Cover
ब्रेकिंग
शादी के बाद एक्स ब्वॉयफ्रेंड कुशाल टंडन से टकराईं गौहर ख़ान, दिया ये रिएक्शन राहुल के इटली ट्रिप पर भाजपा का निशाना, शिवराज बोले- स्‍थापना दिवस पर ‘9 2 11’ हो गए, कांग्रेस ने दी सफाई पीएम मोदी, भाजपा के अन्य शीर्ष नेताओं ने दी श्रद्धांजलि दर्ज हुए 20 हजार से अधिक संक्रमण के नए मामले, 279 मौत; जानें अब तक का पूरा आंकड़ा उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र रावत Delhi AIIMS में कराएंगे उपचार, कोरोना से हैं संक्रमित देश की पहली ड्राइवरलेस मेट्रो को पीएम ने दिखाई हरी झंडी, दिल्ली में रफ्तार भरने लगी ट्रेन किसान नेता राकेश टिकैत को फोन पर मिली जान से मारने की धमकी, जांच में जुटी पुलिस Year 2021- नया साल लेकर आ रहा ग्रहण के चार गजब नजारे, पूर्ण चंद्रग्रहण से होगी शुरुआत शीतकालीन सत्र पर बोले नरोत्तम, सरकार की कोशिश कि इसे न टाला जाए, कांग्रेस पर भी साधा निशाना MP के इस गांव में न सड़क है न कोई सुविधा, खाट पर रखकर ग्रामीण 3 KM ले गए शव

मुस्लिम मतदाताओं ने ट्रंप से बनाई दूरी बाइडन का दिया साथ, जानें किसको कितना मिला इनका समर्थन

न्यूयॉर्क/वाशिंगटन। जैसे जैसे मतगणना अपने मुकाम पर बढ़ रही है अमेरिका में तनाव भी बढ़ता जा रहा है। एपी की रिपोर्ट के मुताबिक, ट्रंप और बाइडेन समर्थकों के बीच टकराव की स्थिति पैदा हो गई है। वहीं एक सर्वे में कहा गया है कि अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में 69 फीसद मुस्लिम मतदाताओं ने डेमोक्रेटिक पार्टी से उम्‍मीदवार जो बाइडन के पक्ष में मतदान किया जबकि महज 17 फीसद ने ट्रंप को वोट दिए। सर्वे अमेरिका की एक संस्था मुस्लिम सिविल लिबर्टी एंड एडवोकेसी आर्गनाइजेशन ने किया है।

व्हाइट हाउस से महज कुछ दूर ब्लैक लाइव मैटर प्लाजा पर एक हजार से ज्‍यादा प्रदर्शनकारियों ने ट्रंप का विरोध किया। दो स्थानों पर ट्रंप विरोधियों और समर्थकों में झड़प होने के बाद पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। सैकड़ों प्रदर्शनकारियों ने वाशिंगटन की सड़कों पर भी मार्च निकाला और कई बार यातायात बाधित किया। न्यूयॉर्क शहर से लेकर सिएटल तक कई छिटपुट प्रदर्शन हुए, लेकिन कुल मिलाकर गंभीर हिंसा या अशांति के संकेत नहीं मिले।

समाचार एजेंसी एपी के मुताबिक, वाशिंगटन में प्रदर्शन कुल मिलाकर शांतिपूर्ण रहा। लोग नारे लगा रहे थे, ‘यह किसकी सड़क है! हमारी है! और हमें अगर न्याय नहीं मिला तो उन्हें शांति नहीं मिलेगी। समूह में शामिल किशोर सड़क पर नाच रहे थे और वहां से गुजरने वाले मुस्करा रहे थे। प्रदर्शनकारियों ने विशाल बैनर लिए थे जिनमें से एक पर लिखा था, ‘ट्रंप हमेशा झूठ बोलते हैं।’ एक स्थान पर मार्च करने वाले प्रदर्शनकारियों ने वहां खड़ी पुलिस की गाड़ी के टायर पंचर कर दिए।’

पूरे अमेरिका में चुनाव से पहले सैकड़ों कारोबार हिंसा की आशंका से बंद रहे। वाशिंगटन की मेयर मुरियल बॉउसर ने दिन में कहा, ‘कुछ लोग अफरातफरी और समस्या उत्पन्न करना चाहते हैं।’ बॉउसर ने कहा कि कभी उन्होंने दिन में इतने सारे कारोबारों बंद नहीं देखे। यह देखकर दुख होता है।

वहीं समाचार एजेंसी पीटीआइ के मुताबिक, अपने एग्जिट पोल सर्वे में मुस्लिम सिविल लिबर्टी एंड एडवोकेसी आर्गनाइजेशन ने कहा है कि इस चुनाव में दस लाख से ज्यादा मुस्लिम-अमेरिकन वोटरों ने मतदान किया है। अमेरिका में मुस्लिम आबादी लगभग 35 लाख है। हालांकि इस बार ट्रंप को पहले की अपेक्षा ज्यादा वोट दिए गए। साल 2016 में मुस्लिमों के वोटों का लगभग 13 फीसद वोट ट्रंप को दिया गया जो इस बार चार प्रतिशत अधिक है। पिछली बार भी ज्यादातर वोट मुस्लिम मतदाताओं ने डेमोक्रेटिक पार्टी को दिए थे।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News