Cover
ब्रेकिंग
याेगी सरकार ने लव जिहाद कानून काे दी मंजूरी, साधू संतों ने फैसले का किया स्वागत अहमद पटेल के निधन पर बोले दिग्विजय- वे सभी कांग्रेसियों के लिए हर राजनैतिक मर्ज़ की दवा थे विजय सिन्‍हा चुने गए स्‍पीकर ,पक्ष में पड़े 126 वोट, विपक्ष में 114 नगरोटा साजिश के पीछे था पाक का हाथ! आतंकियों के पास से मिले डिवाइस ने खोले कई राज राहुल गांधी ने किए तरुण गोगोई के अंतिम दर्शन, बोले- मैंने अपने गुरु को खो दिया चौहान, कमलनाथ, दिग्विजय, सिंधिया ने पटेल के निधन पर शोक व्यक्त किया अहमद पटेल के निधन पर बोले दिग्विजय- वे सभी कांग्रेसियों के लिए हर राजनैतिक मर्ज़ की दवा थे आज तमिलनाडु के तटों से टकराएगा 'निवार', MP में दिखेगा असर, बदलेंगे मौसम के मिजाज UP के बाद मध्य प्रदेश में जल्द बनेगा लव जेहाद के खिलाफ कानून, गृहमंत्री ने बुलाई अहम बैठक पश्चिम रेलवे की पहली किसान रेल सेवा शुरु, सांसद शंकर लालवानी ने दिखाई हरी झंडी

हाथरस में पीड़ित परिवार से फिर मिलीं सीमा कुशवाहा, बोलीं- आरोपितों को दिलाएंगी फांसी

हाथरस। दिल्ली के निर्भया कांड में आरोपितों को फांसी की सजा दिलाने वाली सुप्रीम कोर्ट की वकील सीमा कुशवाहा गुरुवार को हाथरस में थीं। हाथरस के बूलगढ़ी गांव में सीमा ने मृत युवती के परिवार के लोगों से काफी देर वार्ता की।

पीड़ित परिवार से भेंट करने के बाद सीमा कुशवाहा ने कहा कि वह मृत युवती के परिवार के लोगों को न्याय दिलाएंगी। उन्होंने कहा कि हमने इस परिवार से बात कर ली है। इस केस का वकालतनामा भी हम जल्दी तैयार कर लेंगे। सीमा कुशवाह ने कहा कि वह मृतका के परिवार की और से केस लड़ेंगी। उन्होंने कहा कि जिला कोर्ट से लेकर हाईकोर्ट और पिर जरूरत पड़ी तो वह निर्भया कांड के आरोपितों की तरह इस केस के आरोपितों को सुप्रीम कोर्ट से फांसी की सजा दिलाएंगी। निर्भया का केस लड़ने वाली वकील सीमा कुशवाहा ने हाथरस केस में पीड़िता का केस निशुल्क लड़ने का एलान किया है।

आरोपितों के एसपी को भेजे गए पत्र के बाद पीड़ित परिवार बोला-शुरू हो गया है साजिशों का दौर

बूलगढ़ी गांव की दलित युवती के साथ कथित दुष्कर्म तथा हत्या के मामले में जेल में बंद चार आरोपितों के हाथरस के एसपी को भेजे गए पत्र के बाद पीड़ित परिवार ने भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। पीड़ित परिवार का कहना है कि अब तो हमारे खिलाफ साजिशों का दौर शुरू हो गया है, यह सब सुनाने से बेहतर है कि हमको जहर दे दिया जाए।

आरोपितों का एसपी हाथरस के नाम पत्र वायरल होने के बाद पीड़िता की भाभी, मां और पिता ने कहा कि हमारे खिलाफ साजिश की जा रही है। भाभी ने कहा कि उसको (पीड़िता) तो जिला व पुलिस प्रशासन ने चुपके से जला दिया। अब हम लोगों को जहर दे दो। पीड़िता के पिता ने कहा कि हमारे खिलाफ तो लगातार साजिश रची जा रही है। अब पत्र के रूप में एक और बड़ा झूठ सामने आया है। हमारे ऊपर तो रोज आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। उन्होंने साफ कहा कि चार में से किसी भी आरोपित से उनकी कभी भी बात नहीं हुई है। न तो इनमें से किसी की भी हमारे लड़के से दोस्ती नहीं है। यह चारों तो आतंकी टाइप के हैं, इनसे भला कौन दोस्ती करेगा। इनमें से किसी का भी हमारे घर क्या, घर के आसपास भी आना-जाना नहीं था।

मृत युवती के पिता ने कहा कि चार में से एक आरोपित का नाम हमारे लड़के का भी है। उन्होंने बताया कि घटना वाले दिन की कई जानकारी उनको काफी बाद में मिली। हमारी लड़की के साथ वारदात होने के बाद पत्नी तथा बेटा उसको लेकर अस्पताल भागे और थाना में जाकर सूचना दी। इसके बाद तो हम लोग बेटी के इलाज में लग गए। हाथरस के बाद फिर अलीगढ़ के मेडिकल कॉलेज चले गए। थाना में सांसद आए और हमको न्याय का भरोसा दिलाने के साथ बेटी के इलाज की जानकारी ली।

दो आरोपितों की मां बोली-बेटे निर्दोष

दो आरोपियों रामू और रवि की मां ने कहा कि हमारे दोनों बेटे निर्दोष हैं। इस केस में उनको बाद में फंसाया गया है। चिट्ठी में जो लिखा है, वह सही होगा लेकिन हमने यह नहीं देखा है कि वह कब युवती से मिलने जाते थे और कब नहीं जाते थे।

गौरतलब है कि हाथरस केस के मुख्य आरोपित संदीप ने चिट्ठी में लिखा है कि पीड़िता के साथ मेरी दोस्ती थी। मुलाकात के साथ मेरी कभी-कभी उससे फोन पर बात हो जाती थी। मेरी यह दोस्ती उसके घर वालों को पसंद न थी। इस घटना के दिन पीडि़ता ने मुझे मिलने के लिए खेत में बुलाया था, जब मैं वहां गया तो पीड़िता के साथ उसकी मां और भाई मौजूद थे। चिट्ठी में आरोपी संदीप ने कहा कि पीडि़ता के कहने पर मैं अपने घर चला गया। पिता के साथ पशुओं को पानी पिला रहा था, तभी मुझे खबर मिली कि पीड़िता की मां और उसके भाई ने पिटाई की है। उसे गंभीर चोट आई थी। संदीप का कहना है कि इस मामले में हम निर्दोष हैं। मेरे रिश्तेदार रवि और रामू को भी फंसाया गया। इसके साथ ही लवकुश का नाम भी डाला गया है। हम चारों निर्दोष हैं और पूरे मामले की निष्पक्ष जांच की मांग करते हैं।

अधीक्षक ने चिट्ठी लिखे जाने की पुष्टि की है। अभी तक एसपी की ओर से कोई बयान नहीं आया है। आरोपितों ने पुलिस अधीक्षक (एसपी) को चिट्ठी लिखकर खुद को बेकसूर बताया है और दावा किया है कि पूरा मामला ऑनर किलिंग का है। 

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News