Cover
ब्रेकिंग
दिल्ली सीमा पर डटे किसानों को हटाने पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, CJI बोले- बात करके पूरा हो सकता है मकसद UP के अगले विधानसभा चुनाव में ओवैसी-केजरीवाल बिगाड़ सकते हैं विपक्ष का गणित सावधान! CM योगी का बदला मिजाज, अब कार से करेंगे किसी भी जिले का औचक निरीक्षण संसद का शीतकालीन सत्र नहीं चलाने पर भड़की प्रियंका गांधी पाक सेना ने राजौरी मे अग्रिम चौकियों पर गोलीबारी की संत बाबा राम सिंह की मौत पर कमलनाथ बोले- पता नहीं मोदी सरकार नींद से कब जागेगी गृह मंत्री के विरोध में उतरे पूर्व सांसद कंकर मुंजारे गिरफ्तार, फर्जी नक्सली मुठभेड़ को लेकर तनाव मोबाइल लूटने आए बदमाश को मेडिकल की छात्रा ने बड़ी बहादुरी से पकड़ा कांग्रेस बोलीं- जुबान पर आ ही गया सच, कमलनाथ सरकार गिराने में देश के PM का ही हाथ EC का कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश, चुनाव में पैसे के गलत इस्तेमाल का आरोप

EOW ने नगर निगम के सिटी प्लानर को 5 लाख की रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा, नगर निगम ने पद से हटाया

ग्वालियर: आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो यानी ईओडब्ल्यू ने नगर निगम के सिटी प्लानर प्रदीप वर्मा को 500000 रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। सिटी प्लानर से विश्वविद्यालय थाने में पूछताछ की जा रही है। यह पहला मौका है जब अमूमन लोकायुक्त द्वारा की जाने वाली रिश्वत लेने की कार्रवाई को ईओडब्ल्यू ने अंजाम दिया है। ईओडब्लू की कार्रवाई के बाद निगम कमिश्नर संदीप माकिन ने एक्शन लेते हुए प्रदीप वर्मा को सिटी प्लानर के पद से हटा दिया है।

PunjabKesari

बताया जा रहा है कि फरियादी धर्मेंद्र भारद्वाज ने ही ईओडब्ल्यू से कार्रवाई करने की गुहार लगाई थी। उसने डेढ़ महीने से अपने शहर के बीच चल रही बातचीत ऑडियो क्लिप भी उपलब्ध कराई थी उसी आधार पर यह कार्रवाई की गई है।

बिल्डर धर्मेंद्र भारद्वाज ने करीब डेढ़ महीने पहले ईओडब्ल्यू में शिकायती आवेदन दिया था जिसमें बताया गया था कि सिटी प्लानर प्रदीप वर्मा उनसे सुरेश नगर स्थित उनके डुप्लेक्स की परमिशन और सामने पड़ी सरकारी जमीन जिसका क्षेत्रफल लगभग 19000 स्क्वायर फीट है उस पर भवन निर्माण की अनुमति देने की एवज में 50 लाख रुपए की रिश्वत मांग रहे हैं।

इसमें बाद में सौदा 25 लाख में तय हुआ फरियादी का यह भी कहना है कि दस लाख रुपए की रकम वह पहले ही सिटी प्लानर वर्मा को दे चुका है।शनिवार को आयुक्त कार्यालय यानी बाल भवन के पास सिटी प्लानर ने धर्मेंद्र भारद्वाज को रिश्वत देने के लिए बुलाया था। सादा कपड़ों में ईओडब्ल्यू की टीम खड़ी हुई थी जिसने रिश्वत लेते हुए प्रदीप वर्मा को रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार करने के बाद वर्मा से विश्वविद्यालय थाने में पूछताछ की जा रही है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News