Cover
ब्रेकिंग
दिल्ली सीमा पर डटे किसानों को हटाने पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, CJI बोले- बात करके पूरा हो सकता है मकसद UP के अगले विधानसभा चुनाव में ओवैसी-केजरीवाल बिगाड़ सकते हैं विपक्ष का गणित सावधान! CM योगी का बदला मिजाज, अब कार से करेंगे किसी भी जिले का औचक निरीक्षण संसद का शीतकालीन सत्र नहीं चलाने पर भड़की प्रियंका गांधी पाक सेना ने राजौरी मे अग्रिम चौकियों पर गोलीबारी की संत बाबा राम सिंह की मौत पर कमलनाथ बोले- पता नहीं मोदी सरकार नींद से कब जागेगी गृह मंत्री के विरोध में उतरे पूर्व सांसद कंकर मुंजारे गिरफ्तार, फर्जी नक्सली मुठभेड़ को लेकर तनाव मोबाइल लूटने आए बदमाश को मेडिकल की छात्रा ने बड़ी बहादुरी से पकड़ा कांग्रेस बोलीं- जुबान पर आ ही गया सच, कमलनाथ सरकार गिराने में देश के PM का ही हाथ EC का कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश, चुनाव में पैसे के गलत इस्तेमाल का आरोप

असम के पूर्व मुख्‍यमंत्री तरुण गोगोई की हालत बेहद नाजुक, दो महीने पहले कोरोना पॉजिटिव आने के बाद कराए गए थे भर्ती

गुवाहाटी। असम के पूर्व मुख्‍यमंत्री तरुण गोगोई की हालत बेहद नाजुक बताई जाती है। समाचार एजेंसी एएनआइ के मुताबिक, उन्‍हें मैकेनिकल वेंटिलेटर पर रखा गया है। गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज एवं अस्‍पताल के सुप्रिंटेंडेंट अभिजीत शर्मा ने बताया कि शनिवार शाम को उन्‍हें इनोट्रोपिक सपोर्ट पर भी रखा गया था। मालूम हो कि गोगोई 25 अगस्त को कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। इसके ठीक अगले ही दिन उन्हें गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज एवं अस्‍पताल में भर्ती कराना पड़ा था। वह दो महीने तक अस्पताल में रहे थे बाद में उन्‍हें अस्‍पताल से छुट्टी भी दे दी गई थी।

समाचार एजेंसी पीटीआइ के मुताबिक, 86 वर्षीय गोगोई के कई अंग काम नहीं कर रहे हैं। इसकी वजह से उनकी हालत और बिगड़ गई है। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने बताया कि पूर्व मुख्‍यमंत्री को सांस लेने में दिक्कत हो रही थी जिसके बाद मैकेनिकल वेंटिलेटर पर रखना पड़ा। वह बेहोश हो गए हैं। हिमंत बिस्व सरमा ने बताया कि वरिष्ठ कांग्रेस नेता गोगोई को बेचैनी की शिकायत के बाद गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में दो नवंबर को भर्ती कराया गया था।

गोगोई के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी लेने अस्पताल पहुंचे सरमा ने कहा कि दोपहर के करीब सांस लेने में दिक्कत के बाद उनकी हालत बिगड़ी गई। शाम को डॉक्टरों ने एक इंट्यूबेशन वेंटिलेटर शुरू किया जो मशीन वेंटिलेशन है। मौजूदा वक्‍त में गोगोई के कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया है और वह बेहोश हैं। डॉक्‍टर दवाओं और अन्य साधनों के जरिए उनके अंगों को ठीक करने की कोशिशों में जुटे हैं। गोगोई की डायलिसिस भी की जाएगी।

सरमा ने बताया कि तरुण गोगोई के लिए अगले 48-72 घंटे बेहद महत्वपूर्ण हैं। डॉक्‍टर उन्‍हें बचाने की हर संभव कोशिश कर रहे हैं। जीएमसीएच के डॉक्टर दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान यानी एम्‍स के विशेषज्ञों के संपर्क में हैं। हालांकि राज्‍य सरकार ने गोगोई को इस हाल में राज्य के बाहर इलाज के लिए ले जाने की संभावना से इनकार किया। बता दें कि तरुण गोगोई असम के तीन बार मुख्यमंत्री रह चुके हैं। उन्‍हें कोरोना संक्रमण से ठीक होने के बाद 25 अक्टूबर को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News