Cover
ब्रेकिंग
दिल्ली सीमा पर डटे किसानों को हटाने पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, CJI बोले- बात करके पूरा हो सकता है मकसद UP के अगले विधानसभा चुनाव में ओवैसी-केजरीवाल बिगाड़ सकते हैं विपक्ष का गणित सावधान! CM योगी का बदला मिजाज, अब कार से करेंगे किसी भी जिले का औचक निरीक्षण संसद का शीतकालीन सत्र नहीं चलाने पर भड़की प्रियंका गांधी पाक सेना ने राजौरी मे अग्रिम चौकियों पर गोलीबारी की संत बाबा राम सिंह की मौत पर कमलनाथ बोले- पता नहीं मोदी सरकार नींद से कब जागेगी गृह मंत्री के विरोध में उतरे पूर्व सांसद कंकर मुंजारे गिरफ्तार, फर्जी नक्सली मुठभेड़ को लेकर तनाव मोबाइल लूटने आए बदमाश को मेडिकल की छात्रा ने बड़ी बहादुरी से पकड़ा कांग्रेस बोलीं- जुबान पर आ ही गया सच, कमलनाथ सरकार गिराने में देश के PM का ही हाथ EC का कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश, चुनाव में पैसे के गलत इस्तेमाल का आरोप

झांसी की रानी के साथ शहीद हुए 745 नागा साधुओं के शस्त्रों का हुआ पूजन

ग्वालियर। गंगादास की बड़ीशाला में दशहरा के अवसर पर सोमवार को शस्त्रों का पूजन किया गया। झांसी की रानी लक्ष्मीबाई के साथ युद्ध में शहीद हुए 745 नागा साधुओं के शस्त्र और तोप का पूजन महंत रामसेवक महाराज ने किया। हर साल दशहरे पर यहां इन शस्त्रों का पूजन किया जाता है। हालाकि झांसी की रानी के अस्त्र-शस्त्र नगर निगम संग्रहालय में रखे हैं।

रानी लक्ष्मीबाई को सिंधिया ने मदद देने से किया था इन्का

झांसी की रानी के गुरु पुरनविराठी पीठाधीश स्वामी गंगादास जी महाराज थे। अंग्रेजों के विरुद्ध पहला संगठित संग्राम 1857 में हुआ था। तब रानी लक्ष्मीबाई दतिया से ग्वालियर सिंधिया से मदद मांगने आई थीं, लेकिन वह उनसे नहीं मिले। महल से निकलकर वह आई तब उनका घोड़ा स्वर्णरेखा नदी को पार नहीं कर सका और गिर गया। गिरने के बाद भी रानी लक्ष्मीबाई ने एक अंग्रेज को घायल कर दिया और वह घायल होकर बेहोश हो गई थी। इसके बाद उन्हें रघुनाथ सिंह ने देखा और उनका चेहरा गीले कपड़े से साफ किया। इसके बाद रानी को होश आया।

अंग्रेजों के साथ युद्ध में 745 नागा शहीद हुए थे

रघुनाथ सिंह से उन्होंने पूछा कि मैं कहा हूं। गंगादास की बड़ीशाला का नाम सुनते ही रानी ने उनसे शाला जाने को कहा। जब वह गुरु के पास आई तो उन्होंने कहा कि मैं अब नहीं जी सकूंगी, लेकिन मेरे शरीर और मेरे बेटे को अंग्रेजों के हाथों में नहीं पड़ने देना। इसके बाद जब अंग्रेजों ने शाला को बाहर से घेर लिया। तब शाला में मौजूद लगभग दो हजार साधुओं ने रानी के साथ लड़ने को कहा, क्योंकि नागा साधु अस्त्र-शस्त्र और तोप चलाने में सक्षम थे, इसलिए उन्होंने रानी की मदद की। इस युद्ध में 745 नागा शहीद हुए और रानी के पुत्र को लेकर दो साधुओं को शाला से भगा दिया। इसके बाद अंग्रेजों ने मठ को उजाड़ दिया और संपत्ति को लूटा।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News