Cover
ब्रेकिंग
गुरुग्राम में पुलिस हिरासत में लिए गए योगेंद्र यादव, दिल्ली में जंतर मंतर छावनी में तब्दील अर्थव्यवस्था ने की उम्मीद से अधिक मजबूत रिकवरी, त्योहारी सीजन के बाद मांग में स्थिरता पर नजर बनाए रखने की जरूरत: RBI गवर्नर CM योगी आदित्यनाथ के निर्देश से उहापोह समाप्त, वैवाहिक समारोह में सिर्फ सख्ती से करें COVID प्रोटोकॉल का पालन संविधान दिवस पर PM मोदी ने देश को किया संबोधित, बोले- समय के साथ महत्व खो चुके कानूनों को हटाना जरूरी शंभू बॉर्डर पर प्रदर्शनकारियों व पुलिस में झड़प, भीड़ तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस का इस्तेमाल मतपत्र से चुनाव कराने की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर, ईवीएम में की जा सकती है गड़बड़ी गृह मंत्री ने आजादी की 75वीं वर्षगांठ मनाने को लेकर गठित समिति की पहली बैठक की अध्यक्षता की सुशील मोदी के सनसनीखेज ट्वीट के बाद लालू की ऑडियो क्लिप वायरल कर्नाटक में गोहत्या पर प्रतिबंध को लेकर जल्द आएगा कानून, गोमांस की बिक्री पर बैन की तैयारी आठ महीने बाद 1 दिसंबर से फिर खुलेंगे कॉलेज, कोरोना गाइडलाइन का पालन अनिवार्य

बलूच कार्यकर्ता शब्बीर को गायब हुए आज 4 साल पूरे, कनाड़ा कार्यकर्ताओं ने बलूचिस्तान में रिहाई के लिए किए प्रदर्शन

टोरंटो। पाकिस्तान द्वारा बलूच लोगों पर लगातार अत्याचार की खबरें आती रहती हैं, जिसके खिलाफ यह लोग अपनी आवाज उठाते रहते हैं। अब कनाड़ा बलूच राइट्स कार्यकर्ताओं (Canadian Baloch rights activists) ने पाकिस्तान द्वारा किए जा रहे अत्याचारों के खिलाफ बलूचिस्तान में विरोध-प्रदर्शन किया है।

दरअसल, यह कार्यकर्ता उनके एक नेता के शब्बीर बलूच (Shabbir Baloch) के गायब होने पर प्रदर्शन कर रहे हैं। शब्बीर को बलूचिस्तान से 4 अक्टूबर 2016 को गिरफ्तार गया था। आज यानी 4 अक्टूबर को उनके नेता को गायब हुए 4 साल हो गए हैं। ऐसे में सभी कार्यकर्ताओं ने मांग करते हुए कहा कि पाकिस्तान शब्बीर बलूच के साथ-साथ सभी गायब हुए लोगों को तत्काल रिहा कर दे। बलूचियों द्वारा किए जा रहे इस प्रदर्शन में वर्ल्ड सिंधी कांग्रेस और पशतुन तहफुज आंदोलन के कार्यकर्ताओं ने कनाड़ा में हिस्सा लिया।

टोरंटो में किए जा रहे विरोध प्रदर्शन में शब्बीर को रिहा किए जाने के लेकर मांग की गई। इसके साथ ही पाकिस्तान द्वारा किए जा रहे अत्याचार को भी खत्म करने पर अड़े रहे। एक बलूच कार्यकर्ता ने ट्विटर पर इस बारे में लिखा। इसके अलावा इस कार्यकर्ता ने एक वीडियो शेयर किया है। इस वीडियो में लिखा कि हम शब्बीर की रिहाई के लिए यहां इकट्ठा हुए हैं।

पाकिस्तान आर्मी द्वारा साल  2016 में उनके कार्यकर्ता को अगवा किया गया था। आज उन्हें  गायब हुए चार साल हो गए हैं। उनकी याद में आज हम यहां पर एकजुट हुए हैं। शब्बीर अहमद बलूचिस्तान विश्वविद्यालय का छात्र है। और बीएसओ आज़ाद के सचिव भी है। इस वीडियो में आगे कहा गया कि पाकिस्ताना आर्मी को छात्र से क्या दिक्कत है। क्या ये छात्र बलूचिस्तान लोगों के अधिकारों की आवाज उठाते हैं इसलिए उन्हें गिरफ्तार किया जाता है।

बता दें कि शब्बीर को कथित रूप से पाकिस्तानी सेना ने 4 अक्टूबर, 2016 को गोवारकोप से अगवा कर लिया था। इस दौरान कई अन्य लोगों को भी अगवा किया गया था।

टोरंटो, एएनआइ। पाकिस्तान द्वारा बलूच लोगों पर लगातार अत्याचार की खबरें आती रहती हैं, जिसके खिलाफ यह लोग अपनी आवाज उठाते रहते हैं। अब कनाड़ा बलूच राइट्स कार्यकर्ताओं (Canadian Baloch rights activists) ने पाकिस्तान द्वारा किए जा रहे अत्याचारों के खिलाफ बलूचिस्तान में विरोध-प्रदर्शन किया है।

दरअसल, यह कार्यकर्ता उनके एक नेता के शब्बीर बलूच (Shabbir Baloch) के गायब होने पर प्रदर्शन कर रहे हैं। शब्बीर को बलूचिस्तान से 4 अक्टूबर 2016 को गिरफ्तार गया था। आज यानी 4 अक्टूबर को उनके नेता को गायब हुए 4 साल हो गए हैं। ऐसे में सभी कार्यकर्ताओं ने मांग करते हुए कहा कि पाकिस्तान शब्बीर बलूच के साथ-साथ सभी गायब हुए लोगों को तत्काल रिहा कर दे। बलूचियों द्वारा किए जा रहे इस प्रदर्शन में वर्ल्ड सिंधी कांग्रेस और पशतुन तहफुज आंदोलन के कार्यकर्ताओं ने कनाड़ा में हिस्सा लिया।

टोरंटो में किए जा रहे विरोध प्रदर्शन में शब्बीर को रिहा किए जाने के लेकर मांग की गई। इसके साथ ही पाकिस्तान द्वारा किए जा रहे अत्याचार को भी खत्म करने पर अड़े रहे। एक बलूच कार्यकर्ता ने ट्विटर पर इस बारे में लिखा। इसके अलावा इस कार्यकर्ता ने एक वीडियो शेयर किया है। इस वीडियो में लिखा कि हम शब्बीर की रिहाई के लिए यहां इकट्ठा हुए हैं।

पाकिस्तान आर्मी द्वारा साल  2016 में उनके कार्यकर्ता को अगवा किया गया था। आज उन्हें  गायब हुए चार साल हो गए हैं। उनकी याद में आज हम यहां पर एकजुट हुए हैं। शब्बीर अहमद बलूचिस्तान विश्वविद्यालय का छात्र है। और बीएसओ आज़ाद के सचिव भी है। इस वीडियो में आगे कहा गया कि पाकिस्ताना आर्मी को छात्र से क्या दिक्कत है। क्या ये छात्र बलूचिस्तान लोगों के अधिकारों की आवाज उठाते हैं इसलिए उन्हें गिरफ्तार किया जाता है।

बता दें कि शब्बीर को कथित रूप से पाकिस्तानी सेना ने 4 अक्टूबर, 2016 को गोवारकोप से अगवा कर लिया था। इस दौरान कई अन्य लोगों को भी अगवा किया गया था।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News