Cover
ब्रेकिंग
शादी के बाद एक्स ब्वॉयफ्रेंड कुशाल टंडन से टकराईं गौहर ख़ान, दिया ये रिएक्शन राहुल के इटली ट्रिप पर भाजपा का निशाना, शिवराज बोले- स्‍थापना दिवस पर ‘9 2 11’ हो गए, कांग्रेस ने दी सफाई पीएम मोदी, भाजपा के अन्य शीर्ष नेताओं ने दी श्रद्धांजलि दर्ज हुए 20 हजार से अधिक संक्रमण के नए मामले, 279 मौत; जानें अब तक का पूरा आंकड़ा उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र रावत Delhi AIIMS में कराएंगे उपचार, कोरोना से हैं संक्रमित देश की पहली ड्राइवरलेस मेट्रो को पीएम ने दिखाई हरी झंडी, दिल्ली में रफ्तार भरने लगी ट्रेन किसान नेता राकेश टिकैत को फोन पर मिली जान से मारने की धमकी, जांच में जुटी पुलिस Year 2021- नया साल लेकर आ रहा ग्रहण के चार गजब नजारे, पूर्ण चंद्रग्रहण से होगी शुरुआत शीतकालीन सत्र पर बोले नरोत्तम, सरकार की कोशिश कि इसे न टाला जाए, कांग्रेस पर भी साधा निशाना MP के इस गांव में न सड़क है न कोई सुविधा, खाट पर रखकर ग्रामीण 3 KM ले गए शव

लोजपा ने बिहार में अहम होने का किया दावा, कहा- 36 सीटों पर जदयू की हार में रही महत्वपूर्ण भूमिका

नई दिल्ली। बिहार विधानसभा चुनाव में लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के मात्र एक सीट जीतने के बाद उसकी संभावनाओं को लेकर उठ रहे सवालों के बीच पार्टी सूत्रों ने 40 से अधिक सीटों पर चुनाव परिणाम बदलने में पार्टी का प्रभाव होने की बात कही। लोजपा ने इस बात पर जोर दिया है कि राज्य की सियासत में उसकी मौजूदगी अहम रहेगी।

36 सीटों पर जदयू की हार में लोजपा की अहम भूमिका

सूत्रों ने दावा किया कि राज्य में कम-से-कम 36 सीटों पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार नीत जदयू की हार में लोजपा की अहम भूमिका रही, जो पार्टी के वोट प्रतिशत से साफ है। पार्टी सूत्रों के अनुसार, अगर उसने इसी तरह से भाजपा के खिलाफ सक्रियता दिखाई होती तो उसे भी नुकसान होता।

एक सीट जीतने वाली लोजपा को मिले 5.7 फीसद वोट

लोजपा सूत्रों ने कहा कि पार्टी ने भले ही एक सीट जीती हो, लेकिन उसने 5.7 फीसद वोट प्राप्त कर अपनी मौजूदगी साबित की है। लोजपा ने ऐसी केवल छह सीटों पर उम्मीदवार उतारे जहां भाजपा प्रत्याशी मैदान में थे, जबकि उन सभी 115 सीटों पर उसने उम्मीदवार खड़े किए, जहां जदयू ने अपने प्रत्याशी उतारे थे।

लोजपा को अपने दम पर चुनाव में उतरने के अलावा कोई विकल्प नहीं था

उन्होंने कहा कि लोजपा को चुनाव में केवल 15 सीटें लड़ने की पेशकश की गई थी। इसलिए उसके पास अपने दम पर चुनाव में उतरने के अलावा कोई विकल्प नहीं था। हालांकि, सीटों की पेशकश के बारे में भाजपा या लोजपा की ओर से कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है। लोजपा सूत्रों ने कहा कि छह लोकसभा सदस्यों और एक राज्यसभा सदस्य होने के बाद पार्टी केवल 15 विधानसभा सीटें स्वीकार नहीं कर सकती थी।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News