Cover
ब्रेकिंग
श्रीनगर आतंकी हमले में सेना के 2 जवान शहीद; मारूति कार में सवार थे 3 आतंकी, सर्च ऑपरेशन जारी अमेरिका में 24 घंटे में कोरोना से दो हजार से ज्यादा मौतें, लगभग सभी राज्यों में बढ़े मामले ईरान पर और प्रतिबंध लगा सकते हैं ट्रंप, बाइडन को भी इसी राह पर चलने की सलाह OTT कंटेंट की सेंसरशिप के ख़िलाफ़ शत्रुघ्न सिन्हा, बोले- 'हर्ट सेंटिमेंट्स के नाम पर सेंसरशिप मज़ाक' Drug Case में भारती सिंह का नाम आने के बाद कपिल शर्मा हुए ट्रोल, यूजर ने कहा- वही हाल आपका है... हड़ताल के चलते सरकारी बैंकों में कामकाज आंशिक रूप से हुआ प्रभावित, इन बैंकों पर नहीं पड़ा असर Google आपके एंड्राइड स्मार्टफोन की हर हरकत पर रखता है नजर, जानिए कैसे करें इसे ब्लॉक, ये है स्टेप बाय स्टेप प्रोसेस आरोन फिंच ने कोहली को बताया वनडे का सर्वकालिक महान खिलाड़ी, लेकिन दिमाग में है ये बात Ind vs Aus: 'रोहित शर्मा की गैरमौजूदगी में शिखर धवन का बेस्ट ओपनिंग पार्टनर हो सकता है ये बल्लेबाज' किसानों के समर्थन में उतरे केजरीवाल, बोले- अन्नदाताओं पर जुर्म बिल्कुल गलत

पाकिस्‍तान से रिहाई के बाद एक अलग लुक में सामने आए थे विंग कमांडर अभिनंदन, धनोआ के साथ भरी थी उड़ान

नई दिल्‍ली। वीर चक्र विजेता विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान (Wing Commander Abhinandan Varthman) आज किसी भी पहचान के मोहताज नहीं रह गए हैं। उनका नाम सबसे पहले देश और दुनिया ने वर्ष 2019 में उस वक्‍त सुना था जब भारत ने पाकिस्‍तान के बालाकोट में स्थित आतंकी कैंपों पर एयर स्‍ट्राइक (Balakot Air Strike) की थी। 27 फरवरी 2019 को उन्‍होंने अपने मिग-21 लड़ाकू विमान से पाकिस्‍तान के आधुनिक एफ-16 लड़ाकू विमान को मार गिराया था। ये भी अपने-आप में एक बड़ी घटना थी। ऐसा इसलिए भी था क्‍योंकि इन विमानों के साथ हुई दुर्घटनाओं के चलते इन्‍हें फ्लाइंग कॉफिन तक का नाम दिया गया था। इस एयर स्‍ट्राइक के बाद पाकिस्‍तान ने न तो कभी ये कबूला कि उसका कोई जेट इस तरह से मार गिराया गया और न ही इसमें पायलट की मौत की बात ही कबूल की थी। हालांकि, स्‍थानीय रिपोर्ट में इस बात का जिक्र जरूर सामने आया था। पाकिस्‍तान ने कभी ये भी नहीं कबूला कि बालाकोट में आतंकी कैंप मौजूद हैं।

वीडियो ने खोल दिए राज

इस एयर स्‍ट्राइक के दौरान वर्धमान का जेट दुर्घटनाग्रस्‍त हो गया था और उन्‍हें गिरफ्तार कर लिया गया था। 28 फरवरी को पाकिस्‍तान वर्धमान को सही सलामत छोड़ने पर राजी हुआ था। हालांकि, इसका एलान करते हुए पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने सदन में इसको पाकिस्‍तान का दोस्‍ताना रवैया बताया था, जबकि हकीकत ये थी कि पाकिस्‍तान इस बात से घबरा गया था कि यदि वर्धमान को नहीं छोड़ा गया तो उसका बुरा हाल होगा। ये बात अब पूरी तरह से दुनिया के सामने आ भी गई है। इस सच्‍चाई का एक वीडियो जबरदस्‍त वायरल हो रहा है, जो उसकी कलई को खोल रहा है।

