Cover
ब्रेकिंग
दिल्ली सीमा पर डटे किसानों को हटाने पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, CJI बोले- बात करके पूरा हो सकता है मकसद UP के अगले विधानसभा चुनाव में ओवैसी-केजरीवाल बिगाड़ सकते हैं विपक्ष का गणित सावधान! CM योगी का बदला मिजाज, अब कार से करेंगे किसी भी जिले का औचक निरीक्षण संसद का शीतकालीन सत्र नहीं चलाने पर भड़की प्रियंका गांधी पाक सेना ने राजौरी मे अग्रिम चौकियों पर गोलीबारी की संत बाबा राम सिंह की मौत पर कमलनाथ बोले- पता नहीं मोदी सरकार नींद से कब जागेगी गृह मंत्री के विरोध में उतरे पूर्व सांसद कंकर मुंजारे गिरफ्तार, फर्जी नक्सली मुठभेड़ को लेकर तनाव मोबाइल लूटने आए बदमाश को मेडिकल की छात्रा ने बड़ी बहादुरी से पकड़ा कांग्रेस बोलीं- जुबान पर आ ही गया सच, कमलनाथ सरकार गिराने में देश के PM का ही हाथ EC का कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश, चुनाव में पैसे के गलत इस्तेमाल का आरोप

दिल्ली-NCR की हवा में मामूली सुधार, मौसम विभाग ने किया आगाह, अगले चार-पांच दिन खतरनाक

दिल्ली-एनसीआर की हवा में गुरुवार को मामूली-सा सुधार देखने को मिला। वहीं भारत मौसम विभाग ने अगले कुछ दिन दिल्ली में एयर क्वॉलिटी बेहद खराब रहने की आंशका जताई है। विभाग के मुताबिक 4 दिसंबर से 7 दिसंबर तक वायु गुणवत्ता ‘बेहद खराब’ श्रेणी से गंभीर श्रेणी में पहुंच सकती है। मौसम विभाग में पर्यावरण निगरानी और शोध केंद्र के प्रमुख वी. के. सोनी ने बताया, 4 दिसंबर को वेस्टर्न डिस्टर्बन्स (पश्चिमी विक्षोभ) आने वाला है जिससे हवा की रफ्तार बहुत धीमी रहेगी। हवा की रफ्तार धीमी रहने से प्रदूषक कणों में बढ़ोतरी हो सकती है।

प्रदूषण की जानकारी देने वाले ऐप ‘समीर’ के अनुसार NCR के कुछ शहर बुधवार को ‘डार्क रेड जोन’ में थे, जबकि गुरुवार को ये ‘रेड जोन’ में आ गए हैं। ऐप के अनुसार गुरुवार सुबह नोएडा और ग्रेटर नोएडा में वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) 360 दर्ज किया गया, गाजियाबाद में यह सूचकांक 376 रहा। बुलंदशहर में AQI 384 रहा, हापुड़ में 178, फरीदाबाद में 314, गुरुग्राम में 315 दर्ज किया गया। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) में छह दिनों बाद वायु गुणवत्ता में मामूली सुधार हुआ है।

वायु प्रदूषण बढ़ने की वजह से NCR में लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। लोगों को सांस लेने में परेशानी हो रही है, तथा आंखों में जलन हो रही है। वायु प्रदूषण रोकने के लिए 15 अक्तूबर से ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान (ग्रेप) लागू है, लेकिन इसका असर नहीं दिख रहा है। हालांकि विशेषज्ञों का कहना है कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में कई दिनों से किसानों के प्रदर्शन के कारण वाहनों की आवाजाही प्रभावित होने से वायु गुणवत्ता में मामूली सुधार हुआ है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News