Cover
ब्रेकिंग
सीरम का एस्ट्राजेनेका से वैक्‍सीन की 10 करोड़ डोज का समझौता कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित 8 राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ आज पीएम मोदी की अहम बैठक, वैक्सीन पर भी चर्चा आतंकवाद, नशे के कारोबार को बल देने वाली मनी लांड्रिंग पर अंकुश नहीं लग पाना एक बड़ी चुनौती कोरोना जैसी प्राणहंता महामारी व जानलेवा प्रदूषण को देखते हुए भी लोग करते हैं नागरिक कर्तव्यों की अवहेलना बाइडन मंगलवार को मंत्रिमंडल की करेंगे घोषणा, ट्रंप कैंपेन की ओर से रोड़े अटकाने का काम जारी पाक मंत्री ने इमैनुअल मैक्रों के खिलाफ नाजी संबंधी बयान लिया वापस, फ्रांस सरकार ने जताई थी कड़ी आपत्ति प्रधानमंत्री मोदी कोरोना संक्रमण के मौजूदा हालात की समीक्षा के लिए राज्यों के साथ कर सकते हैं बैठक कोरोना वैक्सीन के आपात इस्तेमाल के तरीकों पर हो रहा विचार, टास्क फोर्स तय करेगी आपात प्रयोग के तौर तरीके पंजाब में रेल परिचालन शुरू, आज चलेगी मालगाड़ी और 24 नवंबर से घूमेगा ट्रेनों का पहिया आज से खुलेंगी मध्य प्रदेश की अधीनस्थ अदालतें, पांच दिसंबर तक चलेगी प्रायोगिक सुनवाई

ऑनलाइन शिक्षा अप्रभावी और अपर्याप्त, टीचर्स और पैरेंट्स के साथ की गयी अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी की फील्ड स्टडी में दावा

नई दिल्ली।  कोविड-19 महामारी और संक्रमण से रोकथाम के लिए लगे लॉक डाउन के चलते घर से ऑनलाइन मोड में कक्षाओं के आयोजन और चलाये जा रहे शैक्षणिक सत्र को लेकर देश भर के टीचर्स और पैरेंट्स ने असंतोषजनक प्रतिक्रियायें दी हैं। अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी द्वारा सोमवार, 16 नवंबर को जारी एक फील्ड स्टडी रिपोर्ट में कहा गया है कि ऑनलाइन टीचिंग अप्रभावी और अपर्याप्त है। यूनिवर्सिटी द्वारा 5 राज्यों के 26 जिलों में 1,522 स्कूलों में फील्ड स्टडी की गयी है। इन स्कूलों में 80 हजार से अधिक स्टूडेंट्स पढ़ते हैं।

ऑनलाइन शिक्षा को लेकर टीचर्स और स्टूडेंट्स के अनुभव को जानने के उद्देश्य से फील्ड स्टडी की गयी। यूनिवर्सिटी द्वारा जारी स्टेटमेंट के अनुसार, फील्ड स्टडी के दौरान अधिकतर टीचर्स और पैरेट्स ऑनलाइन मोड को शिक्षा के लिए अप्रभावी और अपर्याप्त ही बताते रहे। इन पैरेट्स का कहना था कि वे अपने बच्चों को जरूरी स्वास्थ्य सावधानियों के साथ स्कूल भेजने को तैयार हैं और वे उन्हें नहीं लगता है कि बच्चों को स्कूल भेजने से स्वास्थ्य सम्बन्धी कोई समस्या होगी।

अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी के वॉयस चांसलर अनुराग बेहर के अनुसार, “ऑनलाइन शिक्षा, विशेषतौर पर स्कूली-उम्र बच्चों के लिए, सिर्फ इंटरनेट और ऑनलाइन रिसोर्स की कमी से ही नहीं, बल्कि शिक्षा की मूल-प्रकृति के कारण भी अप्रभावी है।” उन्होंने कहा कि शिक्षा के लिए फिजिकल प्रेजेंस, अटेंशन, थॉट और इमोशंस जरूरी हैं। ये सभी मिलकर चरणबद्ध तरीके से हर बच्चे के लिए सीखने के उद्देश्यों को पूरा करने में मदद करते हैं।

वॉयस चांसलर ने टीचर और स्टूडेंट के बीच मौखिक और गैर-मौखिक बातचीत को शिक्षा के लिए जरूरी बताया, जो कि परंपरागत कक्षाओं के जरिए ही संभव है। वहीं, रिपोर्ट के अनुसार 80 फीसदी शिक्षकों ने ऑनलाइन एजुकेशन में बच्चों के साथ ‘इमोशनल कनेक्ट’ को असंभव बताया, जबकि 90 फीसदी अध्यापकों को लगा कि ऑनलाइन क्लासेस के दौरान बच्चों का सार्थक मूल्यांकन नहीं पाता है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News