Cover
ब्रेकिंग
कर्नाटक: सरकार के विरोध में उतरे कन्‍नड़ समर्थक, आज बंद का आह्वान BJP National President JP Nadda का दून दौरा, लेंगे कार्यकर्ताओं के मन की थाह और प्रबुद्धजनों से फीडबैक IIT 2020 Global Summit : पीएम मोदी बोले- रिफॉर्म, परफॉर्म और ट्रांसफॉर्म के सिद्धांत के लिए प्रतिबद्ध है सरकार ब्राजील में पुल से नीचे गिरी बस, कम से कम 10 लोगों की मौत जमीनी विवाद मे सगे भतीजे ने घायल चाची पर चढ़ाई स्कॉर्पियो, मौत रेत खनन पर गुंडा टैक्स वसूली मामले में हाईकोर्ट सख्त, सरकार से मांगी प्रोग्रैस रिपोर्ट ‘संसद का विशेष सत्र बुला कर मिनटों में हल हो सकता है किसानों का मसला: भगवंत मान’ किसानों के साथ बातचीत से पहले बोले कृषि मंत्री- आंदोलन का रास्ता छोड़ बातचीत से निकालें समाधान किसान-सरकार के बीच वार्ता और संसद के घेराव की चेतावनी, आज इन बड़ी खबरों पर रहेगी देश की नजर किसान आंदोलन पर कनाडा ने फिर तोड़ी अंतर्राष्ट्रीय मर्यादा, ट्रूडो ने दोबारा दिया बड़ा बयान

पाकिस्तान में फिर एक मंदिर पर हमला, देवी-देवताओं की मूर्तियां खंडित की, पड़ोसी मुस्लिमों ने उपद्रवियों को रोका

कराची। पाकिस्तान में मंगलवार को कट्टरपंथी शरारती तत्वों के भीड़ ने फिर एक मंदिर में तोड़फोड़ कर उसे नुकसान पहुंचाया है। लेकिन अच्छी बात यह रही कि इस घटना में मंदिर के आसपास रहने वाले मुस्लिम समुदाय के लोग ही शरारती तत्वों से निपटने के लिए आगे आए और उन्हें रोका। घटना कराची के बाहरी इलाके की है। इससे पहले भी कराची में एक मंदिर पर हमला कर उसे नुकसान पहुंचाया गया था।

समाचार एजेंसी आइएएनएस के मुताबिक, ताजा घटना पुरानी कराची के शीतलदास कंपाउंड की है। यहां पर करीब सौ साल पुराने मंदिर में आसपास रहने वाले 300 हिंदू परिवार जाते हैं। इन्हीं हिंदू परिवारों में से एक प्रत्यक्षदर्शी के अनुसार मंगलवार रात करीब नौ बजे कंपाउंड के द्वार पर मुस्लिम समुदाय के लोग एकत्रित होने लगे। उनमें बहुत से लोग वहां रहने वाले हिंदुओं पर हमले की बात कह रहे थे लेकिन शरारती तत्वों का यह समूह पहले कंपाउंड में बने मंदिर पर पहुंचा और वहां तोड़फोड़ करने लगा।

इस दौरान शरारती तत्वों ने तीन देवी-देवताओं की मूर्तियों को खंडित कर दिया। लेकिन इस बीच शोरशराबे की आवाज सुन नजदीक रहने वाले मुस्लिम लोग भी मौके पर पहुंच गए और उन्होंने उत्पातियों को रोका और उन्हें वापस भेजा। एक अन्य हिंदू प्रत्यक्षदर्शी के अनुसार कंपाउंड में रहने वाले मुस्लिमों के सक्रिय हो जाने से शरारती तत्वों को हिंदू परिवारों पर हमले करने के मंसूबे पूरे नहीं हो पाए।

हिंदू परिवारों को बचाने के लिए कंपाउंड में रहने वाले मुस्लिम दीवार बनकर हमलावर भीड़ के सामने खड़े हो गए। उम्रदराज शख्स ने कहा, उन्होंने अपनी पूरी जिंदगी में ऐसा माहौल नहीं देखा। बाद में मौके पर पहुंचे पुलिस अधिकारियों ने पूरे घटनाक्रम की पुष्टि की। कहा कि अगर इलाके के मुस्लिम बचाव में खड़े नहीं होते तो मुश्किल हो सकती थी। घटना के बाद कंपाउंड में रहने वाले 60 परिवार अपने घर छोड़कर शहर के अन्य इलाकों में चले गए हैं। कुछ घरों में मर्दो ने अपने घर की औरतों और बच्चों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News