Cover
ब्रेकिंग
दिल्ली सीमा पर डटे किसानों को हटाने पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, CJI बोले- बात करके पूरा हो सकता है मकसद UP के अगले विधानसभा चुनाव में ओवैसी-केजरीवाल बिगाड़ सकते हैं विपक्ष का गणित सावधान! CM योगी का बदला मिजाज, अब कार से करेंगे किसी भी जिले का औचक निरीक्षण संसद का शीतकालीन सत्र नहीं चलाने पर भड़की प्रियंका गांधी पाक सेना ने राजौरी मे अग्रिम चौकियों पर गोलीबारी की संत बाबा राम सिंह की मौत पर कमलनाथ बोले- पता नहीं मोदी सरकार नींद से कब जागेगी गृह मंत्री के विरोध में उतरे पूर्व सांसद कंकर मुंजारे गिरफ्तार, फर्जी नक्सली मुठभेड़ को लेकर तनाव मोबाइल लूटने आए बदमाश को मेडिकल की छात्रा ने बड़ी बहादुरी से पकड़ा कांग्रेस बोलीं- जुबान पर आ ही गया सच, कमलनाथ सरकार गिराने में देश के PM का ही हाथ EC का कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश, चुनाव में पैसे के गलत इस्तेमाल का आरोप

एक कुत्ते पर दो पक्षों ने जताया मालिकाना हक, अब DNA तक आई नौबत

होशंगाबाद: मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले में एक कुत्ते पर दो लोगों के मालिकाना हक पर हुए झगड़े को सुलझाने के लिए अब कुत्ते का डीएनए कराने की तैयारी की जा रही है जी हां आपने सही पढ़ा होशंगाबाद जिले में एक कुत्ते का डीएनए करवाया जा रहा है। डॉग का एक मालिक शादाब खान उसे अपना कोको तो वही दूसरा मालिक कृतिक शिवहरे इस डॉग को टाइगर नाम से पुकारते हैं। दरअसल, होशंगाबाद में लेवराडोर प्रजाति के एक तीन वर्ष के डॉग के ऊपर 2 मालिकों ने अपना हक जताया है। होशंगाबाद के रहने वाले शादाब खान का कहना है कि उनका लेवराडोर प्रजाति का डॉग लगभग 3 माह पहले उसके घर से गुम हो गया था जिसकी सूचना उन्होंने देहात थाने में की थी।

वही 18 नवंबर को मालाखेड़ी में ही डॉग के होने की सूचना मिलने पर शादाब खान कृतिक के स्थान पर पहुंचे थे जिसके बाद उन्हें पता चला कि वहां पर उनका डॉग कोको है और उन्होंने इसकी सूचना पुलिस को दी कि उसका डॉग मालाखेड़ी में ही एक जगह बंधा हुआ है। तभी होशंगाबाद देहात पुलिस द्वारा पुलिस अभिरक्षा में डॉग को शादाब खान को दिया गया। डॉग से संबंधित दस्तावेजों को पुलिस को दिखाया गया। इसके बाद बाद दूसरे दिन 19 नवंबर को कृतिक शिवहरे द्वारा डॉग को लेकर थाने में दावा प्रस्तुत किया गया। उसका कहना था कि यह डॉग मेरा है इसके बाद से ही लगभग 2 दिनों से डॉग को लेकर दोनों ही पक्ष अपने अपने को डॉग होने का दावा कर रहे है।

शादाब खान एवं कृतिक द्वारा दावा किए जाने के कारण डॉग को किसे सौंपा जाए इसीलिए शादाब खान द्वारा कहा गया कि डॉग का ब्लड सेम्पल लिया जाए और उसका उसके पिता के साथ डीएनए टेस्ट करा कर असली मालिक को सौंपा जाए। इसी बात को लेकर देहात थाना पुलिस टी आई हेमंत श्रीवास्तव द्वारा देर रात 8 बजे प्रतिवेदन बनाकर जिला पशु चिकित्सालय खुलवा कर डॉग का ब्लड सैंपल लेकर उसे संबंधित लैब में पहुंचाने को कहा गया। वहीं शादाब खान का कहना है कि 18 तारीख को वह मालाखेड़ी में स्थान पर गया था जहां पर उसने एक ग्राहक बनकर के उस जगह पर चौकीदार से बात की। इसके बाद उसने अपने डॉग को पहचान कर देहात पुलिस को फोन लगाया और बताया कि उसने अगस्त माह में आवेदन दिया था जिसमें डॉग लेब्राडोर प्रजाति का गुम होने की सूचना दी थी जिसके बाद से ही उसकी नजर उस  डॉग पर  पड़ी और उसके द्वारा पुलिस को सूचना देकर संबंधित दस्तावेज दिखाकर डॉग को लेकर आया गया साथ ही  शादाब द्वारा यह दावा किया गया कि डॉग के फादर को भी पचमढ़ी से बुलाकर और डॉग कोको का ब्लड सैंपल लेकर दोनों का मैच कराया जाए और जिसका डॉग होगा उसे सौंपा जाये।

वहीं दूसरी ओर दावा करने वाले  कृतिक का कहना है कि वह 18 नवंबर को भोपाल में था। उस समय शादाब खान का फोन आया था और उसने बताया कि उसे डॉग परचेज करना है जिसके बाद कृतिक ने उसके चौकीदार को डॉग दिखाने के लिए कहा। बाद में शादाब खान द्वारा यह कहा गया कि डॉग मेरा है और शादाब खान द्वारा डॉग को मेरे स्थान  शादाब के घर ले जाया गया। साथ ही उसने 19 नवंबर को जिस व्यक्ति से डॉग खरीदा था उसको भी थाने बुलाकर डॉग की पुष्टि करवाई है और जिस व्यक्ति से उसे खरीदा है उसे भी डॉग को दिखाया है। डीएनए रिपोर्ट आने के बाद उसे संबंधित मालिक के पास उसे पहुंचाया जाएगा। तब तक के लिए डॉग को जिसके घर से लाया गया था, वहीं पर ही रखा जाएगा।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News