Cover
ब्रेकिंग
शादी के बाद एक्स ब्वॉयफ्रेंड कुशाल टंडन से टकराईं गौहर ख़ान, दिया ये रिएक्शन राहुल के इटली ट्रिप पर भाजपा का निशाना, शिवराज बोले- स्‍थापना दिवस पर ‘9 2 11’ हो गए, कांग्रेस ने दी सफाई पीएम मोदी, भाजपा के अन्य शीर्ष नेताओं ने दी श्रद्धांजलि दर्ज हुए 20 हजार से अधिक संक्रमण के नए मामले, 279 मौत; जानें अब तक का पूरा आंकड़ा उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र रावत Delhi AIIMS में कराएंगे उपचार, कोरोना से हैं संक्रमित देश की पहली ड्राइवरलेस मेट्रो को पीएम ने दिखाई हरी झंडी, दिल्ली में रफ्तार भरने लगी ट्रेन किसान नेता राकेश टिकैत को फोन पर मिली जान से मारने की धमकी, जांच में जुटी पुलिस Year 2021- नया साल लेकर आ रहा ग्रहण के चार गजब नजारे, पूर्ण चंद्रग्रहण से होगी शुरुआत शीतकालीन सत्र पर बोले नरोत्तम, सरकार की कोशिश कि इसे न टाला जाए, कांग्रेस पर भी साधा निशाना MP के इस गांव में न सड़क है न कोई सुविधा, खाट पर रखकर ग्रामीण 3 KM ले गए शव

अमेरिका में टूटा रिकॉर्ड, 120 साल में सबसे अधिक हुआ मतदान

नई दिल्ली। अमेरिका चुनाव में इस बार मतदाताओं ने जबर्दस्त जोश दिखाया। इस बार मतदान में बीते 120 सालों का रिकॉर्ड टूट गया। अमूमन अमेरिकी चुनावों में 50 से 60 प्रतिशत तक मतदान होता है। पर इस बार मतदाताओं ने इतिहास रच डाला। अमेरिकी इलेक्शन प्रोजेक्ट के अनुसार, इस बार करीब 66.9 फीसदी मतदाताओं ने वोट डाला।

2020 के पहले 1900 में सबसे अधिक वोटर टर्नआउट था, जब 73.7 फीसदी लोगों ने मतदान किया था। यूनिवर्सिटी ऑफ फ्लोरिडा द्वारा चलाए जा रहे यूएस इलेक्शन प्रोजेक्ट के प्रोफेसर माइकल मैकडोनाल्ड का कहना है कि सीधे शब्दों में कहें तो 1900 से 2020 के मतदान की तुलना करना उचित नहीं होगा। उस दौरान महिलाओं को मतदान का अधिकार नहीं था। 2020 में मतदान बढ़ने की वजह युवा मतदाता और मेल-इन-वोट हैं।

टफ्ट्स यूनिवर्सिटी के सेंटर फॉर इंफॉर्मेशन एंड रिसर्च ऑन सिविल लर्निंग एंड इंगेजमेंट के अनुसार, 18 से 29 साल की उम्र के मतदाताओं की संख्या अधिक होने का भी ज्यादा मतदान पर प्रभाव पड़ा है। उदाहरण के तौर पर टेक्सास में इन चुनावों में 13.1 फीसदी युवा मतदाता (18 से 29 साल) इस साल थे, जो कि बीते चुनावों में महज 6 फीसदी थे। मिशिगन में इन चुनावों में 9.4 प्रतिशत युवा मतदाता थे, जबकि बीते चुनावों में ये 2.5 फीसदी ही थे।

अमेरिका में इस समय राष्ट्रपति चुनाव के लिए डाले गए वोटों की गिनती हो रही है। इस बार 160 मिलियन (16 करोड़) से ज्यादा लोगों ने वोट डाला है। मतदान प्रतिशत तकरीबन 67 फीसदी रहा है, जो कि एक सदी में सबसे ज्यादा है।

1900 में विलियम बने थे राष्ट्रपति

1900 में 73.7 फीसदी लोगों ने मतदान किया था। इस साल विलियम मैकिनली राष्ट्रपति बने थे। इसके बाद मतदान का आंकड़ा 65.7 फीसदी से अधिक नहीं गया। हिस्ट्री डॉट कॉम के अनुसार, अमेरिका में सबसे कम मतदान 1792 में हुआ था। 1828 में पहली बार मतदान ने 50 फीसदी का आंकड़ा पार किया था। 1876 में वोटिंग प्रतिशत 82.6 हो गया था।

270 का जादुई आंकड़ा

अमेरिका में राष्ट्रपति को नेशनल पॉपुलर वोट के जरिए 538 सदस्यीय इलेक्टोरल कॉलेज के जरिए चुना जाता है, जिसमें हर उम्मीदवार को जीतने के लिए 270 का बहुमत चाहिए होता है। दरअसल, हर राज्य में एक निश्चित निर्वाचन प्रतिनिधि (इलेक्टोरल कॉलेज) होते हैं, मसलन कैलीफोर्निया में 55 निर्वाचक प्रतिनिधि तय हैं, प्रांत में जिसे सर्वाधिक वोट मिलेंगे, उसी के ये सारे इलेक्टोरल कॉलेज माने जाएंगे।

इलेक्टोरल कॉलेज

अमेरिका के संविधान में इसे 1787 में शामिल किया गया। इस संस्था में फिलहाल 538 इलेक्टर या प्रतिनिधि होते हैं, जिनका चुनाव होता है। हर एक राज्य से उतने ही प्रतिनिधि होते हैं, जितने कि उस राज्य से संसद के दोनों सदनों में सांसद। सबसे कम आबादी वाले वायोमिंग से 3 इलेक्टर हैं, जबकि सबसे ज्यादा आबादी वाले कैलिफोर्निया से 55। राष्ट्रपति का चुनाव जीतने के लिए कम से कम 270 इलेक्टरों के वोट की जरूरत होती है।

पॉपुलर वोट

चुनाव में जीत सिर्फ पॉपुलर वोट से नहीं होती और यह इस सदी में दो बार हो चुका है। पॉपुलर वोट में पिछड़ने के बावजूद रिपब्लिकन उम्मीदवार जॉर्ज डब्ल्यू बुश ने साल 2000 में और डोनाल्ड ट्रंप ने 2016 में राष्ट्रपति चुनाव जीता। डोनाल्ड ट्रंप को हिलेरी क्लिंटन की तुलना में करीब 30 लाख कम वोट मिले थे।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News