Cover
ब्रेकिंग
बुलेट ट्रेन के 72 फीसदी ठेके भारतीय कंपनियों को दिए जाएंगे : रेलवे पीएम मोदी ने निवार से हुए नुकसान का लिया जायजा, मृतकों के परिजनों को दो लाख रुपये की आर्थिक मदद का किया एलान Ind vs Aus: हार्दिक पांड्या ने किया साफ, अभी नहीं करेंगे गेंदबाजी, टीम इंडिया तैयार करे ऑलराउंडर अमेरिका ने 26/11 मुंबई हमले के मास्टरमाइंड साजिद मीर पर 50 लाख डॉलर के ईनाम की घोषणा की कश्मीर में असल लोकतंत्र का आगाज: विरोध को दरकिनार कर जनता डीडीसी चुनावों में चुनेगी प्रतिनिधि जम्मू-कश्मीर में आज बदलेगा इतिहास, मतदान के लिए कड़ी सुरक्षा के साथ कोरोना से बचाव के भी पुख्ता बंदोबस्‍त ईरान के शीर्ष परमाणु वैज्ञानिक मोहसिन फखरीजादेह की आतंकवादियों ने की निर्मम हत्या Bihar Politics सुशील मोदी को भाजपा ने बनाया राज्यसभा प्रत्याशी, लोजपा की नजर भी टिकी थी ब्रिटिश पीएम ने दी लॉकडाउन की चेतावनी, कहा- पाबंदियों में ढील दी गई तो महामारी हो जाएगी बेकाबू वैक्सीन की तैयारियों का आज जायजा लेंगे पीएम मोदी, टीका तैयार कर रही तीन कंपनियों के प्लांटों का करेंगे दौरा

उल्फा (आइ) में दूसरे नंबर का कमांडर राजखोवा ने किया आत्मसमर्पण, उग्रवादी संगठन के खोल सकता है अहम राज

नई दिल्ली। उग्रवादी समूह उल्फा (Independent) के दूसरे नंबर का कमांडर दृष्टि राजखोवा ने बुधवार को मेघालय में आत्मसमर्पण किया है। उसके चार और साथियों ने भी आत्मसमर्पण किया है। राजखोवा फिलहाल सेना की खुफिया जानकारी के दायरे में है और उसे असम लाया जा रहा है। राजखोवा को यूनाइटेड लिबरेशन फ्रंट ऑफ असम (Independent) के कमांडर इन चीफ परेश बरुआ का कारीबी विश्वासपात्र माना जाता है।

सूत्रों ने कहा कि राजखोवा पिछले दिनों बांग्लादेश में था और अभी कुछ दिन पहले ही मेघालय आया था। एक सुरक्षा विशेषज्ञ ने बताया कि राजखोवा का आत्मसमर्पण उग्रवादी समूह (उल्फा) के लिए एक बड़ा झटका है। उल्फा (Independent) असम के एक स्वतंत्र राज्य की मांग करता रहा है। सरकार ने इस संगठन में 1990 में प्रतिबंध लगाया था।

जब उल्फा (आइ) उग्रवादी संगठन का पुलिस ने किया था भंडाफोड़

उत्तर पूर्वी भारत में उल्खा (आइ) काफी सक्रिय आतंकवादी गैंग है। सेना और राज्य पुलिस हमेशा ही इस संगठन से जुड़े आतंकियों पर धरपकड़ करती आई है। पिछले महीनों ही असम पुलिस की संयुक्त टीम ने तिनसुकिया जिले में प्रतिबंधित उल्फा (आइ) उग्रवादी के भर्ती रैकेट का भंडाफोड़ करते हुए हथियारों के साथ उसके चार सदस्यों को गिरफ्तार था। संयुक्त टीम ने उनके कब्जे से चार नाबालिगों को बचाया था। इस दौरान सेना के एक अधिकारी ने बताया था कि हाल के दिनों में उल्फा (आइ) का यह सबसे बड़ा भर्ती रैकेट था। तिनसुकिया के विभिन्न स्थानों से चार कट्टर सदस्यों को गिरफ्तार किया गया था। भर्ती होने के लिए लाए गए चार नाबालिगों को भी उनके चंगुल से निकाला गया था।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News