Cover
ब्रेकिंग
दिल्ली सीमा पर डटे किसानों को हटाने पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, CJI बोले- बात करके पूरा हो सकता है मकसद UP के अगले विधानसभा चुनाव में ओवैसी-केजरीवाल बिगाड़ सकते हैं विपक्ष का गणित सावधान! CM योगी का बदला मिजाज, अब कार से करेंगे किसी भी जिले का औचक निरीक्षण संसद का शीतकालीन सत्र नहीं चलाने पर भड़की प्रियंका गांधी पाक सेना ने राजौरी मे अग्रिम चौकियों पर गोलीबारी की संत बाबा राम सिंह की मौत पर कमलनाथ बोले- पता नहीं मोदी सरकार नींद से कब जागेगी गृह मंत्री के विरोध में उतरे पूर्व सांसद कंकर मुंजारे गिरफ्तार, फर्जी नक्सली मुठभेड़ को लेकर तनाव मोबाइल लूटने आए बदमाश को मेडिकल की छात्रा ने बड़ी बहादुरी से पकड़ा कांग्रेस बोलीं- जुबान पर आ ही गया सच, कमलनाथ सरकार गिराने में देश के PM का ही हाथ EC का कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश, चुनाव में पैसे के गलत इस्तेमाल का आरोप

पंजाब में रेलवे ट्रैक खाली, लेकिन 15 जिलों में 22 जगह स्टेशन के करीब धरने पर बैठे किसान

जालंधर। पंजाब में रंल सेवा शुरू करने और मालगाडिय़ां चलाने के लिए अब भी असमंजस और गतिरोध की स्थिति बनी हुई है। पंजाब सरकार लगातार दावा कर रही है कि सभी रेलवे ट्रैक खाली हैं, लेकिन रेलवे का कहना है कि 22 जगह पर किसान ट्रैक पर बैठे हैं। पड़ताल में पाया गया कि किसान रेलवे ट्रैक से तो हट गए हैं लेकिन वे इनके नजदीकही धरना दे रहे हैं।

मुक्तसर में प्लेटफार्म व पांच जगह स्टेशन परिसर में धरना दे रहे हैं किसान

दैनिक जागरण ने रविवार को राज्य के सभी जिलों में रेलवे ट्रैक की पड़ताल की तो पाया कि किसी भी ट्रैक पर किसान धरने पर नहीं बैठे हैं, लेकिन वे 15 जिलों में 22 जगह पर रेलवे स्टेशन से 50 से 500 मीटर दूर बैठ कर कृषि कानूनों के विरोध में धरना दे रहे हैं। मुक्तसर में किसान प्लेटफार्मपर धरना दे रहे हैं तो पांच अन्य जगह स्टेशन परिसर में ही डटे हैं।

रेलवे को आशंका- रेल सेवा शुरू होते ही दोबारा ट्रैक पर आ सकते हैं किसान

रेलवे को आशंका है कि स्टेशन के इतनी नजदीक बैठे किसान रेल सेवा शुरू होते ही दोबारा ट्रैक पर आ सकते हैं। इसलिए किसानों के पूरी ह हट जाने और सुरक्षा की गारंटी के बाद ही मालगाडिय़ां शुरू की जा सकती हैं।

गौरतलब है कि पंजाब में 24 सितंबर से ट्रेनें बंद हैं। किसान कृषि सुधार कानून का विरोध कर रहे हैं। किसानों का कहना है कि वे सिर्फ मालगाडिय़ां ही चलने देंगे, यात्री ट्रेनें नहीं, जबकि रेलवे चाहता है कि दोनों सेवाएं एक साथ शुरू की जाएं।

कहां-कहां चल रहे धरने

– अमृतसर: जंडियाला गुरु और बुटारी रेलवे स्टेशन से करीब 500 मीटर दूर ग्राउंड में।

– लुधियाना: जगराओं रेलवे स्टेशन से करीब 400 मीटर दूर पार्क में।

– रूपनगर: रेलवे ट्रैक से 200 मीटर दूर स्टेशन के पीछे की तरफ पार्क में।

– गुरदासपुर: रेलवे ट्रैक से सौ मीटर दूर बाहर पाॄकग में।

– पटियाला: शंभू रेलवे स्टेशन परिसर में रेल ट्रैक से 50 मीटर दूर।

– मोगा: रेलवे स्टेशन परिसर में ट्रैक से 100 मीटर दूर।

-संगरूर: रेलवे स्टेशन के बाहर पाॄकग में ट्रैक से 100 दूर।

– फरीदकोट: फरीदकोट रेलवे स्टेशन परिसर में ट्रैक से 100 मीटर दूर, जैतो रेलवे स्टेशन परिसर में ट्रैक से 100 मीटर दूर और रोमना अलबेल सिंह रेलवे स्टेशन परिसर में ट्रैक से 50 मीटर दूर।

– बरनाला: रेलवे स्टेशन के बाहर ट्रैक से 100 मीटर दूर।

– फतेहगढ़: रेलवे स्टेशन के मेन गेट के बाहर रेल ट्रैक से 50 मीटर दूर।

– फिरोजपुर: कैंट रेलवे स्टेशन परिसर रेल ट्रैक  से 100 मीटर और मक्खू रेलवे स्टेशन परिसर में रेल ट्रैक से 100 मीटर दूर।

– फाजिल्का: रेलवे स्टेशन परिसर में रेल ट्रैक से 50 मीटर दूर।

– बठिंडा: मुल्तानिया रेलवे ओवर ब्रिज के पास ट्रैक से 50 मीटर और गांव कनकवाल में रेलवे ट्रैक से 15 मीटर दूर।

– मानसा: रेलवे स्टेशन पर रेल ट्रैक से 100 मीटर दूर।

– मुक्तसर: मुक्तसर रेलवे स्टेशन के प्लेट फार्म पर, गिद्दड़बाहा रेलवे स्टेशन परिसर में ट्रैक से 100 मीटर और थेहड़ीगांव रेलवे स्टेशन परिसर में ट्रैक से 100 दूर।

टोल प्लाजा पर धरने जारी

अधिकतर जिलों में टोल प्लाजा और कुछ कारपोरेट घरानों के व्यावसायिक प्रतिष्ठानों के बाहर भी किसान धरने पर बैठे हैं। टोल प्लाजा पर शुल्क नहीं लेने दिया जा रहा है। अमृतसर में भाजपा के राज्यसभा सदस्य श्वेत मलिक की कोठी के बाहर भी लगातार धरना चल रहा है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News