Cover
ब्रेकिंग
दिल्ली सीमा पर डटे किसानों को हटाने पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, CJI बोले- बात करके पूरा हो सकता है मकसद UP के अगले विधानसभा चुनाव में ओवैसी-केजरीवाल बिगाड़ सकते हैं विपक्ष का गणित सावधान! CM योगी का बदला मिजाज, अब कार से करेंगे किसी भी जिले का औचक निरीक्षण संसद का शीतकालीन सत्र नहीं चलाने पर भड़की प्रियंका गांधी पाक सेना ने राजौरी मे अग्रिम चौकियों पर गोलीबारी की संत बाबा राम सिंह की मौत पर कमलनाथ बोले- पता नहीं मोदी सरकार नींद से कब जागेगी गृह मंत्री के विरोध में उतरे पूर्व सांसद कंकर मुंजारे गिरफ्तार, फर्जी नक्सली मुठभेड़ को लेकर तनाव मोबाइल लूटने आए बदमाश को मेडिकल की छात्रा ने बड़ी बहादुरी से पकड़ा कांग्रेस बोलीं- जुबान पर आ ही गया सच, कमलनाथ सरकार गिराने में देश के PM का ही हाथ EC का कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश, चुनाव में पैसे के गलत इस्तेमाल का आरोप

आज से सस्‍ता सोना खरीदने का मौका दे रही है सरकार, जानिए इससे जुड़ी कुछ जरूरी बातें

नई दिल्ली। Sovereign Gold Bond (SGB) Scheme 2020-21 की सीरिज सात सब्सक्रिप्शन के लिए 12 अक्टूबर यानी आज से 16 अक्टूबर तक खुली रहेगी। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने स्वर्ण बॉन्ड का इशू प्राइस 5,051 रुपये प्रति ग्राम तय किया है। आरबीआई के बयान के मुताबिक, ‘बॉन्ड का मूल्य सब्सक्रिप्शन अवधि से पिछले सप्ताह के आखिरी तीन कारोबारी दिनों में 999 शुद्धता वाले सोने के औसत बंद भाव के आधार पर 5,051 रुपये प्रति ग्राम है।’

Sovereign Gold Bond Scheme 2020-21 के बारे में कुछ जरूरी बातें: सरकार ने आरबीआई के परामर्श से ऑनलाइन आवेदन करने और डिजिटल माध्यम से भुगतान करने वाले निवेशकों को प्रति ग्राम 50 रुपये की छूट देने का फैसला किया है। केंद्रीय बैंक ने कहा है कि ऐसे निवेशकों के लिए स्वर्ण बॉन्ड की कीमत 5,001 रुपये प्रति ग्राम होगी। सॉवरेन स्वर्ण बॉन्ड योजना (एसजीबी) की 2020-21 सीरिज की आठवीं कड़ी नौ नवंबर से 13 नवंबर तक सब्सक्रिप्शन के लिए खुलेगी।

आरबीआई भारत सरकार की ओर से सॉवरेन स्वर्ण बॉन्ड 2020-21 जारी कर रहा है। स्वर्ण बॉन्ड एक ग्राम सोना के गुणक में लिया जा सकता है। इसकी अवधि आठ वर्ष है और पांच साल के बाद इसमें बाहर निकलने का विकल्प भी है।

गोल्ड बॉन्ड में न्यूनतम एक ग्राम सोना का निवेश किया जा सकता है और आम आदमी के लिए अधिकतम निवेश की सीमा चार किलोग्राम है, जबकि हिंदू अविभाजित परिवार (एचयूएफ) के लिए चार किलोग्राम और ट्रस्ट के लिए यह सीमा 20 किलोग्राम है।

यदि आप मैच्योरिटी तक SGB रखते हैं, तो निवेश पर कोई पूंजीगत लाभ कर नहीं होगा। इसके अलावा, आपको सालाना 2.5% का ब्याज मिलेगा, जिसका भुगतान अर्ध-वार्षिक आधार पर किया जाएगा।

फिजिकल सोने को रखने के लिए SGB एक बेहतर विकल्प है। इसके अलावा, चोरी का कोई खतरा नहीं है और भंडारण की लागत भी नहीं है। इन बॉन्ड को लागू करने के लिए आवश्यक दस्तावेज वोटर आईडी, आधार कार्ड/पैन या टैन/पासपोर्ट जरूरी हैं। भौतिक सोने के विपरीत, SGB पर GST नहीं लगाया जाता है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News