिन बाद उन्हें अचेत अवस्था में ही जर्मनी लाकर बर्लिन के चैरिट अस्पताल में भर्ती कराया गया। इसके बाद जर्मनी समेत तीन यूरोपीय देशों की प्रयोगशालाओं में अलग-अलग लिए नमूनों की जांच के बाद बताया गया कि नवलनी पर तीखे जहर नोविचोक नर्व एजेंट का इस्तेमाल हुआ था। इसके बाद प्रमुख यूरोपीय देशों ने रूस से मामले पर सफाई मांगी। रूस की सरकार घटना में अपना हाथ न होने के बयान पर ही कायम रही

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News