Cover
ब्रेकिंग
दिल्ली सीमा पर डटे किसानों को हटाने पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, CJI बोले- बात करके पूरा हो सकता है मकसद UP के अगले विधानसभा चुनाव में ओवैसी-केजरीवाल बिगाड़ सकते हैं विपक्ष का गणित सावधान! CM योगी का बदला मिजाज, अब कार से करेंगे किसी भी जिले का औचक निरीक्षण संसद का शीतकालीन सत्र नहीं चलाने पर भड़की प्रियंका गांधी पाक सेना ने राजौरी मे अग्रिम चौकियों पर गोलीबारी की संत बाबा राम सिंह की मौत पर कमलनाथ बोले- पता नहीं मोदी सरकार नींद से कब जागेगी गृह मंत्री के विरोध में उतरे पूर्व सांसद कंकर मुंजारे गिरफ्तार, फर्जी नक्सली मुठभेड़ को लेकर तनाव मोबाइल लूटने आए बदमाश को मेडिकल की छात्रा ने बड़ी बहादुरी से पकड़ा कांग्रेस बोलीं- जुबान पर आ ही गया सच, कमलनाथ सरकार गिराने में देश के PM का ही हाथ EC का कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश, चुनाव में पैसे के गलत इस्तेमाल का आरोप

दशहरे की शुभकामनाएं देकर अपने ही देश में घिरे नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा, लोग हुए नाराज

भारत के खिलाफ नफरत फैला रहे नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के तेवर नरम पड़ते दिखाई दे रहे हैं। उन्होंने दशहरे के मौके पर लोगों को शुभकामनाएं संदेश दिया। ओली ने ट्विटर पर नेपाल के पुराना नक्‍शा का इस्‍तेमाल किया है, जिसमें भारत के तीन क्षेत्रों को नेपाल का हिस्सा नहीं दिखाया गया है।

प्रधानमंत्री कार्यालय ने दी सफाई 
नेपाल के प्रधानमंत्री के इस ट्वीट से देशवासी नाराज हो गए हैं और उनकी आलोचना कर रहे हैं। हालांकि प्रधानमंत्री कार्यालय ने इस आरोपों को खारिज किया और कहा कि संशोधित मानचित्र का आकार छोटा है और इस लिए वह दिख नहीं रहा है। जून में नेपाल की संसद ने देश के नए मानचित्र को मंजूरी दी थी जिसमें कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा को नेपाल का हिस्सा दिखाया गया था जो उत्तराखंड के पिथौरागढ़ का भाग है।

सोशल मीडिया पर मचा बवाल 
फेसबुक और ट्विटर समेत सोशल मीडिया पर तमाम लोगों ने कहा कि प्रधानमंत्री ओली ने भारत की खुफिया एजेंसी ‘रिसर्च एंड एनालिसिस विंग'(रॉ) के प्रमुख सामंत कुमार गोयल के साथ मुलाकात के बाद जानबूझकर संशोधित मानचित्र हटा दिया। मुख्य विपक्षी दल नेपाली कांग्रेस के प्रवक्ता विश्व प्रकाश शर्मा ने कहा, “प्रधानमंत्री के शुभकामना संदेश में पुराना मानचित्र है जिसमें लिंपियाधुरा शामिल नहीं है। यह सामान्य गलती कैसे हो सकती है?

लोगों ने पूछे सवाल 
बहुत से लोगों ने अपनी सोशल मीडिया पोस्ट के माध्यम से पूछा कि प्रधानमंत्री कार्यालय ने उस मानचित्र से सरकारी चिह्न क्यों हटा लिया जिसमें लिपुलेख, कालापानी और लिंपियाधुरा शामिल है। आलोचना का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री के प्रेस सलाहकार सूर्य थापा ने एक वक्तव्य जारी कर कहा कि प्रधानमंत्री के संदेश में संशोधित मानचित्र का प्रयोग किया गया था लेकिन अत्यंत छोटा होने के कारण वह नजर नहीं आ रहा।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News