Cover
ब्रेकिंग
याेगी सरकार ने लव जिहाद कानून काे दी मंजूरी, साधू संतों ने फैसले का किया स्वागत अहमद पटेल के निधन पर बोले दिग्विजय- वे सभी कांग्रेसियों के लिए हर राजनैतिक मर्ज़ की दवा थे विजय सिन्‍हा चुने गए स्‍पीकर ,पक्ष में पड़े 126 वोट, विपक्ष में 114 नगरोटा साजिश के पीछे था पाक का हाथ! आतंकियों के पास से मिले डिवाइस ने खोले कई राज राहुल गांधी ने किए तरुण गोगोई के अंतिम दर्शन, बोले- मैंने अपने गुरु को खो दिया चौहान, कमलनाथ, दिग्विजय, सिंधिया ने पटेल के निधन पर शोक व्यक्त किया अहमद पटेल के निधन पर बोले दिग्विजय- वे सभी कांग्रेसियों के लिए हर राजनैतिक मर्ज़ की दवा थे आज तमिलनाडु के तटों से टकराएगा 'निवार', MP में दिखेगा असर, बदलेंगे मौसम के मिजाज UP के बाद मध्य प्रदेश में जल्द बनेगा लव जेहाद के खिलाफ कानून, गृहमंत्री ने बुलाई अहम बैठक पश्चिम रेलवे की पहली किसान रेल सेवा शुरु, सांसद शंकर लालवानी ने दिखाई हरी झंडी

बीजेपी के पोस्टर बॉय नहीं बन पाए सिंधिया, चुनावी रथ के पोस्टर में नहीं लगी सिंधिया की फोटो

भोपाल: राज्य की 28 सीटों पर होने वाले उपचुनाव में भले ही ज्योतिरादित्य सिंधिया रात दिन एक किए हुए हैं लेकिन राजधानी भोपाल में चुनावी रथ यात्रा में भाजपा के दिग्गज नेताओं ने एक बार फिर से सिंधिया की अनदेखी की है। इस चुनावी रथ यात्रा में लगे पोस्टरों में एक तरफ पीएम नरेंद्र मोदी, जेपी नड्डा और दूसरी तरफ सीएम शिवराज सिंह चौहान व बीडी शर्मा की फोटो लगाई गई। साथ में बड़े बड़े अक्षरों में लिखा गया शिवराज है तो विश्वास है लेकिन सिंधिया का कहीं जिक्र तक नहीं है।

दरअसल, कोरोनाकाल में पार्टी और सरकार को जनता तक पहुंचाने के लिए चुनाव अभियान प्रबंध समिति ने हाईटेक डिजिटल रथों को रवाना किया है। इसमें स्लोगन दिया है कि ‘शिवराज है तो विश्वास है’। जिसमें बताया गया है कि छह महीने में शिवराज सरकार ने अभूतपूर्व कार्य किया है। इन पोस्टरों में बड़े बड़े पोस्टर लगाए गए हैं। लेकिन ज्योतिरादित्य सिंधिया जो विधानसभा उपचुनाव में जनसंपर्क में जुटे हुए है उनकी एक तस्वीर तक नहीं लगाई गई। हालांकि कई रैलियों में शिवराज सिंह चौहान व ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कई मंच शेयर किए हैं।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News