Cover
ब्रेकिंग
दिल्ली सीमा पर डटे किसानों को हटाने पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, CJI बोले- बात करके पूरा हो सकता है मकसद UP के अगले विधानसभा चुनाव में ओवैसी-केजरीवाल बिगाड़ सकते हैं विपक्ष का गणित सावधान! CM योगी का बदला मिजाज, अब कार से करेंगे किसी भी जिले का औचक निरीक्षण संसद का शीतकालीन सत्र नहीं चलाने पर भड़की प्रियंका गांधी पाक सेना ने राजौरी मे अग्रिम चौकियों पर गोलीबारी की संत बाबा राम सिंह की मौत पर कमलनाथ बोले- पता नहीं मोदी सरकार नींद से कब जागेगी गृह मंत्री के विरोध में उतरे पूर्व सांसद कंकर मुंजारे गिरफ्तार, फर्जी नक्सली मुठभेड़ को लेकर तनाव मोबाइल लूटने आए बदमाश को मेडिकल की छात्रा ने बड़ी बहादुरी से पकड़ा कांग्रेस बोलीं- जुबान पर आ ही गया सच, कमलनाथ सरकार गिराने में देश के PM का ही हाथ EC का कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश, चुनाव में पैसे के गलत इस्तेमाल का आरोप

किसानों से राहुल गांधी की ‘दिल की बात’, बोले- आपकी आवाज से हिंदुस्तान होगा आजाद

कृषि संबंधी कानूनों के खिलाफ कांग्रेस और कई अन्य विपक्षी दलों ने केंद्र सरकार ने मोर्चा खोल दिया है। कांग्रेस नेताओं ने ऐलान किया कि वे इन कानूनों को उच्चतम न्यायालय में चुनौती देंगे। इसी विरोध के बीच कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने बिल को लेकर किसानों के ‘दिल की बात’ जानी।  राहुल गांधी ने कहा कि किसान भाईयों की आवाज देश को आजादी दिला सकती है।

कांग्रेस पार्टी ने मंगलवार को राहुल गांधी और किसानों के बीच की बातचीत का वीडियो जारी किया।  इसमें राहुल गांधी किसानों से पूछते हैं कि आपको क्यों लग रहा है कि एमएसपी चली जाएगी। इसपर किसान कहते हैं अगर कृषि कानून से किसानों को फायदा होता है तो एमएसपी के लिए सरकार कानून क्यों नहीं बनाती है। इस दौरान राहुल गांधी कहते हैं कि किसान की आवाज से ही हिंदुस्तान आजाद हुआ और आज एक बार फिर किसान की आवाज से हिंदुस्तान आजाद होगा।

कांग्रेस नेता ने सोमवार को सरकार पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया कि किसानों की आवाज संसद और बाहर दोनों जगह दबाई गई। उन्होंने कहा कि कृषि संबंधी कानून हमारे किसानों के लिए मौत का फरमान हैं। उनकी आवाज संसद और बाहर दोनों जगह दबाई गई। यहां इस बात का सबूत है कि भारत में लोकतंत्र खत्म हो गया है।

PunjabKesari

बता दें कि हाल ही में संपन्न मानसून सत्र में संसद ने कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्द्धन और सुविधा) विधेयक-2020 और कृषक (सशक्तीकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन समझौता और कृषि सेवा पर करार विधेयक-2020 को मंजूरी दी। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने रविवार को इन विधेयकों को मंजूरी प्रदान कर दी जिसके बाद ये कानून बन गए।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News