Cover
ब्रेकिंग
शादी के बाद एक्स ब्वॉयफ्रेंड कुशाल टंडन से टकराईं गौहर ख़ान, दिया ये रिएक्शन राहुल के इटली ट्रिप पर भाजपा का निशाना, शिवराज बोले- स्‍थापना दिवस पर ‘9 2 11’ हो गए, कांग्रेस ने दी सफाई पीएम मोदी, भाजपा के अन्य शीर्ष नेताओं ने दी श्रद्धांजलि दर्ज हुए 20 हजार से अधिक संक्रमण के नए मामले, 279 मौत; जानें अब तक का पूरा आंकड़ा उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र रावत Delhi AIIMS में कराएंगे उपचार, कोरोना से हैं संक्रमित देश की पहली ड्राइवरलेस मेट्रो को पीएम ने दिखाई हरी झंडी, दिल्ली में रफ्तार भरने लगी ट्रेन किसान नेता राकेश टिकैत को फोन पर मिली जान से मारने की धमकी, जांच में जुटी पुलिस Year 2021- नया साल लेकर आ रहा ग्रहण के चार गजब नजारे, पूर्ण चंद्रग्रहण से होगी शुरुआत शीतकालीन सत्र पर बोले नरोत्तम, सरकार की कोशिश कि इसे न टाला जाए, कांग्रेस पर भी साधा निशाना MP के इस गांव में न सड़क है न कोई सुविधा, खाट पर रखकर ग्रामीण 3 KM ले गए शव

ऑनलाइन शिक्षा अप्रभावी और अपर्याप्त, टीचर्स और पैरेंट्स के साथ की गयी अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी की फील्ड स्टडी में दावा

नई दिल्ली।  कोविड-19 महामारी और संक्रमण से रोकथाम के लिए लगे लॉक डाउन के चलते घर से ऑनलाइन मोड में कक्षाओं के आयोजन और चलाये जा रहे शैक्षणिक सत्र को लेकर देश भर के टीचर्स और पैरेंट्स ने असंतोषजनक प्रतिक्रियायें दी हैं। अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी द्वारा सोमवार, 16 नवंबर को जारी एक फील्ड स्टडी रिपोर्ट में कहा गया है कि ऑनलाइन टीचिंग अप्रभावी और अपर्याप्त है। यूनिवर्सिटी द्वारा 5 राज्यों के 26 जिलों में 1,522 स्कूलों में फील्ड स्टडी की गयी है। इन स्कूलों में 80 हजार से अधिक स्टूडेंट्स पढ़ते हैं।

ऑनलाइन शिक्षा को लेकर टीचर्स और स्टूडेंट्स के अनुभव को जानने के उद्देश्य से फील्ड स्टडी की गयी। यूनिवर्सिटी द्वारा जारी स्टेटमेंट के अनुसार, फील्ड स्टडी के दौरान अधिकतर टीचर्स और पैरेट्स ऑनलाइन मोड को शिक्षा के लिए अप्रभावी और अपर्याप्त ही बताते रहे। इन पैरेट्स का कहना था कि वे अपने बच्चों को जरूरी स्वास्थ्य सावधानियों के साथ स्कूल भेजने को तैयार हैं और वे उन्हें नहीं लगता है कि बच्चों को स्कूल भेजने से स्वास्थ्य सम्बन्धी कोई समस्या होगी।

अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी के वॉयस चांसलर अनुराग बेहर के अनुसार, “ऑनलाइन शिक्षा, विशेषतौर पर स्कूली-उम्र बच्चों के लिए, सिर्फ इंटरनेट और ऑनलाइन रिसोर्स की कमी से ही नहीं, बल्कि शिक्षा की मूल-प्रकृति के कारण भी अप्रभावी है।” उन्होंने कहा कि शिक्षा के लिए फिजिकल प्रेजेंस, अटेंशन, थॉट और इमोशंस जरूरी हैं। ये सभी मिलकर चरणबद्ध तरीके से हर बच्चे के लिए सीखने के उद्देश्यों को पूरा करने में मदद करते हैं।

वॉयस चांसलर ने टीचर और स्टूडेंट के बीच मौखिक और गैर-मौखिक बातचीत को शिक्षा के लिए जरूरी बताया, जो कि परंपरागत कक्षाओं के जरिए ही संभव है। वहीं, रिपोर्ट के अनुसार 80 फीसदी शिक्षकों ने ऑनलाइन एजुकेशन में बच्चों के साथ ‘इमोशनल कनेक्ट’ को असंभव बताया, जबकि 90 फीसदी अध्यापकों को लगा कि ऑनलाइन क्लासेस के दौरान बच्चों का सार्थक मूल्यांकन नहीं पाता है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News