Cover
ब्रेकिंग
दिल्ली सीमा पर डटे किसानों को हटाने पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, CJI बोले- बात करके पूरा हो सकता है मकसद UP के अगले विधानसभा चुनाव में ओवैसी-केजरीवाल बिगाड़ सकते हैं विपक्ष का गणित सावधान! CM योगी का बदला मिजाज, अब कार से करेंगे किसी भी जिले का औचक निरीक्षण संसद का शीतकालीन सत्र नहीं चलाने पर भड़की प्रियंका गांधी पाक सेना ने राजौरी मे अग्रिम चौकियों पर गोलीबारी की संत बाबा राम सिंह की मौत पर कमलनाथ बोले- पता नहीं मोदी सरकार नींद से कब जागेगी गृह मंत्री के विरोध में उतरे पूर्व सांसद कंकर मुंजारे गिरफ्तार, फर्जी नक्सली मुठभेड़ को लेकर तनाव मोबाइल लूटने आए बदमाश को मेडिकल की छात्रा ने बड़ी बहादुरी से पकड़ा कांग्रेस बोलीं- जुबान पर आ ही गया सच, कमलनाथ सरकार गिराने में देश के PM का ही हाथ EC का कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश, चुनाव में पैसे के गलत इस्तेमाल का आरोप

नेपाल के पीएम ओली के बदले तेवर, आर्मी चीफ नरवणे से बोले- भारत हमारा अच्छा दोस्त

नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली ने शुक्रवार को भारतीय सेना प्रमुख जनरल एम एम नरवणे के साथ एक मुलाकात के दौरान कहा कि दोनों देशों के बीच समस्याओं का समाधान बातचीत के जरिये किया जाएगा। जनरल नरवणे ने ओली से शिष्टाचार भेंट की। जनरल की तीन दिवसीय नेपाल यात्रा का उद्देश्य दोनों देशों के बीच संबंधों में नए सिरे से सामंजस्य स्थापित करना है। नेपाल ने इस वर्ष की शुरुआत में एक नया राजनीतिक मानचित्र जारी किया था और उत्तराखंड के कुछ क्षेत्रों को अपना हिस्सा बताया था जिसके बाद दोनों पड़ोसी देशों के संबंधों में तनाव आ गया था।

दोनों देशों के बीच विचारों का हुआ आदान-प्रदान 
ओली नेपाल के रक्षा मंत्री भी हैं। प्रधानमंत्री ओली के विदेश मामलों के सलाहकार रंजन भट्टाराई के अनुसार, ओली ने कहा कि नेपाल और भारत के बीच अच्छी मित्रता है। भट्टाराई ने बैठक के बाद ट्वीट किया कि ओली ने उम्मीद जतायी कि कि दोनों देशों के बीच समस्याओं का समाधान बातचीत के जरिये होगा। बैठक के दौरान ओली ने नेपाल और भारत के बीच मौजूद सदियों पुराने विशेष संबंधों और एक-दूसरे के सेना प्रमुखों को सेना के मानद जनरल की उपाधि देने की परंपरा का उल्लेख किया। दोनों पक्षों ने भारत और नेपाल के बीच व्यापक द्विपक्षीय साझेदारी पर विचारों का आदान-प्रदान भी किया। जनरल नरवणे ने इसकी पुष्टि की कि वह दोनों देशों के बीच रक्षा सहयोग को और मजबूत करने के लिए काम करेंगे। दूतावास ने एक बयान में कहा कि जनरल नरवणे ने नेपाल के प्रधानमंत्री ओली और नेपाल के लोगों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शुभकामनाएं दी।

नरवणे ने भारतीय दूतावास का भी किया दौरा 
भारतीय सेना प्रमुख ने गर्मजोशी भरे आथित्य के लिए नेपाल सरकार के प्रति व्यक्तिगत आभार भी व्यक्त किया। जनरल नरवणे अपनी यात्रा के अंत में भारतीय दूतावास भी गए जहां उन्हें नेपाल में भारतीय सेना के लगभग 230,000 भूतपूर्व सैनिकों और उनके परिवारों के लिए कल्याणकारी गतिविधियों के बारे में जानकारी दी गई। नेपाल में जनरल नरवणे के कार्यक्रम में वहां सेना के मुख्यालय का दौरा और नेपाल की सेना के प्रमुख जनरल पूर्ण चंद्र थापा द्वारा उनके सम्मान में आयोजित भोज में शरीक होना शामिल था। बृहस्पतिवार को दोनों सेना प्रमुखों ने वार्ता की थी और द्विपक्षीय सैन्य सहयोग को बढ़ावा देने के तरीकों पर चर्चा की थी। नेपाल की सेना के सूत्रों के अनुसार दोनों ने परस्पर सुरक्षा चिंताओं से संबंधित मुद्दों पर चर्चा की।

क्या था भारत नेपाल के बीच​ का विवाद 
गौरतलब है कि नेपाल ने इस वर्ष की शुरुआत में एक नया राजनीतिक मानचित्र जारी किया था और उत्तराखंड के कुछ क्षेत्रों को अपना हिस्सा बताया था जिसके बाद दोनों पड़ोसी देशों के रिश्तों में तनाव आ गया था। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा आठ मई को उत्तराखंड के धारचूला को लिपुलेख दर्रे से जोड़ने वाली 80 किलोमीटर लंबी रणनीतिक सड़क का उद्घाटन किए जाने के बाद नेपाल ने विरोध जताया था। नेपाल ने दावा किया था कि यह सड़क उसके क्षेत्र से होकर गुजरती है। कुछ दिनों बाद, उसने लिपुलेख, कालापानी और लिंपियाधुरा को अपने क्षेत्र के तौर पर दिखाते हुए नया नक्शा जारी किया था। भारत ने भी नवंबर 2019 में एक नया नक्शा प्रकाशित किया था जिसमें इन क्षेत्रों को भारत के क्षेत्र के रूप में दिखाया गया था।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News