Cover
ब्रेकिंग
याेगी सरकार ने लव जिहाद कानून काे दी मंजूरी, साधू संतों ने फैसले का किया स्वागत अहमद पटेल के निधन पर बोले दिग्विजय- वे सभी कांग्रेसियों के लिए हर राजनैतिक मर्ज़ की दवा थे विजय सिन्‍हा चुने गए स्‍पीकर ,पक्ष में पड़े 126 वोट, विपक्ष में 114 नगरोटा साजिश के पीछे था पाक का हाथ! आतंकियों के पास से मिले डिवाइस ने खोले कई राज राहुल गांधी ने किए तरुण गोगोई के अंतिम दर्शन, बोले- मैंने अपने गुरु को खो दिया चौहान, कमलनाथ, दिग्विजय, सिंधिया ने पटेल के निधन पर शोक व्यक्त किया अहमद पटेल के निधन पर बोले दिग्विजय- वे सभी कांग्रेसियों के लिए हर राजनैतिक मर्ज़ की दवा थे आज तमिलनाडु के तटों से टकराएगा 'निवार', MP में दिखेगा असर, बदलेंगे मौसम के मिजाज UP के बाद मध्य प्रदेश में जल्द बनेगा लव जेहाद के खिलाफ कानून, गृहमंत्री ने बुलाई अहम बैठक पश्चिम रेलवे की पहली किसान रेल सेवा शुरु, सांसद शंकर लालवानी ने दिखाई हरी झंडी

अतिथि विद्वानों को नियमित करेगी शिवराज सरकार ! उच्च शिक्षा मंत्री ने दिया बड़ा आश्वासन

भोपाल: मध्यप्रदेश में लंबे समय से राजनीतिक दलों को चुनौती दे रहे अतिथि विद्वानों की आवाज मानो शिवराज सरकार के कानों तक पहुंच गई है। प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव ने इस संबंध में एक बड़ा बयान दिया है, यादव ने अतिथि विद्वानों को आश्वस्त करते हुए कहा है, कि शिवराज सरकार अतिथि विद्वानों के नियमितिकरण को लेकर पूरी तरह गंभीर है और इससे जुड़े कई अहम कदम उठाने जा रही है, जिसके तहत में वह बहुत जल्द ज्यादा से ज्यादा अतिथि विद्वानों को नियमित कर देगी।

प्राध्यापकों की कमी होगी पूरी
मंत्री मोहन यादव ने कहा, कि कई अतिथि विद्वानों को अब तक नियमित किया जा चुका है, इसके अलावा प्रदेश के कई विश्वविद्यालय और कॉलेज में प्राध्यापकों की जगह खाली है, इसके चलते छात्र भी काफी परेशान हो रहे हैं। वहां सरकार नई ज्वाइनिंग की अपेक्षा अतिथि विद्वानों को तरजीह देगी और जल्द से जल्द यह प्रक्रिया शुरू हो जाएगी मोहन यादव के मुताबिक, सरकार चाहती है, कि ज्यादा से ज्यादा और जल्द से जल्द अतिथि विद्वानों को परमानेंट किया जाए।

पीएससी के जरिए होगी भर्ती
अतिथि विद्वानों के नियमितिकरण से जुड़ी ज्यादा जानकारी देते हुए मंत्री मोहन यादव ने यह भी कहा, कि इसके आवेदन के लिए सरकार दो दिन पहले एक लिंक ओपन की है, जिसके जरिए उन्हें लगातार आवेदन मिल रहे हैं और सरकार उन्हें लेकर जल्द एक ठोस कदम उठाएगी। इसके साथ पीएससी के जरिए भी एक विशेष कोटा निर्धारित करके अतिथि विद्वानों को नियमित करने का प्रस्ताव विचाराधीन है। जल्द ही इस विषय को लेकर अंतिम फैसला लिया जाएगा।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News