Cover
ब्रेकिंग
IIT 2020 Global Summit : पीएम मोदी बोले- रिफॉर्म, परफॉर्म और ट्रांसफॉर्म के सिद्धांत के लिए प्रतिबद्ध है सरकार ब्राजील में पुल से नीचे गिरी बस, कम से कम 10 लोगों की मौत जमीनी विवाद मे सगे भतीजे ने घायल चाची पर चढ़ाई स्कॉर्पियो, मौत रेत खनन पर गुंडा टैक्स वसूली मामले में हाईकोर्ट सख्त, सरकार से मांगी प्रोग्रैस रिपोर्ट ‘संसद का विशेष सत्र बुला कर मिनटों में हल हो सकता है किसानों का मसला: भगवंत मान’ किसानों के साथ बातचीत से पहले बोले कृषि मंत्री- आंदोलन का रास्ता छोड़ बातचीत से निकालें समाधान किसान-सरकार के बीच वार्ता और संसद के घेराव की चेतावनी, आज इन बड़ी खबरों पर रहेगी देश की नजर किसान आंदोलन पर कनाडा ने फिर तोड़ी अंतर्राष्ट्रीय मर्यादा, ट्रूडो ने दोबारा दिया बड़ा बयान अमेरिका में कोरोना से अबतक 2.78 लाख से अधिक लोगों की मौत Bigg Boss 14 December 4 Update: राहुल वैद्य बने निशाना, सभी ने जमकर निकाली भड़ास

वाराणसी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अगले महीने करेंगे बनारस रेलवे स्टेशन का लोकार्पण

वाराणसी। आखिरकार लंबी कवायद के बाद पूर्वोत्तर रेलवे मंडुआडीह का नाम बनारस हो गया। शासन के आदेश पर जिला प्रशासन ने भी नोटिफिकेशन जारी कर दिया। रेलवे बोर्ड की ओर से भी स्टेशन का नाम बनारस करने का आदेश दिया। डीआरएम वाराणसी के आदेश पर नाम परिवर्तन की कवायद शुरू हुई लेकिन अचानक इस कवायद पर रोक लगाते हुए फिर से स्टेशन का नाम मंडुआडीह कर दिया गया। वजह, अब पीएम मोदी इस बदले नाम बनारस स्टेशन का लोकार्पण करेंगे। 19 अक्टूबर को काशी आने की संभावना जताई जा रही है। पीएम के आगमन को लेकर रेलवे में क्या तैयारी चल रही है।

बीते दिनों ही राज्‍यपाल की संस्तुति मिलने के बाद मंडुआडीह रेलवे स्‍टेशन का नाम बदलकर अब बनारस स्‍टेशन कर दिया गया है। इस बाबत रेल मंत्री पीयूष गोयल ने भी सोशल मीडिया पर पोस्‍ट कर मंडुआडीह से बनारस नाम बदलने की जानकारी साझा कर खुशखबरी बनारस काे दिया था। जबकि बीते वर्ष वाराणसी के लोगों की मांग पर तत्‍कालीन रेल राज्‍यमंत्री मनोज सिन्‍हा ने नाम परिवर्तन कराने का प्रयास शुरु किया था।

वाराणसी को तीन प्रमुख नामों क्रमश: बनारस, काशी और वाराणसी के नाम से जाना जाता है। यहां पर दो नामों से रेलवे स्‍टेशन मौजूद हैं लेकिन बनारस नाम का स्‍टेशन न होने से बाहर से आने वाले पर्यटकों के लिए मंडुआडीह स्‍टेशन का बनारस से जुड़ाव न समझ आने की वजह से ही लोगों में बनारस स्‍टेशन नाम की डिमांड होने लगी थी। जबकि कैंट रेलवे स्‍टेशन पर काफी ट्रेनों का दबाव होने की वजह से कई ट्रेनें मंडुआडीह से संचालित होने लगी थीं ऐसे में पर्यटकों की दुश्‍वारी को देखते हुए मंडुअाडीह का नाम बदलकर बनारस करने की तैयारियों को अंतिम रुप इन दिनों दिया जा रहा है। उम्‍मीद पूरी है कि आने वाले माह में पीएम के काशी आने की संभावना को देखते हुए बनारस स्‍टेशन का भी लोकार्पण पीएम के द्वारा ही किया जाए। विभागीय सूत्रों की ओर से भ्‍ाी इस बाबत जानकारी दी गई है कि पीएम के आने को लेकर तैयारियां पूरी रखी जाएं।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News