Cover
ब्रेकिंग
4 दिसंबर को दक्षिण तमिलनाडु से टकराएगा चक्रवात बुरेवी, IMD ने जारी किया भारी बारिश का अलर्ट सिंघु बॉर्डर पर किसानों ने लगाए टेंट, बैरिकेड के पास शुरू किया खाना बनाना; दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर भी प्रदर्शन शुरू सर्द हवाओं से लौटी ठंड, तीन दिन बाद बढ़ेगा रात का तापमान, जानिए और क्या कहता है मौसम विभाग यूपी के प्राइवेट अस्पतालों तथा लैब में अब बेहद सस्‍ते में होगा Covid 19 Test, तीन गुना दाम घटाए कोविड-19 पर चर्चा के लिए चार दिसंबर को सर्वदलीय बैठक, तृणमूल कांग्रेस भी होगी शामिल किसान आंदोलन: कनाडा के PM ट्रूडो को भारत का जवाब- हमारे मामलों में दखल देने की ना करो कोशिश किसान आंदोलन में शामिल होने सिंघु बॉर्डर पहुंची शाहीन बाग की दादी बिल्किस बानो गिरफ्तार जम्मू-कश्मीरः डीडीसी चुनाव के दूसरे चरण में हुआ 48 फीसदी से अधिक मतदान गुजरातः भाजपा राज्यसभा सांसद अभय भारद्वाज का निधन, पीएम मोदी ने जताया दुख NRI को बड़ा तोहफा देने की तैयारी में मोदी सरकार, चुनाव में सीधे कर सकेंगे वोट

असम के पूर्व मुख्‍यमंत्री तरुण गोगोई की हालत बेहद नाजुक, दो महीने पहले कोरोना पॉजिटिव आने के बाद कराए गए थे भर्ती

गुवाहाटी। असम के पूर्व मुख्‍यमंत्री तरुण गोगोई की हालत बेहद नाजुक बताई जाती है। समाचार एजेंसी एएनआइ के मुताबिक, उन्‍हें मैकेनिकल वेंटिलेटर पर रखा गया है। गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज एवं अस्‍पताल के सुप्रिंटेंडेंट अभिजीत शर्मा ने बताया कि शनिवार शाम को उन्‍हें इनोट्रोपिक सपोर्ट पर भी रखा गया था। मालूम हो कि गोगोई 25 अगस्त को कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। इसके ठीक अगले ही दिन उन्हें गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज एवं अस्‍पताल में भर्ती कराना पड़ा था। वह दो महीने तक अस्पताल में रहे थे बाद में उन्‍हें अस्‍पताल से छुट्टी भी दे दी गई थी।

समाचार एजेंसी पीटीआइ के मुताबिक, 86 वर्षीय गोगोई के कई अंग काम नहीं कर रहे हैं। इसकी वजह से उनकी हालत और बिगड़ गई है। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने बताया कि पूर्व मुख्‍यमंत्री को सांस लेने में दिक्कत हो रही थी जिसके बाद मैकेनिकल वेंटिलेटर पर रखना पड़ा। वह बेहोश हो गए हैं। हिमंत बिस्व सरमा ने बताया कि वरिष्ठ कांग्रेस नेता गोगोई को बेचैनी की शिकायत के बाद गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में दो नवंबर को भर्ती कराया गया था।

गोगोई के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी लेने अस्पताल पहुंचे सरमा ने कहा कि दोपहर के करीब सांस लेने में दिक्कत के बाद उनकी हालत बिगड़ी गई। शाम को डॉक्टरों ने एक इंट्यूबेशन वेंटिलेटर शुरू किया जो मशीन वेंटिलेशन है। मौजूदा वक्‍त में गोगोई के कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया है और वह बेहोश हैं। डॉक्‍टर दवाओं और अन्य साधनों के जरिए उनके अंगों को ठीक करने की कोशिशों में जुटे हैं। गोगोई की डायलिसिस भी की जाएगी।

सरमा ने बताया कि तरुण गोगोई के लिए अगले 48-72 घंटे बेहद महत्वपूर्ण हैं। डॉक्‍टर उन्‍हें बचाने की हर संभव कोशिश कर रहे हैं। जीएमसीएच के डॉक्टर दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान यानी एम्‍स के विशेषज्ञों के संपर्क में हैं। हालांकि राज्‍य सरकार ने गोगोई को इस हाल में राज्य के बाहर इलाज के लिए ले जाने की संभावना से इनकार किया। बता दें कि तरुण गोगोई असम के तीन बार मुख्यमंत्री रह चुके हैं। उन्‍हें कोरोना संक्रमण से ठीक होने के बाद 25 अक्टूबर को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News