Cover
ब्रेकिंग
EOW ने नगर निगम के सिटी प्लानर को 50 लाख की रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा, नगर निगम ने पद से हटाया पति बनाना चाहता है मुस्लिम, घर में देवी देवताओं की तस्वीरें भी नहीं रखने देता, महिला पहुंची थाने दिल्ली पुलिस में कांसटेबल भर्ती परीक्षा में धांधली कराने वाले 12 आरोपी गिरफ्तार कोरोना काल में आगरा जेल से पैरोल पर छोड़े गए 114 बंदियों में 85 नहीं हुए हाजिर सोमवार को SCO समिट में हिस्सा लेंगे पीएम मोदी, चौथी बार आमने सामने होंगे भारत-चीन जम्मू-कश्मीरः DDC चुनाव में दिखा लोगों का उत्साह, पहले चरण में 52 फीसदी वोटिंग कोरोना वैक्‍सीन के लि‍ए पीएम मोदी सीरम इंस्‍टीट्यूट पहुंचे, ली जानकारी गुजरात में अलंग शिप यार्ड के अपग्रेडेशन के लिए एनजीटी ने किया हस्तक्षेप करने से इन्कार राजनाथ बोले, एक सीमा तक शांति के मार्ग पर चलता रहेगा भारत, मोदी सरकार में हर मोर्चे पर मजबूती से डटा है देश सीमा पार के आतंकियों को खटक रहा घाटी का अमन चैन, सेना प्रमुख बोले- LoC पार बड़ी संख्‍या में लॉन्चिंग पैड मौजूद

नहीं हुआ MP विधानसभा उपचुनाव की तारीखों का ऐलान, 25 को होगी घोषणा

भोपाल: चुनाव आयोग ने आज दिल्ली में हुई प्रेस कान्फ्रेंस में बिहार चुनाव की घोषणा तो कर दी गई लेकिन फिलहाल मध्य प्रदेश विधानसभा उपचुनाव की तारीखों का ऐलान नहीं किया गया। हालांकि ये जरुर बताया गया है कि 29 सिंतबर को मध्यप्रदेश के उपचुनाव की तारीखों का ऐलान किया जाएगा। आपकों बता दें कि चुनाव आयोग ने कहा था कि बिहार चुनाव के साथ ही मध्य प्रदेश में उपचुनाव होंगे। हालांकि आज बिहार चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया गया है लेकिन मध्य प्रदेश उपचुनाव की तारिखों की घोषणा नहीं की गई।

दांव पर हैं कांग्रेस और बीजेपी के बड़े चेहरे
इन उपचुनावों में जीत हासिल कर जहां बीजेपी सत्ता में काबिज रहने की कोशिश करेगी वहीं कमलनाथ की छह महीने पहले खोई सत्ता वापस पाने की लड़ाई है। इसके साथ ही दूसरी बड़ी लड़ाई कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया की साख भी दांव पर लगी है। क्योंकि, जिन 28 सीटों पर उपचुनाव हो रहा है उनमें 16 सीटें सिंधिया के प्रभाव वाले ग्वालियर-चंबल क्षेत्र की है।

इन 28 सीटों पर होंगे चुनाव
बता दें कि राज्य में 28 सीटों पर विधानसभा उपचुनाव होने हैं। इनमें से 22 सीटें ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ भाजपा में शामिल हुए विधायकों के कारण खाली हुई है। वहीं एक सीट बड़ा मलहरा से कांग्रेस विधायक प्रद्युम्न सिंह लोधी और नेपानगर से कांग्रेस विधायक सुमित्रा देवी कसडेकर के कारण खाली हुई थी। इसके बाद फिर मांधाता विधायक ने भी कांग्रेस छोड़ बीजेपी ज्वाइंन कर ली। इसके अलावा, 3 विधायकों के निधन हो गया। यानी कुल 28 विधानसभा सीटें खाली हो गई। वहीं दूसरी बड़ी बात यह है कि राज्य की जिन 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होना है, उनमें से 27 पर पहले कांग्रेस का कब्जा था। ऐसे में कांग्रेस के लिए यह बड़ी प्रतिष्ठा का सवाल है। प्रदेश में 230 सदस्यीय राज्य विस में बहुमत के लिए 116 सीटें होना जरूरी हैं।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News