हीरो ऑफ इंडिया 

बहरहाल, बालाकोट एयर स्‍ट्राइक के बाद विंग कमांडर वर्धमान देश के लिए एक हीरो बन गए। उनकी पहचान एक ऐसे जांबाज फौजी के रूप में है जिसने पाकिस्‍तान की यातनाएं तो सही लेकिन अपना मुंह नहीं खोला। जिस वक्‍त उनको गिरफ्तार कर बेस कैंप लाया गया और उनसे सवालात किए गए उस वक्‍त उनके द्वारा कहा गया एक जवाब भारतीयों की जुबान पर चढ़ गया। उन्‍होंने पाकिस्‍तान सेना के अधिकारी को कहा था कि Sorry, I am not supposed to telling you anything. ये जवाब उन्‍होंने उन्होंने तब दिया था जब पाक अधिकारी ने उनसे पाकिस्‍तान में इस तरह से दाखिल होने का मकसद और उनके मिशन के बारे में पूछा था।

60 घंटों के बाद हुई थी रिहाई 

1 मार्च 2019 को विंग कमांडर अभिनंदन को पाकिस्‍तान ने 60 घंटों के बाद वाघा सीमा पर भारत की सीमा सुरक्षा बल को सौंप दिया था। इस पूरे वाकये को करोड़ों लोगों ने टीवी पर देखा था। भारत को सौंपे जाने के बाद उनका मेडिकल चेकअप कराया गया। इसमें उन्‍हें यातनाएं दिए जाने की बात सामने आई। इस दौरान उनसे तत्‍कालीन रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी अस्‍पताल में मुलाकात की। कुछ दिन बाद बंगलुरू के इंस्टिट्यूट ऑफ एयरोस्‍पेस मेडिसिन ने उन्‍हें पूरी तरह से फिट होने का प्रमाण पत्र दिया। इसमें ये भी कहा गया कि वो लड़ाकू विमान उड़ाने के लिए पूरी तरह से फिट हैं। बालाकोट एयर स्‍ट्राइक के दौरान विंग कमांडर अभिनंदन श्रीनगर एयर बेस की 51वी स्‍क्‍वार्डन का हिस्‍सा थे और बेस पर डिप्‍टी फ्लाइट कमांडर थे। इसका अर्थ है कि वो श्रीनगर में तीसरे सबसे बड़े अधिकारी थे। ड्यूटी ज्‍वाइन करने से कुछ समय पहले उनका ट्रांसफर श्रीनगर एयरबेस से बदल कर वेस्‍टर्न एयर कमांड, राजस्‍थान में कर दिया गया।

वायुसेना प्रमुख के साथ भरी थी उड़ान

23 अगस्‍त को उन्‍होंने अपनी ड्यूटी ज्‍वाइन की थी। 2 सितंबर 2019 को विंग कमांडर अभिनंदन ने जब तत्‍कालीन एयर चीफ मार्शल बीएस धनोओ के साथ पठानकोट एयरबेस से मिग 21 में उड़ान भरी तो उनके चाहने वालों ने सोशल मीडिया पर लिखा Tiger is Back! हालांकि यहां पर उनका स्‍टाइल कुछ बदला हुआ था। सिर के बाल और मूंछ पहले की अपेक्षा काफी छोटी थी। इसके बावजूद उनकी बॉडी लैंग्‍वेज और उनका जोश पूरी तरह से हाई था। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो इस वर्ष उनका प्रमोशन ग्रुप केप्‍टन के लिए होना है। अगस्‍त 2019 में स्‍वतंत्रता दिवस के मौके पर उन्हें वीर चक्र से सम्‍मानित किया गया। बालाकोट एयर स्‍ट्राइक के बाद नेशनल हीरो बने विंग कमांडर अभिनंदन की क मूछों का स्‍टाइल भी काफी ट्रेंड में आया था और उनके सम्‍मान में कई लोगों ने इसी तरह की मूंछ रखनी शुरू कर दी थीं। इसको अभिनंदन कट स्‍टाइल नाम दिया गया था।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News