Cover
ब्रेकिंग
याेगी सरकार ने लव जिहाद कानून काे दी मंजूरी, साधू संतों ने फैसले का किया स्वागत अहमद पटेल के निधन पर बोले दिग्विजय- वे सभी कांग्रेसियों के लिए हर राजनैतिक मर्ज़ की दवा थे विजय सिन्‍हा चुने गए स्‍पीकर ,पक्ष में पड़े 126 वोट, विपक्ष में 114 नगरोटा साजिश के पीछे था पाक का हाथ! आतंकियों के पास से मिले डिवाइस ने खोले कई राज राहुल गांधी ने किए तरुण गोगोई के अंतिम दर्शन, बोले- मैंने अपने गुरु को खो दिया चौहान, कमलनाथ, दिग्विजय, सिंधिया ने पटेल के निधन पर शोक व्यक्त किया अहमद पटेल के निधन पर बोले दिग्विजय- वे सभी कांग्रेसियों के लिए हर राजनैतिक मर्ज़ की दवा थे आज तमिलनाडु के तटों से टकराएगा 'निवार', MP में दिखेगा असर, बदलेंगे मौसम के मिजाज UP के बाद मध्य प्रदेश में जल्द बनेगा लव जेहाद के खिलाफ कानून, गृहमंत्री ने बुलाई अहम बैठक पश्चिम रेलवे की पहली किसान रेल सेवा शुरु, सांसद शंकर लालवानी ने दिखाई हरी झंडी

आसियान-एससीओ सम्मेलनों के केंद्र में हिंद-प्रशांत का विषय, रूस ने जताई चिंता

नई दिल्ली। विभिन्न समूहों के सम्मेलनों में हिंद-प्रशांत क्षेत्र ने एक बार फिर केंद्रीय स्थान ले लिया है। 10 नवंबर को रूस की अध्यक्षता में हुई शंघाई सहयोग संगठन (Shanghai Cooperation Organisation) के शासनाध्यक्षों की परिषद की बैठक और 12 नवंबर को वियतनाम की अध्यक्षता में हुए भारत-आसियान सम्मेलन (India-ASEAN Summit) की पृष्ठभूमि में हिंद-प्रशांत क्षेत्र ही था। 17 नवंबर को होने वाले ब्रिक्स सम्मेलन में भी इसी के वार्ता के केंद्र में रहने की संभावना है।

पत्रकारों से बातचीत में रूसी दूतावास में डिप्टी चीफ आफ मिशन रोमन बाबुश्किन ने विभिन्न समूहों और उनकी नीतियों के प्रति चिंता व्यक्त की। ज्यादातर हिंद-प्रशांत क्षेत्र के देशों द्वारा स्थापित नियम आधारित वैश्विक व्यवस्था के बारे में बात करते हुए बाबुश्किन ने रासायनिक हथियार निषेध और विश्व स्वास्थ्य संगठन का उदाहरण दिया जहां ऐसे नियमों का इस्तेमाल इन संस्थानों की गतिविधियों के राजनीतिकरण के लिए किया गया।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News