Cover
ब्रेकिंग
Rhea Chakraborty के भाई शौविक चक्रवर्ती को लगभग 3 महीने बाद मिली ज़मानत, ड्रग्स केस में हुई थी गिरफ़्तारी कांग्रेस का आरोप, केंद्र सरकार ने बैठक कर किसानों की आंखों में झोंकी धूल मुंबई: यूपी फिल्म सिटी निर्माण पर बोले सीएम योगी आदित्यनाथ- हम यहां कुछ लेने नहीं, नया बनाने आए कर्नाटक में जनवरी-फरवरी में कोविड-19 की दूसरी लहर की आशंका, लोगों में डर का माहौल दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण पर सख्त NGT, क्रिसमस-नए साल पर पटाखे नहीं चला पाएंगे लोग जाधव के लिए वकील नियुक्ति मामले पर विस्तार से चर्चा की सलाह, अहलूवालिया रखेंगे भारत का पक्ष पीड़िता बोली- ससुर करता था अश्लील हरकतें, 2 महीने की बच्ची पर भी तरस नहीं किया, दे दिया तीन तलाक भगवान को ठंड से बचाने के लिए भक्तों ने ओढ़ाए गर्म वस्त्र भूमाफिया बब्बू और छब्बू पर चला प्रशासन का डंडा, अवैध निर्माण जमींदोज दर्दनाक हादसे का सुखद अंत: 3 लोगों समेत अनियंत्रित बोलेरो गहरी नदी में समाई

IPL 2020: पंजाब के खिलाफ मैं चौथे नंबर पर बल्लेबाजी की उम्मीद कर रहा था- डिविलियर्स

 शारजाह में शुक्रवार की रात काफी व्यस्त रही। एक बात मैं और साफ कर देना चाहता हूं, मैं एक टीम मैन हूं। अगर कोच और कप्तान किसी रणनीति पर सहमत होते हैं तो मैं उन पर किसी तरह का संदेह नहीं करता, बल्कि मेरा पूरा समर्थन रहता है। टीम के खेल में ऐसा ही होता है और इसी तरह से एक सफल टीम काम करती है। पंजाब के खिलाफ बैंगलोर ने पहले बल्लेबाजी का फैसला किया और मैं चौथे नंबर पर बल्लेबाजी की उम्मीद कर रहा था। जब छठे ओवर में दूसरा विकेट गिरा तो मैंने उस गेट को पार करना शुरू कर दिया, जिसका रास्ता मैदान की ओर जाता है।

ठीक उसी वक्त मुझसे इंतजार करने को कहा गया क्योंकि कोच और कप्तान ने ये फैसला किया था कि हमें उस वक्त गेंदबाजी कर रहे पंजाब के दो लेग स्पिनरों के सामने दायें और बायें हाथ के बल्लेबाजों का संयोजन बनाए रखना है। ये बिल्कुल सही फैसला था। दुनियाभर की टीमें लेग स्पिनर के सामने बायें हाथ के बल्लेबाजों को खिलाने को प्राथमिकता देती हैं। मैंने तब इस फैसले पर कोई सवाल नहीं उठाया जब ये लिया गया और न ही मैं अब इस पर कोई सवाल खड़ा कर रहा हूं। मेरी तरफ से इसे लेकर किसी तरह की कोई समस्या नहीं है।

क्रिस मौरिस की आक्रामक बल्लेबाजी के बाद हमारी टीम 20 ओवर में छह विकेट पर 171 रन तक पहुंच गई। हो सकता है कि शारजाह की धीमी पिच पर हमें जितने रनों की दरकार थी, ये उससे कुछ रन कम थे। केएल राहुल, मयंक अग्रवाल और क्रिस गेल सभी ने लक्ष्य का पीछा करने में अहम योगदान दिया। आखिरी वक्त में कुछ डरावने अनुभव के बावजूद पंजाब की टीम आइपीएल में अपनी उम्मीदों को जिंदा रखने वाली जीत हासिल करने में सफल रही। मेरा तो यही मानना है कि इस टूर्नामेंट में अपना दिन होने पर कोई भी टीम किसी भी टीम को हरा सकती है।

जहां तक आरसीबी की बात है तो हमें इस निराशाजनक हार से बाहर निकलकर मेहनत जारी रखनी है और शनिवार को राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ दुबई में होने वाले अगले मुकाबले में लय हासिल करनी है। अपनी बात करूं तो मैं टीम की जरूरत के हिसाब से कभी भी, कहीं भी बल्लेबाजी के लिए तैयार हूं ताकि इस लीग को जीतने के अभियान में टीम की मदद कर सकूं।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News