Cover
ब्रेकिंग
EOW ने नगर निगम के सिटी प्लानर को 50 लाख की रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा, नगर निगम ने पद से हटाया पति बनाना चाहता है मुस्लिम, घर में देवी देवताओं की तस्वीरें भी नहीं रखने देता, महिला पहुंची थाने दिल्ली पुलिस में कांसटेबल भर्ती परीक्षा में धांधली कराने वाले 12 आरोपी गिरफ्तार कोरोना काल में आगरा जेल से पैरोल पर छोड़े गए 114 बंदियों में 85 नहीं हुए हाजिर सोमवार को SCO समिट में हिस्सा लेंगे पीएम मोदी, चौथी बार आमने सामने होंगे भारत-चीन जम्मू-कश्मीरः DDC चुनाव में दिखा लोगों का उत्साह, पहले चरण में 52 फीसदी वोटिंग कोरोना वैक्‍सीन के लि‍ए पीएम मोदी सीरम इंस्‍टीट्यूट पहुंचे, ली जानकारी गुजरात में अलंग शिप यार्ड के अपग्रेडेशन के लिए एनजीटी ने किया हस्तक्षेप करने से इन्कार राजनाथ बोले, एक सीमा तक शांति के मार्ग पर चलता रहेगा भारत, मोदी सरकार में हर मोर्चे पर मजबूती से डटा है देश सीमा पार के आतंकियों को खटक रहा घाटी का अमन चैन, सेना प्रमुख बोले- LoC पार बड़ी संख्‍या में लॉन्चिंग पैड मौजूद

अमेरिका जैसी सैन्य क्षमता पाने का सपना देख रहा चीन, 2027 तक का लक्ष्‍य, कम्युनिस्ट पार्टी ने संकल्प पर लगाई मुहर

बीजिंग। चीन में सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के वार्षिक अधिवेशन में उस योजना पर मुहर लगा दी गई जिसमें 2027 तक सेनाओं का आधुनिकीकरण कर उन्हें अमेरिकी सेना के मुकाबले में खड़ा करना है। 2027 में पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) अपनी स्थापना के 100 वर्ष पूरे करेगी। इस बीच अमेरिका ने भी अपनी क्षमता बढ़ाने के लिए अपने युद्धपोतों पर हाइपरसोनिक मिसाइल तैनात करने का फैसला किया है।

बताया जाता है कि ये मिसाइल ध्वनि की रफ्तार से पांच गुना ज्यादा गति से जाकर दुश्मन पर हमला करेंगी। कम्युनिस्ट पार्टी के फैसले की जानकारी देते हुए चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने बताया है कि पीएलए की स्थापना के 100 वर्ष पूरे होने पर उसे पूरी तरह से आधुनिक सेना में तब्दील करने का लक्ष्य रखा गया है। यह देश के सुरक्षित भविष्य के लिए जरूरी भी है।

चार दिन के पार्टी के अधिवेशन के समापन सत्र की अध्यक्षता कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव व राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने की। इसमें 2021 से 2025 के बीच क्रियान्वित की जाने वाली 14 वीं पंचवर्षीय योजना पर भी मुहर लगाई गई। इसके जरिये देश का सामाजिक और आर्थिक विकास किया जाएगा। घरेलू बाजार को बढ़ावा देते हुए उसमें माल की खपत बढ़ाई जाएगी, जिससे चीन की अर्थव्यवस्था स्वकेंद्रित बने।

चीन की कम्‍युनिस्‍ट पार्टी का मानना है कि 14वीं पंचवर्षीय योजना के जरिए ही 2035 के लिए निर्धारित विकास लक्ष्यों की प्राप्ति की जाएगी। राष्ट्रपति चिनफिंग ने 2035 तक चीन को दुनिया की सबसे बड़ी आर्थिक और सैन्य ताकत बनाने का लक्ष्य निर्धारित किया है। आसार ये हैं कि वह आने वाले 15 साल चीन की सत्ता पर भी काबिज रह सकते हैं। चिनफिंग को सत्ता में बनाए रखने के लिए आवश्यक संविधान संशोधन हो चुका है।

चीन की बढ़ती ताकत के मद्देनजर अमेरिका ने भी अपनी सैन्य क्षमता में इजाफा करने का फैसला किया है। चीन के युद्धपोतों पर सुपरसोनिक मिसाइलों की तैनाती के फैसले के बाद अमेरिका ने अपने युद्धपोतों पर हाइपरसोनिक मिसाइलों की तैनाती का फैसला किया है। रक्षा मंत्री मार्क एस्पर ने कहा है कि अमेरिका को अपनी सामुद्रिक श्रेष्ठता बनाए रखने के लिए 500 और युद्धपोत चाहिए। इनके जरिये अमेरिकी नौसेना चीन पर बढ़त बनाए रहेगी।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News