Cover
ब्रेकिंग
Rhea Chakraborty के भाई शौविक चक्रवर्ती को लगभग 3 महीने बाद मिली ज़मानत, ड्रग्स केस में हुई थी गिरफ़्तारी कांग्रेस का आरोप, केंद्र सरकार ने बैठक कर किसानों की आंखों में झोंकी धूल मुंबई: यूपी फिल्म सिटी निर्माण पर बोले सीएम योगी आदित्यनाथ- हम यहां कुछ लेने नहीं, नया बनाने आए कर्नाटक में जनवरी-फरवरी में कोविड-19 की दूसरी लहर की आशंका, लोगों में डर का माहौल दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण पर सख्त NGT, क्रिसमस-नए साल पर पटाखे नहीं चला पाएंगे लोग जाधव के लिए वकील नियुक्ति मामले पर विस्तार से चर्चा की सलाह, अहलूवालिया रखेंगे भारत का पक्ष पीड़िता बोली- ससुर करता था अश्लील हरकतें, 2 महीने की बच्ची पर भी तरस नहीं किया, दे दिया तीन तलाक भगवान को ठंड से बचाने के लिए भक्तों ने ओढ़ाए गर्म वस्त्र भूमाफिया बब्बू और छब्बू पर चला प्रशासन का डंडा, अवैध निर्माण जमींदोज दर्दनाक हादसे का सुखद अंत: 3 लोगों समेत अनियंत्रित बोलेरो गहरी नदी में समाई

लोजपा ने बिहार में अहम होने का किया दावा, कहा- 36 सीटों पर जदयू की हार में रही महत्वपूर्ण भूमिका

नई दिल्ली। बिहार विधानसभा चुनाव में लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के मात्र एक सीट जीतने के बाद उसकी संभावनाओं को लेकर उठ रहे सवालों के बीच पार्टी सूत्रों ने 40 से अधिक सीटों पर चुनाव परिणाम बदलने में पार्टी का प्रभाव होने की बात कही। लोजपा ने इस बात पर जोर दिया है कि राज्य की सियासत में उसकी मौजूदगी अहम रहेगी।

36 सीटों पर जदयू की हार में लोजपा की अहम भूमिका

सूत्रों ने दावा किया कि राज्य में कम-से-कम 36 सीटों पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार नीत जदयू की हार में लोजपा की अहम भूमिका रही, जो पार्टी के वोट प्रतिशत से साफ है। पार्टी सूत्रों के अनुसार, अगर उसने इसी तरह से भाजपा के खिलाफ सक्रियता दिखाई होती तो उसे भी नुकसान होता।

एक सीट जीतने वाली लोजपा को मिले 5.7 फीसद वोट

लोजपा सूत्रों ने कहा कि पार्टी ने भले ही एक सीट जीती हो, लेकिन उसने 5.7 फीसद वोट प्राप्त कर अपनी मौजूदगी साबित की है। लोजपा ने ऐसी केवल छह सीटों पर उम्मीदवार उतारे जहां भाजपा प्रत्याशी मैदान में थे, जबकि उन सभी 115 सीटों पर उसने उम्मीदवार खड़े किए, जहां जदयू ने अपने प्रत्याशी उतारे थे।

लोजपा को अपने दम पर चुनाव में उतरने के अलावा कोई विकल्प नहीं था

उन्होंने कहा कि लोजपा को चुनाव में केवल 15 सीटें लड़ने की पेशकश की गई थी। इसलिए उसके पास अपने दम पर चुनाव में उतरने के अलावा कोई विकल्प नहीं था। हालांकि, सीटों की पेशकश के बारे में भाजपा या लोजपा की ओर से कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है। लोजपा सूत्रों ने कहा कि छह लोकसभा सदस्यों और एक राज्यसभा सदस्य होने के बाद पार्टी केवल 15 विधानसभा सीटें स्वीकार नहीं कर सकती थी।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News